जसरासर को पंचायत समिति बनाने की मांग

बीकानेर । नोखा विधायक बिहारीलाल बिश्नोई ने आज ग्रामीणों के साथ जसरासर को पंचायत समिति बनाने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर कुमार पाल गौतम से मुलाकात की । श्री बिश्नोई ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार वर्तमान में ग्राम पंचायतों एंव पंचायत समितियों के पुनर्सीमांकन/पुनर्गठन का कार्य चल रहा है । नोखा तहसील क्षेत्र में वर्तमान में 67 ग्राम पंचायतें है और नोखा एवं पाँचू दो पंचायत समितियां है। जिला कलेक्टर, बीकानेर ने 29 जुलाई 2019 को प्रकाशित नोटिस में हमारे तहसील क्षेत्र में कुल 12 नई ग्राम पंचायतों का नव-सृजन प्रस्तावित किया गया है ।
इस प्रकार नोखा तहसील क्षेत्र में 12 नई ग्राम पंचायतें बढ़कर इनकी संख्या 79 हो जाएगी । राज्य सरकार द्वारा रेगिस्तानी क्षेत्र के लिए जारी मानदंडों के अनुसार न्यूनतम 20 ग्राम पंचायतों को मिलाकर नई पंचायत समिति प्रस्तावित की जा सकती है और इनकी पालना हो तो नोखा तहसील में तीसरी पंचायत समिति जसरासर बनाई जा सकती है ।
उन्होंने कहा कि जब परिसीमन की प्रक्रिया प्रारंभ हुई तो हमनें उपखण्ड अधिकारी नोखा को पत्र भेजकर आग्रह किया था कि चूंकि जसरासर नई पंचायत समिति के सभी मानदंडों की पूर्ति करता है, अतः इसे पंचायत समिति के रूप में प्रस्तावित किया जाए । हमारे सुझावों के अनुरूप उपखण्ड अधिकारी, नोखा (बीकानेर) द्वारा विगत 15 जुलाई को भिजवाए गए प्रस्तावों में जसरासर को इसके लिए प्रस्तावित किया था, लेकिन बाद में जब राज्य सरकार द्वारा परिसीमन की समय सीमा 29 जुलाई 19 तक बढ़ाई गई तो संभवतः उपखण्ड अधिकारी, नोखा ने राजनैतिक दबाव के चलते इसे दबा गए ।
सही बिश्नोई ने कहा कि राजनैतिक कारणों से हमारे क्षेत्र की जनता को विकास से महरूम करना उचित नहीं है । वर्तमान में प्रकाशित नोटिस के अनुसार पंचायत समिति नोखा में 46 ग्राम पंचायतों को रखा गया है । जबकि राज्य सरकार के संशोधित निर्देशानुसार मरुस्थलीय जिलों में एक पंचायत समिति में 40 से ज्यादा ग्राम पंचायतें होने पर दूसरी पंचायत समिति प्रस्तावित किए जाने का स्पष्ट प्रावधान है ।
इससे साफ जाहिर होता है कि राजनैतिक दबाव के कारण स्थानीय प्रशासन द्वारा राज्य सरकार के निर्देशों की जानबूझकर पालना नहीं की जा रही है ।
श्री बिश्नोई ने जिला कलेक्टर को अवगत करवाते हुए कि हमारे जिले के सत्ता पक्ष के विधायकों के गांव को पंचायत समिति बनाया जा रहा है लेकिन जसरासर की उपेक्षा इसलिए की जा रही है कि यह कस्बा मेरी ननिहाल है । विधायक बिश्नोई ने चेताया कि यदि हमारी जायज बात को नहीं सुना गया तो तहसील मुख्यालय पर बड़ा आंदोलन किया जाएगा । इस दौरान बिश्नोई के साथ अशोक भाटी, पंचायत समिति सदस्य कानाराम तर्ड, आत्माराम तर्ड जसरासर, रामकरण सारण,रामलाल प्रजापत , लूणाराम तर्ड साधसर, गिरधारी लाल गोदारा कुचोर, मनोज गोदारा युवा मोर्चा उपाध्यक्ष, राजाराम साहू, जगदीश साहू लालमदेसर बड़ा, रामकुमार भादू, अशोक तर्ड साजनवासी, रामकुमार नायक जसरासर सहित उपस्थित रहे ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!