राजकुमार राव और पत्रलेखा ने अपने सफल रिश्तों के रहस्य को किया उजागर

मुंबई, 7 फरवरी, 2019 – अपने अवार्ड विनिंग मूवमेंट #ShareTheLoad (#शेयर द लोड) के जरिए वर्ष 2015 से एरियल घरों के भीतर असमानता की वास्तविकता का पता लगा रहा है। आज, एरियल ने भारत में लिंग असमानता की व्यापकता और बेटों से भार बाँटने की आवश्यकता पर चर्चा की गई। इस परिचर्चा में 100 से अधिक मम्मी ब्लॉगर्स और मीडिया की उपस्थिति रही। इस पैनल में शामिल अभिनेता राजकुमार राव, पत्रलेखा, निर्देशक गौरी शिंदे, बीबीडीओ हेड जोसी पॉल पी एंड जी इंडिया की विपणन निदेशक सोनाली धवन ने घरों के भीतर असमानता पर सुखद बातचीत के साथ ही अपने व्यक्तिगत अनुभवों को भी साझा किया। उन्होंने कहा कि आज के बदलते समय में ज्यादातर पुरुष पहले से कहीं ज्यादा बोझ साझा कर रहे हैं, इसके बावजूद हम समानता के आदर्श स्तर से काफी आगे चल रहे हैं।

यह पैनल एरियल की नवीनतम फिल्म-Sons#ShareTheLoad (द संस #शेयर द लोड) में भी गहराई से उतरा, जो इस दिशा में एक और प्रासंगिक सवाल उठाती है – क्या हम अपने बेटों को सिखा रहे हैं और हम अपनी बेटियों को क्या सिखा रहे हैं?- यह फिल्म आज की पीढ़ी की माताओं से बराबरी की पीढ़ी को बढ़ाने का आग्रह करती है। #शेयर द लोड के रिलीज़ किए गए नए संस्करण के जरिए, कई माता-पिता, नवविवाहित जोड़ों, प्रभावितों के साथ प्रतिध्वनित हुआ है और इसे देश भर में दर्शकों से जबरदस्त समर्थन और प्रशंसा मिल चुकी है। बता दें कि फिल्म 24 जनवरी, 2019 को रिलीज़ हुई और अब तक 15 मिलियन व्यूज बटोर लिए हैं।

पैनलिस्टों ने इस असमानता के कारणों पर चर्चा करते हुए बच्चों की परवरिश के बारे में बात की। समान प्रगतिशील परिवारों में भी, हमारे बेटे और बेटियों की परवरिश के तरीके में अक्सर अंतर होता है। काफी पहले से बेटियों को मजबूत, स्वतंत्र और सभी क्षेत्रों में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए आश्वस्त करने की बात कही जा रही है। लेकिन शादी होते ही उनपर घर का बोझ डाल दिया जाता है। यह उन पर असंतुलित अपेक्षाएं और बोझ डालता है, जो उनके पेशेवर विकास के रास्ते में आ सकता है। अब जब समाज बदल रहा है, और हमेशा बेटों को अलग तरीके से आगे बढ़ाने को लेकर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जाता है। उदाहरण के लिए, उन्हें कपड़े धोने या खाना पकाने जैसे कुछ नए जीवन कौशल सिखाने चाहिए, ताकि उनके भविष्य को बेहतर बनाने में मदद मिल सके और उन्हें घरेलू समानता का पैरोकार बनाया जा सके। अगर उन्हें #शेयर द लोड नहीं सीखाया जाता है, तो आज के बेटे कल के पति तो बन जाते हैं, लेकिन वे शायद समान साझेदार बनने के लिए तैयार न हों।

