स्मार्ट क्लास बनाएगी बच्चों को स्मार्ट

*कक्षा 2 की छात्रा चिंकी कंवर ने रिमोट का बटन दबाकर किया शुभारम्भ*

केकड़ी 13 मार्च।केकड़ी उपखंड के छोटे से गांव में स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय मण्डा के विद्यार्थियों को बुधवार को स्मार्ट क्लास का तोहफा दिया गया, ताकि गांव के बच्चों को हाईटेक तरीके से शिक्षा दी जा सके ।
सरकार स्कूलों को तो स्मार्ट पता नही कब करेगी, लेकिन केकड़ी के निकटवर्ती गांव मण्डा में कार्यरत एक शिक्षक ने खुद अपनी कक्षाओं को स्मार्ट बनाना शुरू कर दिया है । सरकारी स्कूल में बच्चों को बेहतर सुविधा मुहैया कराने के लिए विद्यालय के शिक्षक दिनेश वैष्णव ने बिना किसी विभागीय सहयोग के स्मार्ट क्लास की स्थापना की है । निजी स्कूलों के बच्चों को स्मार्ट क्लासेस में पढ़ता देख इस सरकारी स्कूल के शिक्षक वैष्णव ने भी अपनी कक्षा को स्मार्ट बनाने की पहल की है । यहां के बच्चे स्मार्ट एलईडी टीवी में इंटरनेट, यु ट्यूब व विभिन्न प्रकार के एजुकेशनल वीडियो व एप्प आदि के माध्यम से शिक्षा ग्रहण कर पाएंगे । शिक्षक वैष्णव का प्रयास है कि संसाधनों की कमी शिक्षा में कभी बाधा न बन पाए ।
शिक्षक वैष्णव की इस पहल पर उनके मित्र शेखर सोनी ने अपने पुत्र शिवम के पहले जन्मदिन के उपलक्ष में स्मार्ट क्लास के लिए 5100 रुपये का आर्थिक सहयोग किया । साथ ही मनीषा खण्डेलवाल ने प्रतिमाह की तरह इस माह भी 500 रुपये भेंट किए । बुधवार को पहले दिन स्मार्ट क्लास में बच्चों को मच्छर के जीवन चक्र के बारे में बताया गया । साथ ही सौर मण्डल, वर्णमाला और सामान्य ज्ञान के कई रोचक वीडियो भी दिखाए गए ।
अध्यापिका सुनिता चौधरी ने बताया कि स्कूल में विद्यार्थी बोर न हों, तेजी से सीखें और आधुनिक तकनीक से रूबरू हो सकें, इसके लिए स्मार्ट क्लास में स्मार्ट टीवी पर फिल्म, वीडियो के जरिए छात्र-छात्राओं की जिज्ञासाओं का त्वरित समाधान करने का प्रयास किया जाएगा । बच्चों को पढ़ाई की ओर आकर्षित करने और उनकी बौद्धिक व तार्किक क्षमता बढ़ाने आदि बातों को ध्यान में रखकर स्मार्ट क्लास बनाई गई है ।
इस दौरान प्रधानाध्यापक भगवानलाल जाट, अध्यापिका सुनिता चौधरी, कीर्ति परिहार व रीना कुमारी सहित सभी छात्र-छात्राएं उपस्थित थे ।
स्मार्ट क्लास में पढ़ना और समझना आसान होता है और पढ़ाई में बच्चों की रूचि भी बढ़ती है, साथ ही स्कूल आने का भी मन करता है ।

Leave a Comment