उपखंड अधिकारी, आयुक्त, ओर तहसीलदार के सामने खुलेआम उड़ रही जिला कलेक्टर के आदेश की धज्जियां

हेमेन्द्र सोनी
क्या हे लाचारी?
क्यो है मौन?
स्थानीय राजकीय होम्योपैथिक अस्पताल जो कि वर्तमान में चांदमल मोदी आयुर्वेदिक अस्पताल के परिसर में एक जर्जर कमरे में संचालित है, जिला कलेक्टर ने इस अस्पताल के अपने खुद के भवन के लिए स्थानीय अमृतकौर अस्पताल के पास जमीन अलॉट कर दी लेकिन अमृतकौर अस्पताल अवैध रूप से उक्त जमीन पर बिना कानूनी प्रक्रिया पूरी किये वहां पर निर्माण कार्य शरू कर दिया ।
जिसकी शिकायत स्थानीय जिम्मेदार अधिकारियों को पूर्व मे भी की जा चूकी है, लेकिन प्रशासन आंखे मुंद कर कान में तेल डाल कर कुम्भकर्णी नींद सो रहा है ।
प्रशाशन जिला कलेक्टर के आदेश की पालना क्यो नही कर रहा है क्या है इसके पीछे का राज, यह भी जांच का विषय है ।
जैसा कि पूर्व में भी जानकारी में आ चुका है और अधिकारियों को भी अवगत कराया जा चुका है कि उक्त स्थान पर AKH द्वारा केंटीन का निर्माण कराया जा रहा है ।
जबकि राजकीय होम्योपैथिक अस्पताल के लिए 26 जून 2017 को ही उक्त जमीन अलाट कर दी गई थी ।
उक्त जमीन पर AKH प्रशासन द्वारा अतिक्रमण कर निर्माण क्यो किया जा रहा है इनके पीछे क्या कारण है ? विचारणीय विषय है ।
उपखंड अधिकारी, आयुक्त, तहसीलदार सभी जवाबदार आंखे क्यो बन्द करके बैठे है ? उनकी चुप्पी आम आदमी को सोचने के लिए मजबूर करती है ।
क्या होगा इस जमीन का भविष्य?
क्या होम्योपैथिक अस्पताल को जमीन मिल पाएगी?
क्या प्रशाशन अपनी चुप्पी तोड़ेगा ?
क्या प्रशासन उक्त जमीन को AKH से मुक्त कराने और अवैध निर्माण को रुकवाने के लिए प्रयास करेगा ?
इन सभी सवाल सवालो का जवाब फिलहाल भविष्य के गर्त में है
हेमेन्द्र सोनी @ BDN जिला ब्यावर

Leave a Comment