2018 में एक स्वतंत्र तीसरे पक्ष के सर्वेक्षण आंकड़ों को दिखाते हुए, पैनल ने पुरुष और महिला दृष्टिकोणों में कुछ अंतर्निहित अंतरों पर भी चर्चा की। 72 प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि उनका सप्ताहांत किराने की खरीदारी, कपड़े धोने और होमवर्क करने के लिए है, जबकि 68 प्रतिशत भारतीय पुरुषों का मानना है कि सप्ताहांत विश्राम के लिए हैं। कपड़े धोने जैसे अन्य दैनिक घरेलू कार्यों के की जिम्मेदारी कई महिलाएं अकेले ही संभालती हैं। सर्वे के मुताबिक 68 प्रतिशत महिलाएं काम से वापस आने के बाद नियमित रूप से कपड़े धोने का काम करती हैं, जबकि पुरुषों के मामले में यह संख्या केवल 35 प्रतिशत है। वास्तव में, 40 प्रतिशत भारतीय पुरुष वाशिंग मशीन को चलाना नहीं जानते हैं। इसके अलावा, आधे से ज्यादा पुरुषों ने इस बात पर सहमति जताई कि वे कपड़े इसलिए नहीं धोते, क्योंकि उन्होंने कभी अपने पिता को ऐसा करते नहीं देखा है। सर्वेक्षण से यह भी पता चला है कि भारत में दस में से सात महिलाएं घर पर जिम्मेदारियों को संतुलित करने के अतिरिक्त जिम्मेदारियों पर भी पुनर्विचार करती हैं। इस विश्वास के साथ कि माताओं के पास एक मजबूत सहानुभूति केन्द्र है, पैनल ने माताओं की इस पीढ़ी को अपने बच्चों को समान पीढ़ी के रूप में उठाने का आग्रह किया। एरियल ने घरों के भीतर असमानता के खिलाफ आंदोलन का चेहरा बनाकर कपड़े धोने की इस बातचीत को जारी रखा है, क्योंकि एरियल के साथ, यह बात मायने नहीं रखता कि कौन कपड़ा धो रहा है, कोई भी सर्वश्रेष्ठ परिणाम प्राप्त कर सकता है।

#शेयर द लोड आंदोलन का समर्थन करते हुए, अभिनेता राजकुमार राव ने कहा, “द संस #शेयर द लोड फिल्म ने वास्तव में मुझे झकझोरा। इस नवीनतम प्रयास के साथ एरियल ने न केवल एक मुद्दा उठाया है, बल्कि एक मार्ग भी प्रदान किया है, जिससे हम समाज को कल बराबरी पर ला सकें। मेरी माँ ने हमेशा मुझे एक समान बनने को प्रेरित किया इसकी शुरूआत घर पर अपनी बहन के साथ कार्य सूची को साझा करने के साथ हुई। मैं अपनी मां को मेरे लिए सही उदाहरण स्थापित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि मैं आज गर्व से एक उदाहरण स्थापित कर सकता हूं, के लिए धन्यवाद देता हूं। इस बात ने मुझे हमेशा यह सुनिश्चित करने के लिए प्रेरित किया है कि पत्रलेखा के साथ मेरा रिश्ता घर के अंदर और उसके बाहर समान है! धन्यवाद, मां, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका बेटा #शेयर द लोड करना जानता था! ”

“राज एक अद्भुत साथी है, वह स्वाभाविक रूप से भार साझा करने में विश्वास करता है और उसने हमारे संबंधों में इसे फिर से साबित कर दिया है। वह मानता है, कहता है, और प्रदर्शित करता है कि हम वास्तव में समान भागीदार हैं और हमारे पास संतुलित भूमिकाएं हैं। लेकिन, राज जैसे साझेदार अपवाद नहीं होने चाहिए, वे आदर्श होने चाहिए। #शेयर द लोड आदर्श होना चाहिए। मुझे खुशी है कि एरियल ने इस बातचीत को जारी रखा है, जैसा कि हम पहले से ही बदलाव देख सकते हैं!” अभिनेत्री पत्रलेखा ने #शेयर द लोड आंदोलन को बेहतर बताया।

