एसकेआरएयूः संगठक एवं सम्बद्ध महाविद्यालयों की आमुखीकरण कार्यशाला प्रारम्भ

बीकानेर, 28 जनवरी। स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के समस्त संगठक एवं सम्बद्ध महाविद्यालयों के प्रवेश एवं परीक्षा व्यवस्था में एकरूपता के उद्देश्य से तीन दिवसीय आमुखीकरण कार्यशाला सोमवार को कृषि महाविद्यालय के सभागार में प्रारम्भ हुई।
कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कुलसचिव ताज मोहम्मद राठौड़ ने कहा कि विश्वविद्यालय के सभी संगठक और सम्बद्ध महाविद्यालय, विद्यार्थियों के प्रवेश एवं परीक्षा से संबंधित नियमों का भलीभांति अध्ययन कर लें तथा इनका प्रभावी क्रियान्वयन हो। उन्होंने कहा कि सभी महाविद्यालयों के प्रशासनिक नियमों एवं शुल्क में एकरूपता रहे। यदि कहीं नियमों में संशोधन की जरूरत होगी, तो बोम की बैठक में इन प्रस्तावों को रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक महाविद्यालय का प्रथम ध्येय यही हो कि विद्यार्थियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। उन्हें बेहतरीन शैक्षणिक वातावरण मिले।
कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता तथा कार्यशाला प्रभारी डाॅ. आई. पी. सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय कृषि उच्च शिक्षा परियोजना के तहत इसका आयोजन किया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य महाविद्यालयों के समक्ष प्रवेश और परीक्षा से संबंधित विभिन्न व्यावहारिक समस्याओं की जानकारी हासिल करना तथा इनके निराकरण के प्रयास करना है। उन्होंने कहा कि तीन दिवसीय कार्यशाला के तहत अलग-अलग सत्रों में विभिन्न विषय विशेषज्ञों द्वारा मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा।
विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डाॅ. ए. के. शर्मा ने परीक्षा व्यवस्था एवं प्रबंधन से जुड़े तथ्यों को विस्तारपूर्वक समझाया। उन्होंने कहा कि परीक्षा विश्वविद्यालय की साख और विद्यार्थियों के भविष्य से जुड़ा विषय होता है। इसमें पूर्ण पारदर्शिता और गोपनीयता होना जरूरी है। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. नरेन्द्र पारीक ने किया। उन्होंने तीन दिवसीय प्रशिक्षण की रूपरेखा के बारे में बताया।

Leave a Comment