संघ के लोग आतंकी गतिविधियों में शामिल

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. चंद्रभान ने केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के विवादित बयान का साथ देते हुए कहा है कि आरएसएस के लोग आतंकवादी गतिविधियों में शामिल है।अजमेर दरगाह, समझौता एक्सप्रेस और पुणे में हुए ब्लास्ट के मामले में आरएसएस के लोगों के खिलाफ सबूत मिले और वे पकड़े भी गए हैं। अब आरएसएस को सोचना चाहिए कि उनको ऐसा नहीं होने देना चाहिए। शिंदे ने तो उनको अलर्ट किया है कि ऐसे लोगों को अलग करना चाहिए। चंद्रभान आज जयपुर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

आरएसएस और भाजपा आतंकवादी गतिविधियों में शामिल लोगों को बाहर करने के बजाय उनके समर्थन में खड़े हो रहे हैं। ऐसे लोगों को बाहर क्यों नहीं किया जाता? कांग्रेस तो भ्रष्टाचार या अपराध में शामिल हर व्यक्ति को बाहर करने के साथ दूरी बना लेती है, जबकि भाजपा और आरएसएस वाले आतंकवाद हो या भ्रष्टाचार के आरोप आरोपियों के पक्ष में खुलकर खड़े हो जाते हैं।

चंद्रभान ने कहा कि भाजपा और आरएसएस तो एक ही है। इनमें कोई खास अंतर नहीं है। लेकिन इतना जरूर है कि आतंकवाद की कोई जाति मजहब नहीं होता, आतंकवाद को जाति, मजहब वर्ग में बांटकर नहीं देखना चाहिए। आतंकवादी कोई भी हो सकता है, उसमें हिंदु, मुस्लिम, सिख कोई भी हो सकता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!