अपनी ही अदालत में मुकदमा हारते खडे़ अटल !

-दयानंद पांडेय- भारतीय राजनीति क्या विश्व राजनीति में भी अगर कोई एक नाम बिना किसी विवाद के कभी लिया जाएगा तो वह नाम होगा अटल बिहारी वाजपेयी का। यह एक ऐसा नाम है जिस के पीछे काम तो कई जुड़े हुए हैं पर विवाद शून्य हैं। राजनीति काजल की कोठरी है, इस में से बिना … Read more

बडा ढैया और छोटा ढैया

ज्‍योतिष में विश्‍वास रखनेवाले सभी लोगों को एक बडे ढैया की जानकारी अवश्‍य होगी , जो ढाई वर्षों तक अपना प्रभाव न सिर्फ बनाए रहता है , वरन बहुत ही बुरी हालत में लोगों को जीने को विवश भी कर देता है। हालांकि इसकी सही गणना कर पाने में परंपरागत ज्‍योतिषी अभी तक सक्षम नहीं … Read more

नटवर लाल भी कुछ नहीं पवन भूत के सामने

आज हम आपको मिलवा रहे हैं एक ऐसे महाठग से जो देश के बड़े मीडिया समूहों के साथ-साथ सभी सुरक्षा एजेंसियों को अपना सहयोगी बता कर पत्रकारिता में आने को आतुर लोगों को अपने जाल में फंसा कर पत्रकार बनाने के नाम पर ना केवल उनसे पैसा ठगता है बल्कि उनका बेशकीमती समय भी खराब … Read more

एक नदी …..

      एक नदी ….. उमड़ती घुमड़ती सी तेज़ धारा संग बहती कलकल का शोर मचाती आ पहुँची अचानक एक समतल ज़मी पर मंद हो गई चाल उसकी ना शोर, ना कोई आवाज़ बस बहने की प्रक्रिया निरंतर है जारी क्या ज़मी का समतल होना है उदासीनता का परिणाम या फिर ये नियति थी … Read more

आगामी दो माह में बुध ग्रह का प्रभाव ये रहेगा

भले ही अपने जन्‍मकालीन ग्रहों के हिसाब से ही लोग जीवन में सुख या दुख प्राप्‍त कर पाते हैं , पर उस सुख या दुख को अनुभव करने में देर सबेर करने की भूमिका आसमान में समय समय पर बन रही ग्रहों की स्थिति की ही होती हैं। जहां ढाई वर्षों के लिए शनि , … Read more

निष्ठा और कांग्रेस

वर्ष 1969 के नवम्बर में इंदिरा गांधी को कांग्रेस पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था; इंदिरा गांधी एक प्रतिद्वंद्वी संगठन की स्थापना की – इंडियन नेशनल कांग्रेस; उस वक़्त इंदिरा गांधी के साथ खड़े दिखने वालो में थे बूटा सिंह, अंतुले, राम निवास मिर्धा, एपी सिंह, बी.पी. मौर्य, प्रणव मुखर्जी, आदि.  इस के बाद … Read more

आखिर कश्मीर समस्या क्या है?

धर्म साम्राज्य भौगोलिक बाध्यताओं केसम्मुख असहाय हो जाते हैं। भूगोल ही संस्कृतियों का मुख्य कर्ता होता है। कश्मीर के रास्ते में हिंदूकुश पड़ता है। खैबर और बोलन दर्र्रो से आ रहे धर्म साम्राज्य निर्माताओं ने कोशिशें तो कीं, लेकिन वे इलाके का भाग्य नहीं बदल सके। चूंकि अब कश्मीर बड़ी समस्या मान ली गई है … Read more

कभी आसमां होते थे …

वो ज़मीन हम आसमां होते थे , तब कही दोनों जहाँ होते थे हो न पाया वो कभी दूर मुझसे , फासले चाहे दरमियाँ होते थे तन्हा खड़े खुद का पता पूछते हैं , संग जिनके कभी कारवाँ होते थे सीना ताने कड़ी है इमारत जहां मुफलिसों के कभी छोटे मकाँ होते थे स्याही से … Read more

कांग्रेस राज में ब्रह्मा नगरी

दुनिया का इतना बड़ा तीर्थ , ब्रह्मा जी का विश्व में अपना स्थान और आज ये सारा पुरातन गौरव राजनीति की भेंट चढ़ रहा है …. विश्व स्तरीय तीर्थ की दशा एक गाँव से भी बदतर नज़र आती है | मित्रो क्यों कि मै खुद अजमेर के ही एक तीर्थ ख्वाजा साहिब की दरगाह से … Read more

राजस्थान का सबसे बड़ा बेशर्म कौन विभाग कौन?

जी हाँ इस तरह की एक प्रतियोगिता हुई थी जिसमे नंबर एक पर आया है राजस्थान लोक सेवा आयोग (तालियाँ). वो इसलिए की ये राजस्थान की एक बड़ी सवेधानिक संस्था है पर जिस तरह से एक के बाद एक छोटी छोटी गलतियाँ कर रहे और बड़े बड़े पेज अखबारों में इन पर लिखे जा रहे … Read more

आओ फिर से दीप जलाये

आओ फिर से दीप जलाये , पर नया अटल कहा से लाए ? चोरो और अँधेरा छाया ,लील गया मेरे भारत को । सब ने मिलकर अपनाया है ,बईमानी के महारत को । लूट लूटेरे ले गये ,और घूम रहे है मस्ती में । कोई सत्य बोलने वाला नही है,इस अन्धो की बस्ती में । भा … Read more

error: Content is protected !!