कुंडली का नवम भाव

राजेन्द्र गुप्ता
वैदिक ज्योतिष में नवम भाव क्या है? इसका क्या महत्व है? यह हमारे जीवन पर कैसा प्रभाव डालता है? ज्योतिष की माने तो कुंडली के प्रत्येक भाव का हमारे जीवन पर गहरा प्रभाव होता है। ये हमारे जीवन, स्वभाव और व्यवहार को नियंत्रय व मार्गदर्शित करता है।

वैदिक ज्योतिष में भाव
================
वैदिक ज्योतिष में नौ ग्रहों में से प्रत्येक आपके जन्म कुंडली में किसी न किसी भाव के भीतर मौजूद हैं, और यह प्लेसमेंट न केवल आपके स्वयं के व्यक्तित्व के बारे में अमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान करता है, बल्कि यह भी बताता है कि आप स्वयं से कैसे जुड़े हुए हैं और अपने आसपास की दुनिया के साथ सह-अस्तित्व रखते हैं। जैसे ही आकाश में ग्रह इन घरों में चलते हैं, यह जीवन में विभिन्न घटनाओं को प्रभावित करता है।

कुंडली के हर घर का अपना अर्थ होता है और यह जीवन के विशेष अखाड़ों का भी प्रतिनिधित्व करता है। भाव वास्तव में ज्योतिष को महत्वपूर्ण बनाता है।

वैदिक ज्योतिष में नवम भाव
==================
भारतीय ज्योतिष में, कुंडली का नौवां घर विश्वास, ज्ञान और दिव्य पूजा का भाव माना जाता है। यह एक शुभ घर है, जो पिछले कार्यों के परिणामस्वरूप वर्तमान जीवन में भाग्य को दिखाता है। वैदिक ज्योतिष (जिसे हिंदू ज्योतिष के रूप में भी जाना जाता है) दृढ़ता से मानते हैं कि व्यक्ति पिछले जीवन में किए गए फल और कार्यों के आधार पर उसका वर्तमान जीवन काटेगा। नवम भाव पर एक नज़र आपको यह जानने में सक्षम करेगी कि आपके पिछले जीवन में किए गए अच्छे कर्मों के परिणामस्वरूप आप क्या भाग्य संचित कर चुके हैं। साथ ही भाग्य का घर, नवम भाव यह निर्धारित करता है कि आप भाग्य में पर्याप्त भाग्यशाली हैं या नहीं, और आप बहुत प्रयास के बिना परेशानियों से बचने में सक्षम हैं या नहीं।

वैदिक ज्योतिष में इसे धर्म भाव या पितृ भाव भी कहा जाता है। नौवां घर एक अच्छे कर्म, नैतिकता, धार्मिक प्रवृत्ति, आध्यात्मिक झुकाव, उच्च शिक्षा और मूल्यों का प्रतिनिधित्व करता है। यह वह जगह है जहाँ हम जीवन में गहरे अर्थ खोजते हैं। नौवें घर को पिता के लिए भी जिम्मेदार ठहराया जाता है क्योंकि राशि चक्र के नौवें राशि – धनुष (धनु) पर गुरु (बृहस्पति) का शासन है – यह जातक को आध्यात्मिक शिक्षक और उपदेशक बना सकता है। नवम भाव का स्वामी ग्रह, बुद्धिमान बृहस्पति, निर्धारित कानून, कानूनी मध्यस्थता, आध्यात्मिक दीक्षा, शिक्षण और उससे जुड़ी सभी चीजों की अध्यक्षता करता है। याद रखें कि कुंडली में तीसरा भाव अंतर्ज्ञान और शुद्ध करण से कैसे संबंधित है, नवम भाव कुंडली में इसके विपरीत है।

कुंडली के नवम भाव की कुछ बुनियादी बातों के बारे में –
=============================
नवम भाव का वैदिक नाम: धर्म भाव या पितृ भाव

प्राकृतिक स्वामी ग्रह और राशि: बृहस्पति और धनु

नवम भाव के संबंद्ध अंग: रिप्रोडक्टिव सिस्टम, कोलन एरिया, जांघ, रियर एंड।

नौवें घर के संबंध: शिक्षक, गुरु, पुजारी, वकील, सलाहकार, किसी भी प्रकार के विशेषज्ञ और पिता।

नवम भाव की गतिविधियाँ: शिक्षण, सीखना, उपदेश, मंत्रों का जाप, पवित्र प्रसाद बनाना, ये सभी नौवें घर की गतिविधियों का हिस्सा हैं।

कुंडली के नवम भाव में विभिन्न ग्रहों के प्रभाव:
———————————————————-
नवम भाव में सूर्य:
============
नवम भाव में सूर्य के साथ, आप एक धार्मिक मानसिकता या बहुत दार्शनिक होंगे। आप इस स्थिति के साथ एक महान शिक्षक या धार्मिक व्यक्ति हो सकते हैं। आप अपने बच्चों और परिवार के साथ एक अद्भुत बंधन साझा करेंगे।

