कोरोना को लेकर महिलाओं में चिंता

मेडिकल जगत में आजकल चर्चा और चिंता का विषय बना हुआ है कोरोना वायरस। इस वायरस के तेजी से फैलने के केस सामने आ रहे हैं, जिससे चिकित्सा विशेषज्ञों के बीचा चिंता बढ़ रही है। लगातार इस वायरस से जुड़ी नई जानकारियां सामने आ रही हैं। जिनमें इस वायरस के कारण होनेवाली दिक्कतें और लक्षण जैसी जरूरी बातें भी शामिल हैं। कोरोना वायरस का प्रकोप अब पूरी दुनिया में देखने को मिल रहा है। अब चीन की सरहदों को पार कर यह वायरस दुनिया के कई देशों में मातम की वजह बना हुआ है। यही वजह है कि भारत सरकार ने सभी इंटरनैशनल फ्लाइट्स बंद कर दी हैं और पूरे देश में 21 दिन का कर्फ्यू लगा दिया है। ताकि इस वायरस के संक्रमण को रोका जा सके और इसका बायॉलजिकल साइकल ब्रेक किया जा सके।
इस समय हम अपने तन और मन पर नियंत्रण रख कर ही इस लड़ाई को लड सकते हैं l हमे अपने आसपास की सभी बातों का ध्यान रखना होगा l समय के इस मुश्किल दौर मे हमारी सुरक्षा ही हमारे परिवार, समाज और देश का बचाव कर सकती है l आज हम सबको एकजुट होकर इस पर विचार करना होगा l

महिलाओं को डबल काम करना पड़ रहा है

नीतू शर्मा
कोरोना वायरस का संक्रमण दिसम्बर मे चीन से शुरू हुआ जो कि फैलता ही गया और हमारे देश भारत मे भी आ पहुंचा l
आज पूरा देश लॉकडाउन है सभी लोग अपने-अपने घरों मे कैद हैंl सभी की जिंदगी बदल सी गई है और ऐसे समय मे जहां पुरुष बिल्कुल फ्री महसूस कर रहे हैं वहीँ कुछ महिलाओं की दिनचर्या बदल गयी हैं. कुछ महिलाओं पर अतिरिक्त कार्य भार आ गया है खास कर उन महिलाओं पर जो काम काजी है, जो वर्क फ्रोम होम कर रहीं हैं, जिनके घर कामवाली बाई की छुट्टी हो चुकी है l
एसी महिलाओं को डबल काम करना पड़ रहा है। पति और बच्चे दिन भर घर पर होने की वजह से उनका सारा दिन रसोई मे ही व्यतित हो रहा है, भले ही सब आराम कर रहे हों पर महिलाएं दिन भर ड्यूटी पर हैंl इतना कार्य भार होने पर भी बड़े ही प्रेम और संयम से वो इस मुश्किल घड़ी मे अपने परिवार को सम्भाल रहीं हैं, उनकी सुरक्षा का ख्याल रख कर कहीं ना कहीं देश का साथ दे रहीं हैं ऐसी सभी महिलाओं का मैं सम्मान करती हूं और ये कहना चाहती हूं कि इसी तरह प्रेम और संयम से ये लड़ाई लड़ते रहे, जीत हमारी ही होगी कोरोना को हमारे देश से भागना ही होगा l

वायरस से हमारे जीवन पर अंकुश लगा दिया
जहां पूरी दुनिया अमन चैन से अपना जीवन यापन कर रही थी।वही अचानक एक वायरस आया और पूरी दुनिया के लोगो को उथल पुथल कर गया और वो है कोरोना जिसको हम covid-19 भी कह सकते हैं।इसने महामारी का रूप ले लिया हैं। कोरोना वायरस महामारी के खोफ से पूरे देश की परिस्थितियों अनुकूल नहीं है। इस समय इस वायरस से हमारे जीवन पर अंकुश लगा दिया हैं कि घर से बहार निकलना बंद हो गया इसलिये हर जगह साफ सफाई रखिये। संकट का समय है लेकिन यह भी गुजर जाएगा। संयम और धैर्य से इस कोरोना को हराया जाएगा।
खुद बचेंगे तो दूसरे भी खुद अपने आप बच जाएंगे। घर मे रहो और जीवन बचाओ।

इंसान के शरीर मे पहुंचने के शरीर मे पहुंचने के बाद इंसान के फेफड़ों मे संक्रम

खुशबु कच्छावा
कोरोना इंसान के शरीर मे पहुंचने के शरीर मे पहुंचने के बाद इंसान के फेफड़ों मे संक्रमण करता है जिस से बुखार आता है और खांसी हो जाती है और उसके बाद साँस लेने में भी परेशानी होती है l
ये सब लक्षण दिखने मे पांच दिन लगते हैं l कुछ लोगों में इसके लक्षण का पता बहुत दिनों मे भी देखने को मिलता है l
WHO के अनुसार वायरस के शरीर मे पहुंचने व लक्षण दिखने के बीच 14 दिनों का समय हो सकता है

भारत के कई शहरो में लॉकडाउन

वंशिका सिंघल
भारत समेत पुरा विश्व इस समय लॉकडाउन से गुज़र रहा है। भारत के कई शहरो में लॉकडाउन के साथ कर्फ्यू भी लगया गया है। यहाँ अभी तक करीब 1450 व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित हैं और 6,8 राज्य जैसे महाराष्ट्र,केरल,कर्नाटक,राजस्थान,दिल्ली,हरियाणा और पंजाब जैसे राज्य इस वायरस से अधिक प्रभावित है। बच्चों का भविष्य अन्धकारमय हो गया है। भारत के निम्न तबके के व्यक्ति पूरी तरह बर्बाद हो रहे हैं और उन पर रोजिरोटी का संकट आ गया है।
भारत सरकर द्वारा कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए समय समय पर कई कदम उठाए हैं जैसे-
10 मार्च को सबसे पहले हवाई यात्राओं पर प्रतिबंध लगाया गया उसके बाद स्कूल कॉलेज बन्द करे गए। इस समय हमारे देश के डॉक्टर ,पुलिस,व उनके सहयोगी भगवान का रूप बन कर देश को बचाने का प्रयास कर रहे है बगैर इस बातकी परवाह किये बिना की यह संक्रमण उन्हे भी हो सकता है। अब हम सभी को मिलकर इस संकट को तोड़ना होगा l

Leave a Comment

error: Content is protected !!