राम-राम-राम, यह क्या किया ?

गये दिन ही अखबारों में खबर थी कि कुछ अति उत्साहित लोगों ने दूसरें समुदाय के दो जनों को “जय श्रीराम” बोलने के लिए मजबूर किया, उनसे ज्यादती की, जिससे ईलाके में तनाव होगया. जानकारों का कहना है कि खुदा न ख्वास्ता मजबूर हुए दोनों में से यदि कोई एक भी दो बार “राम-राम” बोल … Read more

औरत: हर रूप में महान

औरत जो पत्नी और माँ है………. पुरूष जो पति और पिता है। दोनों में कितनी असमानताएँ हैं, जैसे जमीन और आसमान। पुरूष निकम्मा/निठल्ला/कामचोर…………… औरत- कर्मठ गृहणी……… जिस्म के टुकड़ों को रक्त पिलाकर पाला- बड़ा किया। पति का सहयोग मात्र पत्नी को जननी बनाने तक। समय बीतने लगा- बच्चे बड़े होने लगे। पति का निठल्लापन अपने … Read more

इस सोच को सलाम

कुछ दिन पहले देश की तीन प्रमुख समस्याओं को इंगित करते हुए मैने एक पोस्ट लिखी थी और यह सवाल उठाया था कि क्या सरकारें कभी इनके बारे में सोचेगी ? अब लगा कि मोदी है तो ये भी मुमकिन है । पापुलेशन,पॉल्यूशन और पानी पर 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से दिए … Read more

बीसलपुर की बधाई के साथ चिन्ता भी

आपको बीसलपुर की बधाई। अजमेर के लोगों के लिए बीसलपुर में पानी आना होली-दीवाली जैसे त्यौहार की तरह ही तो हैं । जैसे हम होली -दिवाली पर एक दूसरे को बधाई देकर खुशियां मनाते हैं,वैसे ही अब बीसलपुर में पानी आने से अजमेर की लोगों की खुशियां इसलिए बढ़ गई है कि उनके दिमाग से … Read more

1947 में कुछ जरूरी वस्तुओं के दाम और उनकी तुलना करें 2019 के भावों से

इस बार आजादी के जश्न (2019 ) के बीच हम आपके लिए कुछ खास आंकड़े लेकर आए हैं, जिसे जानकर आप हैरान हो जाएंगे? क्या आपको पता है ? 1947 में सोने की कीमत क्या थी ? 1. दरअसल आज 10 ग्राम सोने की कीमत करीब 39000 रुपये तक पहुंच गया है, जबकि 1947 में … Read more

रंगो की मौजूदगी से बदलता स्वभाव

रंगो की मोजूदगी से मेरा स्वभाव बदलने लगता है …….. देख अलग अलग जगहो पर मन का भाव बदलने लगता है । फागुन के मस्त महीने में जब रंगो से बादल सजता हैं …… उम्मीद नयी ले आता है मन को अच्छा सा लगता है …… पिचकारी की तेज़ धार से मानो मन का मैल … Read more

जब यादगार बन जाए अनचाही यात्राएं ….!!

तारकेश कुमार ओझा जीवन के खेल वाकई निराले होते हैं। कई बार ऐसा होता है कि ना – ना करते आप वहां पहुंच जाते हैं जहां जाने को आपका जी नहीं चाहता जबकि अनायास की गई ऐसी यात्राएं न सिर्फ सार्थक सिद्ध होती हैं बल्कि यादगार भी। जीवन की अनगिनत घटनाओं में ऐसी दो यात्राएं … Read more

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभायी थी वीरांगना अवंतीबाई लोधी ने

(188वीं जन्म-जयंती 16 अगस्त 2019 पर विशेष आलेख) आज भी भारत की पवित्र भूमि ऐसे वीर-वीरांगनाओं की कहानियों से भरी पड़ी है जिन्होंने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से लेकर देश के आजाद होने तक भिन्न- भिन्न रूप में अपना अहम योगदान दिया। लेकिन भारतीय इतिहासकारों ने हमेशा से उन्हें नजरअंदाज किया है। देश में … Read more

कश्मीर : अभी इम्तिहान आगे और भी है

कश्मीर में “कुछ बड़ा होने वाला है” के सस्पेंस से आखिर पर्दा उठ ही गया। राष्ट्रपति के एक हस्ताक्षर ने उस ऐतिहासिक भूल को सुधार दिया जिसके बहाने पाक सालों से वहां आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने में सफल होता रहा लेकिन यह समझ से परे है कि कश्मीर के राजनैतिक दलों के महबूबा मुफ्ती … Read more

अक्साई चीन विवाद पर चीन चाहता है सौदेबाजी

-संजय सक्सेना, लखनऊ- भारत सरकार के गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में धारा 370 हटाए जाने के प्रस्ताव पर बहस के दौरान कई अहम मसले उठाए। खासकर,शाह ने नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी के एक सवाल का जबाव देते हुए जैसे ही गुलाम कश्मीर के साथ-साथ अक्साई चीन को भी भारत का हिस्सा बताते … Read more

error: Content is protected !!