अमित शाह अपने पुत्र के भ्रष्टाचार मामले में पद से दे इस्तीफा

1बीकानेर बुधवार, 11 अक्टूबर 2017 आज बीकानेर जिला देहात कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष महेन्द्र गहलोत ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, पुत्र, श्री जय शाह की कंपनियों में 16000 गुना कारोबार बढ़ने पर श्री अमित शाह के पद से इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि श्री नरेंद्र मोदी कहते थे – ‘न खाऊंगा, न खाने दूंगा’। अब समाचारों में यह उजागर हुआ है कि उनकी नाक के नीचे ही नहीं, उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्री अमित शाह के आंगन से ही परिवार व पुत्र, श्री जय शाह की कंपनियों तथा व्यापारिक गतिविधियों पर गंभीर सवालिया निशान व शंकाएं खड़ी हो गई हैं। एक अतिश्योक्ति यह भी है कि ‘बिना आग धुआं नहीं उठता’। क्या ऐसी कोई सच्चाई है जिसे देश को जानना चाहिए?
देश ‘विकास की जय’ की प्रतीक्षा कर रहा था। अब समाचारों ने बताया कि कैसे यकायक ‘जय का विकास’ हो गया।
देश की जनता आरोपों की तह तक जा सच्चाई जानना चाहती है। जनता सात सवालों का जवाब चाहती है:-
1. ‘टेंपल इंटरप्राईज प्रा. लि.’, जो कि श्री अमित शाह की धर्मपत्नी, पुत्रवधू व पुत्र- श्री जय शाह की कंपनी है, ऐसा क्या व्यापार करती थी जो साल के भीतर भीतर 16000 गुना कारोबार बढ़ा रही थी? इसमें क्या संपत्तियां थीं, कितने कर्मचारी थे, क्या देनदारी थी व इन सबका पैसा कहां से आ जा रहा था? और जादू की वो कौन सी छड़ी थी, जिससे साल 2012-13 व 2013-14 में नुकसान कमाने वाली कंपनी ने भाजपा सरकार बनने के एक साल के भीतर 16000 गुना (यानि 16 लाख प्रतिशत) कारोबार बढ़ा लिया?
2. ऐसा क्या कारण था कि 16000 गुना बढ़े कारोबार वाली इस कंपनी, यानि टेंपल इंटरप्राईज प्रा. लि., को अक्टूबर, 2016 में नुकसान दिखा बंद करने की नौबत आ गई? क्या आयकर विभाग की जिम्मेदारी नहीं बनती थी कि वो ऐसी संदिग्ध स्थिति में बंद होने वाली कंपनी की नोटिस दे जांच करते? गुजरात व देश का व्यापारी तो अपने सही व्यवसाय व बैंक में पैसा जमा कराने पर भी इंकम टैक्स विभाग द्वारा उत्पीड़ित किया जाता है, तो श्री अमित शाह के पुत्र की कंपनी के अचानक फायदे व अचानक नुकसान बारे आंख पर पट्टी क्यों बांध ली जाती है? जनता यह भी जानना चाहती है कि इस उक्त कंपनी के एक कमरे के कार्यालय में ऐसी क्या विलासितापूर्ण वस्तुऐं व सुविधाएं थीं कि उसका किराया 80 लाख रु. दिखाया गया?
3. श्री अमित शाह के पुत्र, श्री जय शाह की कंपनी, टेंपल इंटरप्राईज़ प्रा. लि. के खातों में यह भी दर्शाया गया है, कि 51 करोड़ रु. की राशि विदेशों से आई है। जनता जानना चाहती है कि ऐसी कौन सी खरीद फरोख्त या व्यवसाय किन-किन देशों में किया गया, जिससे करोड़ों रुपया विदेश से कंपनी के खाते में आया? क्या श्री अमित शाह व जय शाह इस पर प्रकाश डालेंगे? क्या करोड़ों की राशि विदेश से कंपनी के खाते में आने पर किसी सरकारी एजेंसी के कान नहीं खड़े हुए व कभी कोई पूछताछ क्यों नहीं की गई? यदि यही राशि, किसी साधारण व्यक्ति की कंपनी (जिसका कारोबार 1 साल पहले तक मात्र 50,000 रु. हो) में आ जाता तो फिर क्या ई.डी./सी.बी.आई/इंकम टैक्स आदि विभाग उसका जीना दूभर नहीं कर देते?