द संस # शेयर द लोड फिल्म की निदेशक गौरी शिंदे ने कहा, “#शेयर द लोड आंदोलन समय की जरूरत है, यह एक ऐसी बातचीत है, जो समाज में दिखने वाली लैंगिक असमानता में एक स्पष्ट अंतर लाने का काम कर रही है। मैं एरियल के प्रगतिशील भविष्य और खुशहाल घरों की उस दृष्टि से जुड़ा हुआ हूं, जहां पुरुष और महिलाएं दोनों भार साझा करते हैं। इसलिए, इस फिल्म के साथ हमने इस पीढ़ी की माताओं की भूमिका को रेखांकित किया है ताकि जैसे वे अपनी बेटियों की परवरिश कर रही हैं वैसे ही अपने बेटों की परवरिश भी करें।

आंदोलन पर टिप्पणी करते हुए, सोनाली धवन, विपणन निदेशक, पी एंड जी इंडिया, और फैब्रिक केयर ने कहा कि
“शेयर द लोड ने हमेशा घर के भीतर की असमानता को दूर करने की कोशिश की है, जो दर्शकों को सोचने, आत्मनिरीक्षण करने और कार्य करने पर सवाल उठाती है। हमने पहले ही 15एमएम व्यू प्राप्त कर लिए हैं, और यह दर्शाता है कि कैसे फिल्म वास्तव में हमारे दर्शकों के साथ जुड़ रही है। इस साल, हम युवा पीढ़ी पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जो अगर संतुलित तरीके से उठाए जाते हैं, तो बड़े पैमाने पर एक समान पीढ़ी बनेएगी – यह हमारी माता-पिता की पीढ़ी पर निहित है। एक लड़के और एक लड़की की मां के रूप में, मुझे सच में विश्वास है कि यह संभव है। #शेयर द लोड केवल एक नियमित अभियान नहीं है, यह सामाजिक परिवर्तन के लिए एक आंदोलन है, जहाँ पुरुषों और महिलाओं की समान ज़िम्मेदारियां और समान स्वामित्व है। लॉन्ड्री लगभग उस बदलाव का चेहरा है जिसे हम देश भर में चलाने की कोशिश कर रहे हैं। एरियल के साथ, कपड़ा धोना इतना सरल है कि किसी के लिए लोड साझा नहीं करने का कोई कारण ही नहीं बनता! ”

बीबीडीओ अध्यक्ष और मुख्य रचनात्मक अधिकारी जोसी पॉल, कहते हैं, “एरियल के द संस #शेयर द लोड की प्रारंभिक सफलता का जश्न मनाने के लिए हम यहां आकर रोमांचित हैं। नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि भारत ने फिल्म और उसके परिवर्तनकारी संदेश को अपना समर्थन दिया है। हमारा मानना है कि अभी और काम किया जाना है। एरियल के साथ, हम इस सामाजिक बदलाव को सोचे-समझे कार्यों के साथ करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो माताओं को उन बेटों की उस पीढ़ी बढ़ाने में मदद करेंगी जो बड़े होकर समान भागीदार बनते हैं। आंकड़े बताते हैं कि समाज में एक निश्चित बदलाव हो रहा है और आंदोलन की रचनात्मक एजेंसी के रूप में, हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हम आगे और प्रगति जारी रखेंगे।

एरियल #शेयर द लोड आंदोलन भारतीय समाज में मौजूद घरेलू असमानता को दूर करने के लिए शुरू हुआ है। वर्ष 2015 में, एरियल ने घरेलू कार्यों के असमान वितरण पर ध्यान आकर्षित करने के लिए एक बहुत ही प्रासंगिक सवाल उठाया – क्या केवल एक महिला का काम कपड़े धोना है? वर्ष 2016 में डैड्स शेयर द लोड ‘मूवमेंट के साथ, बातचीत का उद्देश्य असमानता के कारण का पता लगाना था, जो कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चलने वाला एक चक्र है। इस आन्दोलन का पिछले कुछ वर्षों में काफी प्रभाव पड़ा है, और ज्दातर पुरुषों ने पहले से कहीं अधिक भार साझा किया है। वर्ष 2015 में, 79 प्रतिशत पुरुषों ने सोचा था कि घरेलू काम एक महिला का काम है, वर्ष 2016 में, 63 प्रतिशत पुरुषों का मानना था कि घर का काम एक महिला / बेटी का काम है और ‘बाहर’ का काम पुरुष / बेटे का है। 2018 में, यह संख्या घटकर 52 प्रतिशत हो गई है। प्रगति के बावजूद, अभी और काम किया जाना बाकी है। इसकी ओर, # शेयर द लोड ने हाल ही में द संस # शेयर द लोड के साथ आंदोलन के तीसरे चरण का शुभारंभ किया, क्योंकि एरियल के साथ, कपड़े धोने का काम सबसे आसान काम हो जाता है, जिसके साथ लोड साझा करना शुरू करें!

