समस्त राजकीय अधिकारी एवं कर्मचारी सक्षम स्वीकृति से ही छोड़े मुख्यालय

अजमेर, 01 अक्टूबर। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की प्रस्तावित अजमेर यात्रा के मध्य नजर पर समस्त राजकीय अधिकारी एवं कर्मचारी सक्षम स्वीकृति प्राप्त होने पर ही मुख्यालय छोड़ेंगे। अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री एम. एल. नेहरा ने यह बात सोमवार को विभिन्न विभागों की साप्ताहिक समीक्षा बैठक में कही।
श्री नेहरा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की यात्रा के समय विशिष्ट तथा अति विशिष्ट व्यक्तियों के दौरों के दौरान व्यवस्थाओं तथा राजकीय कार्यों की तत्काल समीक्षा के लिए समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी मुख्यालय पर ही उपस्थित रहेंगे। अधिकारी एवं कर्मचारी को विशेष परिस्थिति में मुख्यालय छोड़ने से पूर्व सक्षम स्तर से स्वीकृति प्राप्त करनी होगी।
उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) के माध्यम से गांवों के विकास का खाका तैयार किया जाता है। यह एक सामान्य प्रक्रिया नहीं है। इस बार के जीपीडीपी को आदर्श रूप दिया जायेगा। इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम सभा आयोजन के समय ग्रामीणों, जन प्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के मध्य गहन विचार विमर्श होगा। पंचायत राज को सुपुर्द समस्त विभागों के ब्लॉक स्तरीय अधिकारी अथवा प्रतिनिधि प्रत्येक ग्राम सभा में उपस्थित रहेंगे। उपस्थित रहने वाले अधिकारियों, प्रतिनिधियों की सूचना पहले से ही जीपीडीपी पोर्टल पर अपलोड की जायेगी। इनके द्वारा ग्राम सभा में विभाग की योजनाओं तथा गतिविधियों की जानकारी प्रदान की जायेगी। ग्राम सभाओं के पर्यवेक्षण के लिए जिला स्तर से भी अधिकारी नियुक्त किये जायेंगे।
इस अवसर पर जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अरूण गर्ग, स्थानीय निकाय विभाग के उपनिदेशक श्री किशोर कुमार, जिला रसद अधिकारी श्री संजय माथुर, नगर निगम के उपायुक्त श्री करतार सिहं, एसीएम निधी सिंह सहित समस्त विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

समाज कल्याण सप्ताह 7 अक्टूबर तक
अजमेर, 01 अक्टूबर। जिले में समाज कल्याण सप्ताह का आयोजन अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस एक अक्टूबर से 7 अक्टूबर तक किया जाएगा।
जिला कलक्टर आरती डोगरा ने बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस के अवसर पर समाज कल्याण सप्ताह के तहत विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जायेगें। इसकी औपचारिक शुरूआत एक अक्टूबर से हुई। इस दिन अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर वृद्धों से जुड़ी समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। गांधी -शास्त्री जयंंती 2 अक्टूबर अनुसूचित जातियों का कल्याण दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इस दिन छूआछूत उन्न्मूलन, सेवा बस्तियों के आधुनिकीकरण तथा विशेष स्वच्छता अभियान चलाए जाएंगे। इसके अगले दिन को अपराधी सुधार दिवस के रूप में मनाया जाएगा। बंदियों के जीवन में प्रकाश लाने के लिए गतिविधियां आयोजित की जाएगी। निराश्रित तथा कमजोर वर्ग के बालकों को स्वास्थ्य, खेलकूद एवं शैक्षिणिक गतिविधियों से जोड़ने संबंधी कार्यक्रम 4 अक्टूबर को आयोजित होंगे। महिला कल्याण दिवस 5 अक्टूबर को मनाया जाएगा। इसी प्रकार 6 अक्टूबर को जन चेतना दिवस तथा 7 अक्टूबर को विशेष योग्यजन कल्याण दिवस आयोजित किए जाएंगे।

