सांस्कृतिक कार्यशाला का शुभारंभ

आज दिनांक 29 11 2018 संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार एवं विद्या भारती के संयुक्त तत्वावधान में पुष्कर मार्ग स्थित आदर्श विद्या निकेतन में दो दिवसीय सांस्कृतिक कार्यशाला का शुभारंभ प्रसिद्ध कथक नृत्यांगना दृष्टि रॉय तथा लोक कला संस्थान के निदेशक संजय सेठी ने दीप प्रज्वलन कर किया।
कार्यशाला संयोजक एवं विद्यालय के प्रधानाचार्य भूपेन्द्र उबाना ने अतिथियों का परिचय एवं कार्यशाला की रूपरेखा प्रस्तुत की।
समिति सदस्य रागिनी वर्मा द्वारा अथितियों को श्रीफल भेंट कर उनका स्वागत किया गया।
मुख्य अतिथि दृष्टि रॉय ने कहा कि कोई भी कला सिध्द करने के लिए दिखावा या आकर्षण नही बल्कि समर्पण और साधना की आवश्यकता होती है,उन्होंने स्वयं का उद्धरण रखते हुए कहा कि जहाँ यह दो बातें हो जाती है वहाँ केवल दूरदर्शन भी गुरु की भूमिका में अपनी उपस्थिति सिद्ध कर पाता है।
जिला प्रतिनिधि प्रमोद शर्मा ने कार्यशाला के संदर्भ में कहा कि विद्याभारती के द्वारा विगत 2 वर्षों से सांस्कृतिक कलाओं के संवर्धन और संरक्षण की दृष्टि से इस प्रकार की कार्यशालाओं का आयोजन किया रहा है। विगत वर्षों में देशभर के 450 जिलों में 4000 कार्यशालाओं का आयोजन किया गया है। कलाओं का संरक्षण संस्कृति का संरक्षण है।
कार्यशाला में 7 विद्यालयों के 350 विद्यार्थी नृत्य,संगीत,मेहंदी,कैलीग्राफी,चित्रकला,मांडणा,आदि 7 विषयों का प्रशिक्षण लेने के लिए प्रतिभागी हुए हैं।तज्ञ एवं अनुभवी प्रशिक्षकों की टीम द्वारा सभी विधाओं का प्रक्षिक्षण दिया जा रहा है।कार्यशाला का समापन कल दोपहर होगा।

भूपेन्द्र उबाना
(9166213003)
(प्रधानचार्य एवं कार्यशाला संयोजक)

Leave a Comment

error: Content is protected !!