नही थम रहा तबादलों पर आक्रोश , बीजेपी की हो रही है जग हंसाई

*तबादलों को लेकर आज फिर बीजेपी मुख्यालय में भिड़े चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ और विधायक भीमा भाई , हुई जमकर तू तू में में ••*

◆ *इससे पूर्व भी शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी और विधायक बंशीधर बाजिया में हो चुका है विवाद , नही थम रहा तबादलों पर आक्रोश , बीजेपी की हो रही है जग हंसाई ••••*

राकेश भट्ट
बीते एक पखवाड़े पूर्व राज्य के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी और बीजेपी विधायक बंशीधर बाजिया के बीच हुई तीखी नोकझोंक का विवाद अभी शान्त भी नही हुआ कि आज राज्य मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री का दर्जा रखने वाले चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ और बीजेपी विधायक भीमा भाई के बीच भी ट्रांसफर को लेकर जमकर विवाद हो गया । खास बात यह रही कि देवनानी वाला विवाद जहां उनके सरकारी आवास पर हुआ था तो वही कालीचरण सर्राफ वाला विवाद एक कदम और आगे बढ़ते हुए जयपुर स्थित बीजेपी मुख्यालय पर हुआ और वो भी सबके सामने ।

जानकारी के अनुसार विधायक भीमा भाई ने अपने क्षेत्र के कुछ लोगो के तबादले करने के लिए चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ को सिफारिश भेजी थी । जिसे उन्होंने मानने से इनकार कर दिया । इसी से नाराज होकर विधायक भीमा भाई आज बीजेपी मुख्यालय में सर्राफ पर भड़क गए । विधायक और मंत्री सर्राफ के बीच जमकर हुई तू तू में में और नोकझोंक को वहां मौजूद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने ही अपने मोबाइल कैमरे पर रिकॉर्ड भी कर लिया । जिसके चलते यह बात कुछ ही समय मे न्यूज चैनल्स की सुर्खियां तक बन गई ।

कुल मिलाकर तबादलों को लेकर बीजेपी के आम कार्यकर्ताओ सहित विधायको तक मे पनप रहे असंतोष के चलते अब उनका गुस्सा ज्वालामुखी बनकर फुट रहा है । विधायको को डर है कि यदि इस बार भी वे अपने कार्यकर्ताओं या उनके परिजनों के ट्रांसफर नही करवा पाए तो विधानसभा चुनावों में वो कार्यकर्ताओ के पास क्या मुहँ लेकर वोट मांगने जाएंगे । यदि आज अपनी ही सरकार में वो मामूली सा ट्रांसफर तक नही करवा पाए तो क्षेत्र की जनता में उनकी इज्जत दो कौड़ी की भी नही रह जाएगी । वही दूसरी और मलाईदार विभागों के मंत्री ट्रांसफर करने में आनाकानी कर रहे है । हालात इतने विकट है कि मंत्री तबादलों के मामले में विधायकों तक को नजर अंदाज कर रहे है जिसके कारण मंत्रियों और विधायकों में ही असंतोष बढ़ता जा रहा है ।

कुल मिलाकर बीते कुछ दिनों से लगातार हो रही ऐसी घटनाओं से उस बीजेपी की जबरदस्त किरकिरी हो रही है जो अपने आपको सबसे अनुशासित पार्टी होने का दावा करती है । अमित शाह और प्रधानमंत्री मोदी अपने बूथ लेवल के कार्यकर्ताओं पर सबसे ज्यादा भरोसा करते है लेकिन इस सरकार में तो बूथ लेवल कार्यकर्ता तो दूर की बात है विधायको की ही सुनवाई नही हो रही । यदि यही हाल रहे तो वैसे ही खस्ता हाल से गुजर रही बीजेपी की हालत और पतली होनी तय है । फिलहाल बीजेपी में ट्रांसफर को लेकर कलह अपने चरम पर है । हो सकता है आने वाले दिनों में ऐसे नजारे और देखने को मिले । तो वही कांग्रेस ऐसी घटनाओं से बेहद खुश नजर आ रही है और तबादला प्रक्रिया में जमकर भ्रष्टाचार किये जाने के आरोप लगा रही है ।

*राकेश भट्ट*
*प्रधान संपादक*
*पॉवर ऑफ नेशन*
*मो 9828171060*
Facebook:- Rakesh bhatt

Leave a Comment