जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कंवर पलाडा द्वारा जनसुनवाई

दिनांक 15.09.2021। जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाडा द्वारा जनसुनवाई कर प्राप्त प्रकरणो का किया गया निस्तारण। प्रार्थीया डॉ. दीपिका वर्मा ने अवगत कराया कि वह सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, जवाजा में कार्यरत है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जवाजा में कार्यरत डॉ. हंसराज मीणा प्रार्थी से अस्पताल समय में गाली गलौच करता है। जान से मारने की धमकी देता है। आते-जाते तंज कसता है, अपमानित करता है एवं प्रार्थी के लिये गलत भाषा का उपयोग करता है। डॉ. हसंराज मीणा के कृत्य से प्रार्थी मानसिक रूप परेषान है। अतः प्रार्थी ने जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा से डॉ. हसंराज मीणा के विरूद्ध कार्यवाही करने हेतु निवेदन किया है। इस प्रकरण में जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अजमेर को आवष्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देषित किया। प्रार्थीया श्रीमती गौरा देवी मूण्ड, जिला परिषद सदस्य, अजमेर ने अवगत कराया कि ग्राम झाग, नोसल, कोटड़ी, जाजोता, पनेर, रूपनगढ़, नवां, राजपुरा, सिंगारा, निम्बार्क तीर्थ सलेमाबाद, पींगलोद, कल्याणीपुरा, कुचील, बबायचा, अरड़का, चाचियावास से होते हुये अजमेर के लिये पहले रोडवेज बस का संचालन होता था। परंतु कोरोना काल में रोडवेज विभाग द्वारा उपर्युक्त बस का संचालन बंद कर दिया गया है जिससे सेकड़ो श्रमिको/ग्रामीणो एवं मरीजो को आने-जाने में काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इस प्रकरण में जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा ने मुख्य प्रबंधक, अजमेर आगार को पत्र लिखा। प्रार्थीया श्रीमती सुमन देवी, सरपंच, ग्राम पंचायत जवाजा, पंचायत समिति जवाजा ने अवगत कराया कि राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 08 के 6 लेन के चौड़ाईकरण का कार्य प्रगति पर है। सड़क पर अन्डर ब्रिज नही होने के कारण शमषान जाने वालो को घुमकर एवं काफी दूरी तय करके जाना पडे़गा। उक्त शमषान घाट पर पहले से ही 2 किमी घुम कर जाना पड़ता है। अतः प्रार्थीया ने इस सड़क पर अण्डर ब्रिज देने हेतु निवेदन किया है। इस प्रकरण में जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा ने माननीय मंत्री महोदय, सार्वजनिक निर्माण विभाग को पत्र लिखा। प्रार्थी श्री असगर अली ने अवगत कराया कि पूर्व में ग्राम सेवक, सचिव, एवं सरपंच एवं पटवारी सरिता इन्दौरिया के खिलाफ फर्जी नामान्तरण के कारण जॉच चल रही थी जिस संबंध में ग्राम सेवक, सचिव, एवं सरपंच को तो दोषी ठहराया जाता है लेकिन पटवारी सरिता इन्दौरिया को बार-बार हिदायत देकर प्रकरण निरस्त कर दिया जाता है। फर्जी नामान्तरण संख्या 223, 228 के प्रस्ताव व नामान्तरण आज दिनांक तक निरस्त नही हुये है। प्रार्थी को बार-बार कार्यालय के चक्कर काटने पड़ते है। प्रार्थी ने भ्रष्ट पटवारी के विरूद्ध कार्यवाही करने हेतु निवेदन किया है। इस प्रकरण में जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा ने अतिरिक्त जिला कलक्टर द्वितीय को आवष्यक कार्यवाही करने हेतु लिखा। प्रार्थी श्री लीलाराम वासवानी निवासी पसन्द नगर कोटड़ा ने अवगत कराया कि उसका एक्सीडेन्ट हो जाने से एक पांव कट गया है। पैर से विकलांग हो जाने के कारण परिवार पर आर्थिक बोझ आ गया है। प्रार्थी की पत्नि भी विकलांग है एवं बच्ची भी मंदबुद्धि है। प्रार्थी ने राज्य सरकार द्वारा विकलांगो के लिये चलाई जा रही योजनाओं से लाभान्वित करने हेतु निवेदन किया है। इस प्रकरण में जिला प्रमुख श्रीमती सुषील कवंर पलाड़ा ने उप निदेषक, सामाजिक न्याय एवं कल्याण विभाग को आवष्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देषित किया।
बैठक में श्री गौरव सैनी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद, अजमेर, श्री मुरारी लाल वर्मा, अति.मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद, अजमेर, श्री जितेन्द्र सिंह षक्तावत, उपनिदेषक (कृषि), श्री परमेष्वर पारीक स.प्र.अ., जिला परिषद, अजमेर, श्री प्रफुल्ल चौबीसा, अतिरिक्त निदेषक समाज कल्याण विभाग, श्री अनिल अरोड़ा, सहायक अभियन्ता, डॉ. के.के.सोनी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अजमेर, श्री हरिष वरजनानी, अधिषासी अभियन्ता, जिला परिषद, अजमेर, श्री आई.सी. खण्डेलवाल, अधिषाषी अभियंता (वाटरषैड) एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!