इतिहास में गुर्जर समाज: राष्ट्रीय संगोष्ठी 3 से

अजमेर। महर्षि दयानन्द सरस्वती विष्वविद्यालय, में पृथ्वीराज चौहान ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक शोध केन्द्र एवं अखिल भारतीय संस्कृति समन्वय संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में ‘‘ इतिहास में गुर्जर समाज: पुनरावलोकन ’’ विषयक दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन विष्वविद्यालय स्थित स्वराज सभागार में किया जायेगा। संगोष्ठी का उद्घाटन सत्र शनिवार को प्रातः 10ः00 बजे आयोजित किया जायेगा। संगोष्ठी में जम्मू कष्मीर, मध्य प्रदेष, गुजरात, महाराष्ट्र आदि राज्यों से प्रतिभागी शमिल होंगे।
संगोष्ठी निदेषक प्रो. षिवदयालसिंह ने बताया की संगोष्ठी में कुल पांच तकनीकी सत्र होंगे जिसमें गुर्जर समाज के भौगोलिक विस्तार सांस्कृतिक इतिहास विदेष आक्रान्ता और गुर्जर सहित विभिन्न विषयों पर शोध पत्र प्रस्तुत किये जायेगे तथा व्याख्यान होंगे। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता महर्षि दयानन्द सरस्वती विष्वविद्यालय, कार्यवाहक कुलपति प्रो. भागीरथ सिंह करेंगे तथा अध्यक्षता अध्यक्ष, अल्पसंख्यक आयोग राजस्थान सरदार जसबीर सिंह करेगें। इतिहास एवं भारतीय संस्कृति विभाग राजस्थान विष्वविद्यालय जयपुर की पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. विभा उपाध्याय बीज भाषण प्रस्तुत करेंगी शनिवार को उद्घाटन सत्र के बाद प्रथम तकनीकी सत्र आयोजित किया जाएगा। यह सत्र गुर्जरो की उत्पति के विभिन्न मत एवं भौगोलिक विस्तार विषय आधारित होगा इस सत्र की अध्यक्षता सुखाड़िया विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जे.पी. शर्मा करेेगे तथा मुख्य वक्ता राजकीय के. आर. जी स्नातकोŸार महाविद्यालय ग्वालियर में इतिहास विभाग के डॉ. मधुबाला कुलश्रेष्ठ होगी। द्वितीय तकनीकी सत्र दोपहर 2 बजे से प्रारम्भ होगा जिसमे गुर्जर समाज के संस्कृतिक इतिहास विषय पर विचार मंथन होगा। इस सत्र की अध्यक्षता अल्पसंख्यक आयोग राजस्थान के अध्यक्ष डॉ. जसबीर सिंह करेगे तथा मुख्य वक्ता राजकीय स्नातकोŸार महाविद्यालय झालावाड़ की डॉ सज्जन पोषवाल होंगी। तृतीय तकनीकी सत्र विदेषी आक्रान्ता और गुर्जर प्रतिरोध (मध्यकाल) विषय पर आधारित होगा इसकी अध्यक्षता माध्यमिक षिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. बी.एल चौधरी करेगे तथा मुख्य वक्ता राजकीय स्नातकोŸार महाविद्यालय उधमसिंह नगर (उŸाराखण्ड) के डॉ सुषील भाटी होगें। गुर्जर समाज के आस्था केन्द्र एवं वंषावलियां पर आधारित चतृर्थ सत्र होगा इसकी अध्यक्षता हिमाचल प्रदेष केन्द्रीय विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कुलदीप चन्द्र अग्निहोत्री करेंगे तथा मुख्य वक्ता वंषावली लेखक सरदार सिंह राव होंगे।
रविवार को गुर्जर समाज का ऐतिहासिक अध्ययन: बिखराव चुनौतियां एवं संभावनाएं विषय आधारित पंचम तकनीकी सत्र होगा इस सत्र की अध्यक्षता गुरु गोविन्द जनजातीय विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कैलाष सोडानी करेंगं तथा मुख्य वक्ता षिक्षाविद् ओम प्रकाष गांधी होगें। दोपहर 1 बजे से समापन सत्र आयोजित किया जायेगा जिसके मुख्य अतिथि हिमाचल प्रदेष केन्द्रीय विष्वविद्यालय के प्रो. कुलदीप चन्द्र अग्निहोत्री होगे तथा मुख्य वक्ता अखिल भारतीय प्रमुख धर्म जगरण समन्वय संस्था के शरदराव ढ़ोले होंग

Leave a Comment

error: Content is protected !!