टीम भावना के साथ दिए गए लक्ष्यों को समयबद्धता के साथ पूर्ण करें

Sr. Officers' Meeting1अजमेर, 12 अक्टूबर। डिस्काॅम्स अध्यक्ष श्री श्रीमत पाण्डे ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि उदय योजना एवं मुख्यमंत्राी विद्युत सुधार योजना के अन्तर्गत विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं का त्वरित गति से निस्तारण किया जाए। इस मौके पर जयपुर डिस्काॅम के प्रबंध निदेशक श्री आर. जी. गुप्ता भी मौजूद थे।
डिस्काॅम्स अध्यक्ष गुरूवार को अजमेर में पंचशील स्थित काॅरपोरेट कार्यालय सभागार में आयोजित निगम के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
बैठक में अध्यक्ष डिस्काॅम्स ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि उदय योजना के तहत चल रहे फीडर रिनोवेशन प्रोग्राम व मुख्यमंत्राी विद्युत सुधार योजना के तहत किए जा रहे कार्यों में आने वाली जनसमस्याओं का समयबद्धता के साथ निस्तारण किया जाए। उन्होंने अधिकारियों से टीम भावना के साथ कार्य करने के लिए कहा। उन्होंने अधिकारियों से वृत्तवार उदय योजना के तहत चल रहे फीडर रिनोवेशन प्रोग्राम व मुख्यमंत्राी विद्युत सुधार योजना के तहत उनके क्षेत्रा में किए जा रहे कार्यों की विस्तार से जानकारी ली। अधिकारी अपनी जिम्मेदारी व कत्र्तव्य के साथ इस कार्य को पूर्ण करें। उन्होंने अधिकारियों को घरेलू/अघरेलू/औद्योगिक उपभोक्ताओं के लम्बित कनेक्शन तुरन्त करने, टेम्पर्ड मीटर वाले कनेक्शनों की सतर्कता जांच, खराब मीटर बदलने, राजस्व वसूली शत-प्रतिशत करने, 24 घंटे बेहतर विद्युत आपूर्ति देने, ट्रांसफार्मर जलने में कमी व छीजत कम करने के निर्देश दिए।
उन्होंने दीनदयाल ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के अन्तर्गत किए जा रहे कार्यो की जानकारी ली व निर्देश दिए कि इस योजना के अन्तर्गत आबादी व गैर आबादी क्षेत्रों में रहने वाले ऐसे परिवार जो विद्युत से वंचित है उन्हें निगम द्वारा विद्युतीकृत करने के जारी आदेशों के अनुसार लाभान्वित करें। उन्होंने निदेशक (वित) श्री एस. एम. माथुर से डिस्काॅम के सभी उपखण्डों की राजस्व संबंधी जानकारी ली। साथ ही उन्होंने सभी वृत्त अधिकारियों से विद्युत की बढती खपत व राजस्व कम आने, लोस रिडक्शन प्रोग्राम के तहत किए जा रहे कार्यो की जानकारी ली।
जयपुर विद्युत वितरण निगम लि. के प्रबंध निदेशक श्री आर. जी. गुप्ता ने अजमेर डिस्काॅम के कार्य में प्रगति लाने के संबंध में सुझाव दिया कि अभियंता आपसी मेल मिलाप से कार्य करें। उन्होंने कहा कि वे अपने मन में उच्च व निम्न पद का अन्तर नहीं रखते हुए वे टीम भावना के साथ कार्य करें। किसी भी कार्य को शुरू करने से पूर्व अपने मन को कार्य के प्रति पूर्ण रूप से संतुष्ट कर लेना चाहिए तभी किए गए कार्य के बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। अधिकारी लगन, ईमानदारी, मेहनत, सत्यता व निष्ठा के साथ अपने कार्य को पूर्ण करें। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की उदय योजना के अन्तर्गत वर्ष 2019 तक देश के सभी घरों में बिजली पहँुचाने का लक्ष्य है, इस योजना को पूर्ण रूप देने के लिए अविद्युतिकृत गांव व ढ़ाणियों का सर्वे किया जा रहा है। इसके तहत राजस्थान सरकार को यह कार्य लक्ष्य के अनुसार पूर्ण करना है। डिस्काॅम के हर सब डीविजन में जाकर किए गए कार्यों का निरीक्षण किया जाना चाहिए व फील्ड में कार्य करने वाले अधिकारियों/कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान त्वरित गति से किया जाना चाहिए। मीटर रीडर द्वारा लाई गई रीडिंग की क्राॅस चेकिंग की जाए।