औद्योगिक प्रोत्साहन शिविर का आयोजन अरबन हॉट में 3 अक्टूबर को
अजमेर, 01 अक्टूबर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर जिला उद्योग केन्द्र, संभाग कार्यालय खादी एवं खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के संयुक्त तत्वावधान में 3 अक्टूबर को प्रातः 10.30 बजे से अरबन हॉट वैशाली नगर अजमेर में औद्योगिक विकास हेतु एक दिवसीय औद्योगिक प्रोत्साहन शिविर का आयोजन किया जाएगा।
जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक श्री सी.बी.नवल ने बताया कि इस शिविर में उद्योग विभाग से जुड़े सभी विभागों, उपक्रमों यथा उद्योग विभाग एमएसएमई विकास संस्थान जयपुर राजस्थान वित्त निगम रीको लि. खादी बोर्ड वाणिज्यिक बैंक, औद्योगिक संघ, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान एवं पोलोटेक्निक कॉलेज, राजस्थान प्रदूषण निवारण नियंत्रण मण्डल, बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान के अधिकारी सम्मिलित होंगे।
उन्होंने बताया कि शिविर में मौके पर ही उद्यमियों को अपेक्षित सहायता एवं सुविधा यथा एमएसएमई एक्ट 2006 अन्तर्गत यूएएम की जानकारी, हस्तशिल्प परिचय पत्र, हस्तशिल्प बाजार सहायता योजना, राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना, भामाशाह रोजगार सृजन योजना अन्तर्गत ऋण आवेदन पत्र तैयार कराने एवं ऑनलाईन आवेदन करने से सहायता कर विभागीय योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। युवा उद्यमी, शिक्षित बेरोजगार एवं दस्तकार औद्योगिक प्रोत्साहन शिविर में भाग लेकर मौके का फायदा उठाएं। अभ्यर्थी अपने साथ आवश्यक दस्तावेज जैसे भामाशाह कार्ड, आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र, पासपोर्ट फोटो, बैंक पासबुक की प्रति, अंकतालिका आदि साथ लेकर आए जिससे मौके पर ऑनलाइन आवेदन पत्र तैयार किए जा सके।

कुष्ठ जागरूकता अभियान 2 से
अजमेर, 01 अक्टूबर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जयंती 2 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक कुष्ठ जागरूकता अभियान चलाकर जन समुदाय को जागरूक किया जाएगा।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.के.सोनी ने बताया कि अक्टूबर माह में कुष्ठ जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान कुष्ठ रोग से संबंधित भं्रातियों को दूर करने का प्रयास किया जाएगा। कुष्ठ रोग एक मामूली बीमारी है, जो एक जीवाणु (लेप्रा बेसिली) से होता है। यह कोई छुआछुत का या आनुवंशिक रोग नहीं है। इसकी जांच एवं ईलाज सभी सरकारी अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों पर मुफ्त में उपलब्ध है। कुष्ठ रोग की शुरूआत में पहचान एवं जांच करवा ली जाए तथा पूर्ण ईलाज लिया जाए तो कुष्ठ रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है एवं शारीरिक विकलांगता से बचा जा सकता है। इसका ईलाज कुछ मामलों में 6 माह एवं कुछ मामलों में 12 माह का हो सकता है।
उन्होंने बताया कि कुष्ठ रोग की पहचान आसान है। इस रोग में चमड़ी पर चमड़ी के रंग से फीका, एक या एक से अधिक दाग या धब्बे जिसमें सुन्नपन, सूखापन, पसीना न आता हो, खुजली या जलन, चुभन न होती हो, तो कुष्ठ रोग हो सकता है।, शरीर पर, चेहरे पर भौंहों के ऊपर, कानों के ऊपर, कानों के उपर सूजनन्गॅठान, दाने या तेलीय चमक दिखाई पड़े तो कुष्ठ रोग हो सकता है। हाथ पैर में सुन्नता, सूखापन एवं कमजोरी होने पर भी कुष्ठ की जांच करवाए। एमडीटी ( कुष्ठ निवारक औषधि) कुष्ठ की शर्तिया दवा है, जो सभ्ज्ञी सरकारी अस्पतालों एवं स्वास्थ्य केन्द्रों पर मुफ्त में उपलब्ध है।
उन्होंने बताया कि किसी व्यक्ति को इस तरह के दाग धब्बे हो तो आशा, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य कार्यकर्ता अथवा डाक्टर से सम्पर्क कर उसकी जांच करवानी चाहिए। यदि कोई व्यक्ति कुष्ठ रोग से पीड़ित है तो उसके साथ किसी भी तरह का भेदभाव न करें एवं जहां तक हो सके उसकी हर प्रकार से सहायता करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!