नहीं सुधरेगा पाकिस्तान

ओम माथुर
ओम माथुर
पाकिस्तान ने एक बार फिर अपनी औकात दिखा दी। कुत्ते की पूंछ को कितने भी साल नली में डाल कर रखो वह सीधी नहीं होती है । पाकिस्तान की स्थिति ठीक ऐसी ही है । सोमवार को भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव से उनकी मां और पत्नी की मुलाकात के समय पाकिस्तान ने जो कुछ किया, उसने यह फिर साबित कर दिया कि लातों के भूत बातों से नहीं मानते। पाकिस्तानी अधिकारी ये भी भूल गए कि भारत में बिंदी, चूड़ी और मंगलसूत्र सुहाग की निशानी होती है । उन्होंने जाधव की माता जी और उनकी पत्नी से यह सब उतरवा लिए। क्या पाकिस्तान को बिदीं,चूड़ी और मंगलसूत्र से कोई खतरा था । पहले ही जाधव और उनके परिवार को शीशे की दीवार के आरपार बैठाकर और मातृभाषा मराठी में बात नहीं करने देने की बदतमीजी पाकिस्तान कर चुका था । उसके बाद भी ऐसा करके उस ने साबित कर दिया कि वह इंसानियत और मानवता की भाषा नहीं समझता।आखिर समझे भी कैसे ? जहां की सरकार को आतंकवादी चला रहे हो और जहां के नेता आतंकियों के पैरोकार हो,वो देश इन शब्दों का अर्थ समझे भी कैसे।
भारत ने पाकिस्तान को सुधरने के कई मौके दे दिए हैं, खुद प्रधानमंत्री मोदी पहल करके वहां गए । लेकिन उसके बाद भी उसकी हरकतें नहीं बदली। इसलिए अब पाकिस्तान को करारा और आखरी सबक देने की जरूरत है। यह ठीक है कि दो पड़ोसी देशों में युद्ध होने का मतलब दोनों में बहुत कुछ नुकसान होना है । लेकिन आपके एक पड़ोसी अपनी बेहयाई और बदतमीजी से बाज नहीं आए,तो दूसरा पड़ोसी आखिर क्या करेगा। जाधव के परिवार से बदसलूकी के बीच भारतीय सेना ने पीओके मे घुसकर रावलाकोट में सर्जिकल स्ट्राइक कर के पाक के 3 सैनिकों को ढेर कर हमारे चार शहीद सैनिकों की मौत का बदला तो ले लिया। लेकिन पहले वह मारे, फिर हम उनके । उन्होंने 3 मारे ,हमने चार। यह गणना अब बंद होनी चाहिए। भारत को पाकिस्तान का फुल एंड फाइनल करने के बारे में गंभीरता से सोचना होगा । खास तौर पर केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने के कारण देश की उम्मीदऔर बढ़ गई है । खुद पीएम मोदी पाकिस्तान को लेकर तल्ख रहे हैं। इसलिए देश को अब इंतजार है कि पाक पर नेताओ की जुबानी गोलीबारी कब बंद होगी और कब सेना के हाथों मे पाक को निपटाने की कमान होगी।

Leave a Comment