नवम भाव में चंद्रमा:
=============
नवम भाव में चंद्रमा आपको स्वाभाविक रूप से पढ़ने का संकेत देता है। आप दार्शनिक चीजों की ओर रुख करेंगे और सही या गलत का त्वरित अर्थ समझ पाएंगे। आप कल्पनाशील हैं और दर्शन, अध्यात्म, धर्म आदि क्षेत्रों में अच्छा करते हैं।

नौवें घर में बृहस्पति:
==============
नौवें घर में बृहस्पति की उपस्थिति को एक महान आशीर्वाद के रूप में देखा जाता है। कुंडली में यह स्थिति आपके जीवन को आकार देने के लिए अच्छी नैतिकत, आचरण और सिद्धांतों के लिए उच्चतम क्षमता लाता है। बृहस्पति आपको बौद्धिक, आध्यात्मिक, विद्वान और प्रेरक बना देगा। यहां तक ​​कि आपके पास दूसरों के विश्वासों और भावनाओं को प्रभावित करने की क्षमता भी होगी।

नवम भाव में शुक्र:
============
जब नवम भाव में शुक्र हो, तो आपको कला, संगीत, विदेशी संस्कृति और यात्रा के प्रति एक मजबूत आकर्षण होगा। आप एक निष्पक्ष व्यक्ति होंगे। आपके पास आध्यात्मिकता और व्यक्तिगत दर्शन के लिए एक बहुत ही रचनात्मक दृष्टिकोण होगा।

नवम भाव में मंगल:
=============
नवम भाव में मंगल की नियुक्ति से एक व्यक्ति को अपने आदर्शों और सिद्धांतों के लिए लड़ने की दृढ़ इच्छाशक्ति का पता चलता है। आपके पास मजबूत राय हो सकती है। कानूनी मामलों में व्यवहार करते समय आपको अत्यधिक सतर्क रहना चाहिए। निर्णय भावनात्मक रूप से करने के बजाय तर्कसंगत रूप से किए जाने चाहिए।

नौवें घर में बुध:
==========
नौवें घर में बुध आपको एक उत्कृष्ट शिक्षक और मार्गदर्शक बना सकता है। आपका आध्यात्मिक झुकाव बहुत तेज होगा, और उच्च ज्ञान होने की संभावना है, इस प्रकार दूसरों के लिए प्रेरणा बन सकता है। यह एक बहुत ही रचनात्मक स्थिति है, खासकर लेखन और अन्य प्रकार के संचार के लिए। भाषा के अध्ययन को आगे बढ़ाया जाना चाहिए, क्योंकि आप कई लोगों के मुताबले अधिक कुशल होने की संभावना रखते हैं।

नवम भाव में शनि:
=============
शनि का स्थान आपको जीवन के उच्चतर सत्यों को समझने में आपका ध्यान केंद्रित करेगा। यह शिक्षक है जो चाहता है कि हम जीवन के सबक सीखें और बेहतर व्यक्ति बनें। घर का यह ग्रह मुश्किलें ला सकता है, लेकिन आपको कठिनाइयों से ऊपर उठना होगा। यह धन के लिए भी एक अच्छा स्थान है, और आप इसे अर्जित करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे।

नवम भाव में राहु:
=============
कुंडली में नवम भाव में राहु की स्थिति आपको धर्म और दर्शन के क्षेत्र में विशेषज्ञ बनने की तीव्र इच्छा देगी। आपके द्वारा इकट्ठा किया गया ज्ञान सतही प्रकृति का हो सकता है, और जीवन में विशेषाधिकार प्राप्त करने के लिए इस ज्ञान का दुरुपयोग भी किया जा सकता है। अधिक विकसित होने पर, नवम भाव में राहु शक्तिशाली रहस्यमय समझ और क्षमताओं के लिए बना सकता है। आपके विश्वास और मूल्य अभी तक दूसरों के लिए प्रेरणादायक नहीं हैं।

नौवें घर में केतु:
===========
अपने नौवें घर में केतु के साथ जातक स्वाभाविक रूप से धार्मिक, दार्शनिक और कभी-कभी आध्यात्मिक होंगे। फिर भी, यह आपके जीवन में निष्क्रिय हो सकता है क्योंकि केतु वह ग्रह है जो उस व्यक्ति को अलग करता है जो उसके स्थिति को इंगित करता है। यह नियुक्ति जातक के लिए अनुकूल नहीं है क्योंकि उसके पिता के स्वास्थ्य में समस्याएं हो सकती है।

राजेन्द्र गुप्ता,
ज्योतिषी और हस्तरेखाविद
मो. 9611312076
नोट- अगर आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल करके या व्हाट्स एप पर मैसेज भेजकर पहले शर्तें जान लेवें, इसी के बाद अपनी बर्थ डिटेल और हैंडप्रिंट्स भेजें।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!