4. ऐसे क्या कारण थे कि श्री अमित शाह के पुत्र, श्री जय शाह की कंपनी, टेंपल इंटरप्राईज प्रा. लि. को केआईएसएफ फाईनेंशियल सर्विसेस द्वारा 15.78 करोड़ रु. का ‘अनसिक्योर्ड लोन’ दिया गया। स्मरण रहे के केआईएफएस फाईनेंशियल सर्विसेस के मालिक, श्री राजेश खंडवाला हैं, जो अंबानी समूह के गुजरात के कर्ता-धर्ता, श्री परिमल नथवानी के समधी हैं। संयोग से श्री परिमल नथवानी को राज्य सभा में भाजपा की मदद से, वो भी झारखंड से, दूसरी बार चुना गया है। सार्वजनिक पटल पर यह जानकारी भी है कि केआईएफएस फाईनेंशियल सर्विसेस को शेयर व्यापार में ‘सेबी’ द्वारा चेतावनी भी दी गई और व्यापार करने पर भी रोक लगाई गई। जनता का प्रश्न यह है कि क्या श्री राजेश खंडवाला को इस अनसिक्योर्ड लोन के एवज में कोई प्रत्यक्ष या परोक्ष राहत या फायदा प्राप्त हुआ या फिर यह सारा कर्जा, सिर्फ एक प्रेमभरी समाजसेवा थी? प्रश्न यह भी उठता है कि क्या श्री अमित शाह के पुत्र की कंपनी के अलावा भी ऐसे अनसिक्योर्ड लोन केआईएफएस फाईनेंशियल सर्विसेस द्वारा किसी और कंपनी को भी दिए गए, क्योंकि उनकी बैलेंस शीट में ऐसी कोई जानकारी नहीं दिखती? तो यह उपकार श्री जय शाह की कंपनी पर ही क्यों?
5. अब दूसरी कंपनी – कुसुम फिनसर्व प्रा. लि. – की बात करें, जिसे बाद में एलएलपी में बदला गया। यह भी श्री अमित शाह के पुत्र, श्री जय शाह की कंपनी है। उक्त कंपनी को कालूपुर कमर्शियल कोऑपरेटिव बैंक द्वारा 25 करोड़ का ऋण महज 6.20 करोड़ की दो संपत्तियों को गिरवी रख दिया गया। एक संपत्ति श्री अमित शाह की मल्कियत है और दूसरी, श्री यशपाल चुदासमा की। यह वही यशपाल चुदासमा हैं जिन्हें सीबीआई द्वारा सोहराबुद्दीन व कौसर बी. फर्जी एनकाउंटर केस में आरोपित किया गया था, व साल 2015 में सीबीआई कोर्ट ने इन्हें व श्री अमित शाह को बरी कर दिया। देश की जनता रिज़र्व आर.बी.आई. से पूछना चाहती है कि क्या आरबीआई व बैंक के नियम इस बात की अनुमति देते हैं कि मात्र 6.20 करोड़ की संपत्ति पर 25 करोड़ का ऋण दिया जा सके? क्या इन्हीं उदार शर्तों पर कालूपुर बैंक द्वारा ऐसा ऋण अन्य किसानों व छोटे व्यवसायियों को भी दिया गया है या फिर मापदंड अलग अलग हैं?
6. श्री अमित शाह के बेटे श्री जय शाह की कंपनी, कुसुम फिनसर्व की अनोखी दास्तां यहीं समाप्त नहीं होती। इस कंपनी का प्राथमिक धंधा तो शेयर व्यापार व आयात-निर्यात का है। 2014 में मोदी सरकार बनने व श्री पीयूष गोयल के केंद्रीय बिजली मंत्री बनने के बाद, इस कंपनी ने 2016 में पवन चक्की (विंडमिल) द्वारा 2.1 मेगावॉट बिजली उत्पादन का प्लांट भाजपा शासित मध्यप्रदेश के रतलाम में लगाने का निर्णय लिया। बिजली मंत्रालय के रिन्यूएबल एनर्जी के तहत मिनी रत्न संस्था (प्त्म्क्।) द्वारा 10.35 करोड़ का ऋण भी जय शाह की कंपनी को दे दिया गया। देश जानना चाहता है कि वो ऐसे कौन से मापदंड हैं, जिनके तहत शेयर व आयात निर्यात का धंधा करने वाली कंपनी, जिसे बिजली उत्पादन का रत्ती भर भी अनुभव नहीं था, भारत सरकार द्वारा सस्ते ऋण के योग्य पाया गया?
देश यह भी जानना चाहता है कि रतलाम में लगाए जाने वाले पवन ऊर्जा प्लांट की मौके पर वस्तुस्थिति क्या है? देश तो यह भी पूछ रहा है कि मौके पर ऐसा कोई पवन ऊर्जा प्लांट है भी या नहीं? क्या श्री पीयूष गोयल यह भी बताएंगे कि उनके मंत्रालय द्वारा बगैर तजुर्बे की कितनी कंपनियों को इस प्रकार सस्ते ऋण की सहायता दे, भाजपा शासित प्रदेशों में प्लांट लगावाए गए? क्या बेरोजगारी दूर करने का न्यू इंडिया में यह न्यू मॉडल है?
