नसीम अखतर के खाते में खास उपलब्धि दर्ज

गहलोत ने दिए सावित्री स्कूल को अधिग्रहित करने के निर्देश
अजमेर। अजमेर जिले के पुष्कर विधानसभा क्षेत्र की कांग्रेस विधायक और राज्य की शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती नसीम अख्तर के प्रयास आखिर रंग लाए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अजमेर की सावित्री सीनियर सेकंडरी स्कूल को राज्य सरकार द्वारा अधिग्रहित करने की स्वीकृति प्रदान कर दी। नसीम अख्तर बधाई पात्र हैं। बधाई के पात्र नए जिला कलेक्टर वैभव गालरिया भी हैं, जिनके ताजा कार्यकाल के शुरू में ही एक ऐतिहासिक निर्णय हुआ है। अतिरिक्त जिला कलेक्टर मोहम्मद हनीफ स्वाभाविक रूप से शाबाशी के हकदार हैं, जिन्होंने स्कूल प्रशासक होने के नाते अपनी इच्छा शक्ति दिखाते हुए स्कूल को अधिग्रहीत करने का सटीक प्रस्ताव बना कर सरकार को भेजा। इसमें कोई दोराय नहीं कि स्कूल का वजूद बचाने की खातिर शहर कांग्रेस अध्यक्ष महेन्द्र सिंह रलावता, पूर्व विधायक डा. श्रीगोपाल बाहेती सहित अन्य सभी राजनीतिक नेताओं के साथ राजस्थान शिक्षक संघ राधाकृष्णन के प्रदेशाध्यक्ष विजय सोनी ने भी पूरा दबाव बनाया और मीडिया ने भी सामाजिक सरोकार के दिशा में सक्रिय भूमिका अदा की। उन सभी का भी शुक्रिया अदा किया जाना चाहिए, जिन्होंने प्रत्यक्ष या अप्रत्क्ष रूप से इस मुहिम में सहयोग किया। और सबसे ज्यादा बधाई की पात्र हैं, वे दो हजार छात्राएं और उनके अभिभावक, जिनकी दुआओं ने असर दिखाया है।
बेशक अजमेर के अजमेर के तकरीबन सौ साल पुराने व प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान सावित्री कन्या सीनियर सेकंडरी स्कूल का वजूद कायम रहने से सभी अजमेरवासियों को खुशी होगी। यहां उल्लेखनीय है कि इस स्कूल सभी सुविधाओं से परिपूर्ण है। स्कूल के पास रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, भौतिक विज्ञान एवं गृह विज्ञान की आधुनिक संसाधनों से सुसज्जित प्रयोगशालाओं सहित उच्च कोटि की अन्य सुविधाएं भी हैं। परिणाम की दृष्टि से भी स्कूल का बेहतरीन रिकार्ड रहा है। इस वर्ष बोर्ड की सभी परीक्षाओं में विद्यालय की छात्राओं ने जिला मेरिट में जगह बनाई है। स्कूल के खाते में तकरीबन 3 करोड़ से अधिक की राशि मौजूद है। इसके अलावा करोड़ों रुपए मूल्य के विद्यालयों के भवन, बस व अन्य चल-अचल संपत्ति मौजूद है। कुल मिला कर स्कूल में संसाधन पूरे हैं। इसे चलाने के लिए सरकार को अपने स्तर पर बस स्टाफ की व्यवस्था करनी होगी। आज जब कि महिला शिक्षा पर सर्वाधिक जोर दिया जा रहा है, ऐसे बेहतरीन स्कूल को बचा कर सरकार ने अपने दायित्व का भलीभांति निर्वहन किया है। उम्मीद की जानी चाहिए कि जल्द ही स्कूल में स्टाफ की तैनाती कर इसे नए शिक्षण सत्र में अध्ययन-अध्यापन कार्य सुचारू रूप से शुरू हो जाएगा।

Leave a Comment

error: Content is protected !!