दौलत खेमानी को श्री धनेश्वर मंदिर का संचालन प्रभार सौंपा गया

शुक्रवार दिनांक 11 जनवरी 2019 को पूण्य आत्मा सन्त मोहनी देवी जी के ब्रह्मालीन होने के बाद उनकी तेरहवी पर अब उनके भतीजे दौलत खेमानी जी को श्री धनेश्वर मंदिर का संचालन प्रभार सौंपा गया अब उन्हें उनके सर्व सेवाधारियों ने दौलत राम खेमानी नाम से मन्दिर की कार्यवाही शुरू करने का निवेदन किया और उनके सतगुरुदेव धन्नी फकीर के ज्ञान से प्राप्त सागर से प्रवचन रूपी मोतीयों की माला धारण करने का आग्रह किया ! खेमानी जी सर्व सिन्धी समाज महासभा के राजस्थान प्रदेश महामन्त्री का कार्य भार भी देखते है !
उन्हें संत श्रदेय मोहनी देवी के जीवनकाल में भी धनेश्वर मन्दिर का कार्यक्रम सयोंजक का कार्य भार भी प्राप्त था
अब उनके मन्दिर के धर्म प्रेमी जो कि भारत देश के अनेक शहरों में निवास करते हैं उन्हें आग्रह किया कि अब ब्रह्मलीन संत मोहनी देवी जी का धर्म प्रचार उन्हें ही निभाना है और प्रचारक रूप में उनका आतिथ्य स्वीकार करना चाहिये !
दौलत राम जी विगत कई वर्ष से होलसेल व्यवसायी रूप में अपनी मार्किट के संगठन सचिव का दाहित्व भी निर्वाह कर रहे है ,उनके अचानक से एक व्यवसायी स्वरूप में देखते आये लोगों में एक विषय ये भी आ रहा था कि अचानक सनातन धर्म के प्रचारक स्वरूप का जीवन एक नया अनुभव होगा, मगर वहां के सेवाधारियों से मिली जानकारी लेने पर जानकारी मिली कि उन्होंने जीवन के कई वर्ष सन्त मोहनी देवी जी के सानिध्य में ही शिक्षा प्राप्ति में गुजारे है और समस्त कार्यक्रमों में सफल भागीदारी निभाते रहे है अतः दौलत राम जी के लिये कुछ नया नही है !

Leave a Comment

error: Content is protected !!