द संस # शेयर द लोड अभियान एक असुविधाजनक सत्य पर आधारित है, जो आज के लिए बिल्कुल सच है। फिल्म में, माता की एक अनिर्दिष्ट सामाजिक कंडीशनिंग का अहसास और उसका दृढ़ संकल्प विचारशील औऱ संवेदनशील समाज के लिए एक बड़ी पहल है। उसकी सरल कार्रवाई पुरुषों को घर पर भार साझा करने का एक और कारण देती है।

अपने केंद्र में कपड़े धोने के साथ, एरियल के इस नए प्रयास में दिखता है कि एक माँ अपने बेटे को कपड़े धोना सिखाती है। भारतीय घरों में मौजूद इस असमानता के खिलाफ आंदोलन का चेहरा बनाते हुए, एरियल इंडिया अपने नवीनतम अभियान के साथ माताओं के जरिए बेटों की एक पूरी नई पीढ़ी को आगे लाना है जो # शेयर द लोड करना जानते हैं। क्योंकि, जब आज के बेटे कल के पति बन जाते हैं, तो उन्हें भार साझा करने के लिए पूरी तरह तैयार होना चाहिए।

लिंक सीज़न 3 – https://www.youtube.com/watch?v=8QDlv8kfwIM&t=3s
लिंक सीज़न 2- https://www.youtube.com/watch?v=wJukf4ifuKs
लिंक- सीज़न 1- https://www.youtube.com/watch?v=JX8kJSdjN8s

द संस # शेयर द लोड के लिए श्रेय :
एजेंसी: बीबीडीओ इंडिया
अध्यक्ष और मुख्य रचनात्मक अधिकारी: जॉसी पॉल
कार्यकारी क्रिएटिव निर्देशक: हेमंत श्रींजी
कार्यकारी उपाध्यक्ष: अतिन पहल
सीनियर क्रिएटिव डायरेक्टर कॉपी: आरती श्रीनिवासन
सीनियर क्रिएटिव डायरेक्टर आर्ट: बालकृष्ण गजेली
कॉपी सुपरवाइजर: करण नायर
कला पर्यवेक्षक: विजय कुमार वासाला
खाता योजना: मनीषा सेन
खाता प्रबंधन: मितुल शाह, कयूर देसाई
एजेंसी निर्माता: केवी कृष्णम राजू
प्रोडक्शन हाउस: ऑफरोड फिल्म्स
कार्यकारी निर्माता: खलील बचूअली
निर्देशक: गौरी शिंदे
निर्माता: अनिरुद्ध शर्मा

सर्वेक्षण के बारे में :
• 2018 के लिए – नेल्सन द्वारा जून 2018 में मुंबई, दिल्ली, बैंगलोर चेन्नई में 25-48 वर्ष के 897 विवाहित पुरुषों और महिलाओं के बीच सर्वेक्षण किया गया।
• 2016 के लिए: इस दौरान सभी दावे 10 से 14 वर्ष की आयु के पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के थे। यह सर्वे मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरू और हैदराबाद में एक स्वतंत्र तीसरे पक्ष द्वारा किए गया। जनवरी 2016 में हुए इस सर्वे में 542 लोगों को शामिल किया गया।
• 2015 के लिए: नवंबर 2014 में मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद और बेंगलुरू में एसी नेल्सन द्वारा किए गए सर्वे में 1000 व्यक्तियों को शामिल किया गया। इनमें महिलाओं और पुरुषों ने अपना पक्ष रखा।

Leave a Comment