जिला कलक्टर का आश्वासन, पेयजल वितरण के शीघ्र सुधरेंगे हालात

अजमेर, 26 सितम्बर 2018 / पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज़ (पीयूसीएल), अजमेर के प्रतिनिधी मण्डल ने मंगलवार को जिला कलेक्टर आरती डोगरा से भेंट कर अजमेर में पेयजल के लिए मच रही त्राहि-त्राहि को रोकने तथा बीसलपुर बांध पर अजमेर का हक जतलाते हुए नियमित जल आपूर्ति की मांग की। साथ ही इस अवसर पर जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम सम्बोधित ज्ञापन भी दिया।

ज्ञापन में यह बताया गया कि अजमेर के लोगों की पेयजल आवश्यकता की पूर्ति के लिए बाँध का निर्माण हुआ था। बाद में यह व्यवस्था की गयी कि बाँध में पानी का स्तर 309 मीटर से अधिक होने की स्थिति में अतिरिक्त जल अन्य जिलों को भी दिया जा सकेगा। यह परियोजना अजमेर के लोगों के लिए एक सपना ही नहीं थी बल्कि इसके लिए नागरिकों ने लम्बे समय तक संघर्ष भी किया तथा 63 गाँवों के 12 हजार परिवारों के विस्थापन का कष्ट भी उठाया। बावजूद इसके अजमेर के हक़ को तिलांजली देकर बाँध का पानी अन्य जिलों को दिया जा रहा है। इसके चलते अजमेर के कई इलाकों में तीन से चार दिन में भी पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है। हालात ये हो गए हैं कि लोगों को मनमानी दरों पर पानी के टैंकर मंगाने पड़ रहे हैं।

प्रतिनिधी दल के साथ हुई वार्ता में जिला कलेक्टर ने स्वीकार किया कि वर्तमान में पेयजल व्यवस्था चरमराई हुई है और उन्होंने आश्वासन दिया कि दो-तीन दिन में हालात सामान्य हो जायेंगे। उन्होंने बताया कि मोहर्रम के कारण जायरीनों की सुविधा हेतु 10 एम.एल.डी. जल उपलब्ध करवाए जाने तथा उन्हीं दिनों बीसलपुर से आवक कम हो जाने के कारण पेयजल आपूर्ति में बाधा उत्पन्न हो गई थी। उन्होंने आश्वस्त किया कि अब पर्याप्त मात्रा में जल प्राप्त हो गया है और वितरण व्यवस्था की कमियों को दुरूस्त किया जा रहा है।

बीसलपुर के जल को अन्य जिलों को दिये जाने के सवाल पर उन्होंने स्पष्ट किया कि बीसलपुर बांध के 309 मीटर ऊंचाई से ऊपर जलस्तर का जल अन्य जिलों को दिये जाने का प्रावधान है, परन्तु कम वर्षा एवं मोहर्रम के दौरान जल की आपूर्ति के कारण जल स्तर के कम होने से अजमेर सहित अन्य जिलों को दिये जा रहे जल की मात्रा में भी कटौती की गई है।

पेयजल वितरण का समय निर्धरित नहीं होने के कारण जनता को हो रही तकलीफों को दूर करने के लिए जिला कलक्टर ने बताया कि विभाग ने 252 क्षेत्रों के लिए पेयजल वितरण के दिन एवं समय निर्धारित किया हुआ है, उसी के अनुरूप जलापूर्ति की जा रही है। पीयूसीएल के राज्य महासचिव डा. अनन्त भटनागर ने सुझाव दिया कि यह समय सारिणी जलदाय विभाग के वेबसाइट पर जारी की जानी चाहिए। सुश्री डोगरा ने इसे स्वीकारते हुए कहा कि प्रशासन तथा जलदाय विभाग की वेबसाइट पर यह सारिणी उपलब्ध रहा करेगी।

पीयूसीएल के राज्य उपाध्यक्ष डी.एल. त्रिपाठी ने जल संकट के स्थायी समाधान के लिए चम्बल के जल को अजमेर तक पहुंचाने की मांग की। सुश्री डोगरा ने बताया कि राज्य सरकार ने इस मिशन के लिए 6000 करोड़ की योजना बनाई है। केन्द्र सरकार की स्वीकृति व सहायता से ही यह सम्भव हो पाएगा। प्रतिनिधि मण्डल के साथ मौजूद अंजुमन के सचिव अब्दूल जलाल चिश्ती व शेखजदा जुल्फीकार चिश्ती ने मुहर्रम के दौरान माकूल जल एवं अन्य व्यवस्था के प्रति आभार व्यक्त किया।

पीयूसीएल प्रतिनिधि मण्डल में अध्यक्ष केशव राम सिंघल, महासचिव सिस्टर केराल गीता, ओ.पी. रे, डा. सुरेश अग्रवाल, राधावल्लभ शर्मा, रमेश लालवानी, शेख अब्दुल कम़र, एस.एन. सिन्हा, वर्षा शर्मा चड्ढा, अन्जू नयाल, महादेव रेगर व अनेक नागरिक उपस्थित थे।

कैरोल गीता, सचिव, पीयूसीएल, अजमेर
डी.एल. त्रिपाठी, राज्य उपाध्यक्ष, पीयूसीएल, राजस्थान
डा. अनन्त भटनागर, राज्य सचिव, पीयूसीएल, राजस्थान
PUCL Ajmer, SAMEEKSHA Campus,
Near Pavansut Colony, Opp. T.T. College,
Mirshali, Ajmer-305001
Ph:-0145-2621466, 9414003496, 9414354915,
9828052917, 9828100124, 9414005962
Email:-puclajmer@gmail.co

Leave a Comment

error: Content is protected !!