7. सबसे विचित्र घटना तो तब घटी तब भारत सरकार के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री, श्री पीयूष गोयल एक औचक प्रेस वार्ता में श्री जय शाह का बचाव करते दिखे। वो भी तब जब उनके खुद के मंत्रीकाल में ही उनके मंत्रालय द्वारा श्री जय शाह की कंपनी को करोड़ों रु. का सस्ता ऋण उपलब्ध करवाया गया था। सवाल यह उठता है कि क्या श्री जह शाह, मोदी मंत्रीमंडल में मंत्री हैं या फिर भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारी? यदि नहीं तो फिर क्यों भारत सरकार के मंत्री एक निजी व्यक्ति के बचाव में अकारण खड़े हैं? भाजपा के मंत्रियों ने कितने और लाभकर्ताओं व ऋण लेने वालों की ऐसी वकालत सार्वजनिक तौर पर की है?
भाजपा के कई राष्ट्रीय अध्यक्षों के शंकास्पद आचरण व आर्थिक अनियमितताओं के इल्जामों का चोली दामन का साथ रहा है। पिछले वर्षों में तीन भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्षों को संदेह के घेरे में लगे इल्जामों के चलते पदमुक्त होना पड़ा। सबको याद है कि जैन हवाला केस के बाद, श्री लाल कृष्ण आडवानी ने त्याग पत्र दे जांच व मुकदमें के निर्णय तक कोई पद न लेना स्वीकार किया था। तहलका कांड में भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्री बंगारु लक्ष्मण ने रिश्वत लेते पकड़े जाने पर इस्तीफा दे दिया था। श्री नितिन गडकरी ने तो आरोप लगते ही राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था।
राष्ट्रहित व जनता की मांग यह है कि ताजा प्रकरण में लगे सारे आरोपों की सत्यता की निष्पक्ष जांच अनिवार्य भी है व सामाजिक और राजनैतिक मूल्यों तथा नैतिकता की कसौटी भी, ताकि दोषी बच न पाए व निर्दोष पाप का भागीदार न बन जाए।
अब यह प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी के इम्तिहान की घड़ी है। क्या वो मित्रता व दलगत राजनीति को चुनेंगे या फिर सत्यता व नैतिकता को? देश देख रहा है।
वक्त की मांग है कि श्री नरेंद्र मोदी एक निष्पक्ष जांच के लिए बगैर देरी श्री अमित शाह का इस्तीफा लें लें या फिर उन्हें पदमुक्त कर दें। एक निष्पक्ष तथा विश्वसनीय जांच हेतु सुप्रीम कोर्ट के दो पदासीन न्यायाधीशों का कमीशन बनाया जाए जो शीघ्र अपनी रिपोर्ट दे व सच्चाई की तह में जाकर उचित कार्यवाही की अनुशंसा करे। देहात के प्रवक्ता ओमप्रकाश सैन बताया कि इस मुद्धे पर देहात कांग्रंेस कमेटी द्वारा आज सांयः 4 बजे जिला कलेक्ट्रट पर पुतला दहन कर विरोध प्रदार्शन किया।
इस विरोध प्रदर्शन में प्रदेश मुख्य संगठक सेवादल मार्शल प्रहलादसिंह, पेंशनर्स सम्भाग अध्यक्ष अम्बाराम इणखिया, उपाध्यक्ष नारायणसिंह चारण, हनुमान चौधरी, देहात महिला अध्यक्ष शशिकला राठौड, देहात महासचिव विमल भाटी, राधेश्याम तर्ड, गणेशाराम दावां, श्यामवीरसिंह राधव, एड.विजय गोदारा, खाजूवाला यूथ कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष लेखराम धतरवाल, मजदूर नेता मोहन गहलोत, शकरलाल झोरड, मनीराम कासनिया, शिवकुमार स्वामी, देहात ओबीस प्रकोष्ठ अघ्यक्ष पुरखाराम गेधर, कानाराम कूकणा, पूर्व उपसरपंच असरफअली, धनराज सोलंकी, गणेशाराम सैन, श्रीराम पंवार, अब्दुल रहमान लोदरा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्रवणकुमार गाट, पूनमचन्द, शहर ओबीस प्रकोष्ठ अघ्यक्ष हसन अली शहर प्रवक्ता एन.डी.कादरी महेन्द्र कूकणा, राजभाटनागर, का.का.सदस्य सहीराम सीगड, मालाराम, सुमन सोलंकी, कृष्णा, विधि प्रकोष्ठ अध्यक्ष ओमप्रकाश जाखड, मुनिल कुरैशी, अनिल गहलोत, श्याम बीठनोक सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे।

(ओमप्रकाश सैन)
प्रवक्ता

Print Friendly

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>