प्रबंध निदेशक श्री बी. एम. भामू ने पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष कम राजस्व प्राप्त होने, छीजत में कमी करने व विद्युत सुधार कार्यक्रम के अन्तर्गत किए जा रहे कार्यों की सभी अधिकारियांे से विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी व कर्मचारी ईमानदारी व लगन के साथ अपने कार्य को दिए गए लक्ष्यों के आधार पर पूर्ण करंे। फील्ड में कार्यरत सभी सहायक/कनिष्ठ अभियंता/फीडर इंचार्ज अपने उच्च अधिकारियों के आदेशों की पालना करें। फील्ड में ऐसे कई छोटे-मोटे कार्य होते है जिनकों पूर्ण करने में कई तरह की औपचारिकता करनी होती है उसमें अधिक समय लगता है इससे उपभोक्ता व आमजन को परेशानी उठानी पड़ती है, इसके लिए लम्बी प्रक्रिया को न अपनाकर कार्य को समय पर पूर्ण करें। उन्होंने कहा कि सतर्कता जांच में पूर्ण पारदर्शिता बरतें।
बैठक में प्रबंध निदेशक ने बताया कि निगम में होने वाले अपव्यय को रोकने का प्रयास करें। सभी फीडर इंचार्ज अपने-अपने फीडर पर आने वाले पेडों की कटिंग व अर्थिंग का कार्य स्वयं करेंगे, जो पूर्व में ठेकेदार द्वारा किया जाता था। उन्होंने कहा कि छीजत कम करने, राजस्व बढ़ाने, उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत आपूर्ति देने के लिए प्राथमिकता से कार्य किए जाए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की योजना दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत घरेलू कनेक्शन देने, 100 मीटर की दूरी वाले कनेक्शन देने, लोड रिडक्शन प्रोग्राम के तहत जो भी कार्य बकाया है उन्हें दिसम्बर, 2017 तकपूर्ण करने तथा बकाया कृषि कनेक्शन पूर्ण करने के कार्य समयबद्धता के साथ पूर्ण किए जाए। कम खपत वाले उपभोक्ताओं की सतर्कता जांच नहीं करें यदि उनके वहां चोरी पाई जाती है तो उन्हें प्रथम बार समझाईश कर चोरी नहीं करने के लिए पाबंद करें। सभी फीडर इंचार्ज चल रही योजनाओं के बारे में आम जन को अवगत करावें, इससे उपभोक्ता को सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी मिलेगी। साथ ही उपभोक्ता इसका लाभ ले सकेंगे।
बैठक में निदेशक (तकनीकी) श्री के. पी. वर्मा ने बताया कि फील्ड में जो वास्तविक कार्य होता है उसी की रिपोर्ट मुख्यालय को भेंजे। लोड रिडक्शन प्रोग्राम के तहत सभी फीडरों का कार्य दिसम्बर, 2017 तक पूर्ण किए जाए तभी छीजत में कमी के परिणाम फरवरी, 2018 तक प्राप्त होंगे। फीडर के कार्य वास्तव में पूर्ण हो जाने पर छीजत स्वतः ही कम हो जाएगी।
बैठक में सचिव (प्रशासन) श्री के. सी. लखारा), संभागीय मुख्य अभियंता श्री एन. एस. सहवाल (उदयपुर जोन), मुख्य अभियंता श्री वी.एस. भाटी (प्रोजेक्ट), श्री एन. एस. निर्वाण (एमएम), अति. मुख्य अभियंता श्री एच. एस. मीणा (मुख्यालय), अति. पुलिस अधीक्षक (सतर्कता) श्री मुकेश सांखला, मुख्य लेखाधिकारी श्री एम. के. जैन (ईटीबी), श्री एम. के. गोयल (आॅडिट), अधीक्षण अभियंता श्री सी. पी. गांधी (आईटी), श्री ए. के. गुप्ता (अजिवृ/अशवृ), श्री वी.पी सिंह (सतर्कता), श्री एम. एल. मीणा (एमएम), वरिष्ठ लेखाधिकारी (अजमेर/झुंझुनूं/उदयपुर), कम्पनी सचिव श्रीमती नेहा शर्मा, टी ए टू एमडी श्री मुकेश बाल्दी, टी ए टू संभागीय मुख्य अभियंता श्री अशोक सहित समस्त संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे। सभी अधिकारियों ने प्रबंध निदेशक को माला पहनाकर व पुष्प गुच्छ भेंट कर उनका स्वागत किया।

Print Friendly

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>