मतगणना कार्य के लिए प्रकोष्ठवार सौंपे दायित्व

अजमेर, 15 मई। लोकसभा आम चुनाव के मतो की गणना 23 मई को राजकीय पोलोटेक्निक महाविद्यालय में प्रातः 8 बजे से आरम्भ होगी। मतगणना कार्य से संबंधित विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए प्रकोष्ठवार अधिकारियों को दायित्व सौपे गए है।
जिला निर्वाचन अधिकारी श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि मतगणना में लगे कार्मिकों एवं अधिकारियों को प्रातः 6 बजे तक राजकीय पोलोटेक्निक महाविद्यालय में उपस्थित होना होगा। मतगणना में लगे सुपरवाईजर, गणना सहायक, माइक्रो ऑब्जर्वर एवं अन्य व्यवस्थाओं में लगे अधिकारी व कर्मचारी प्रवेश द्वार नम्बर एक से तथा उम्मीदवार एवं उनके निर्वाचन तथा गणना अभिकर्ता प्रवेश द्वार संख्या 2 से प्रवेश करेंगे। कड़े सुरक्षा स्तरों पर भलीभांति जांच के उपरान्त ही प्रवेश दिया जाएगा। प्रतिबंधित सामग्री को साथ ले जाने की अनुमति प्रदान नहीं की जाएगी। मतगणना में लगे गणना सुपरवाईजर, गणना सहायकों तथा माइक्रो ऑब्जर्वर की उपस्थिति के लिए अलग से काउंटर स्थापित किए जाएंगे। इन काउंटरों पर ही इन्हें विधानसभा क्षेत्र, कमरा नम्बर तथा टेबल संख्या के संबंध में नियुक्ति पत्र एवं परिचय पत्र उपलब्ध करवाए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार एक काउंटिंग टेबल वीसीबी (वीवीपेट काउंटिंग बूथ) वीवीपेट वोटर स्लिप की गणना के लिए स्थापित की जाएगी। यह बूथ वायरमेस होगा। प्रत्येक काउंटिंग हॉल में ब्लेक बोर्ड पर उम्मीदवारों के नाम व राउंड के अनुसार मतो की संख्या अंकित की जाएगी। प्रत्येक काउंटिंग टेबल पर एक काउंटिंग सुपरवाईजर, एक काउंटिंग असिस्टेंट तथा एक माइक्रो ऑब्जर्वर नियुक्त किए जाएंगे। इसके अलावा पर्यवेक्षक के लिए भी दो अतिरिक्त माइक्रो ऑब्जर्वर एक काउंटिंग असिस्टेंट की नियुक्ति की जाएगी।
उन्होंने बताया कि डाक मतपत्रों की गणना प्रातः 8 बजे आरम्भ होगी। इसके आधे घण्टे पश्चात ईवीएम के मतो की काउंटिंग आरम्भ की जाएगी। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में वीवीपेट की पर्चियों से अनिवार्य सत्यापन के लिए 5 मतदान केन्द्रों का चयन निर्वाचन आयोग की गाईडलाइन के अनुसार किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि डाकमत पत्र 23 मई को प्रातः 8 बजे से पूर्व तक प्राप्त किए जाएंगे। प्रत्येक पोस्टल बैलेट टेबल के लिए अतिरिक्त माइक्रो ऑब्जर्वर, एक काउंटिंग सुपरवाईजर एवं दो काउंटिंग सहायकों की नियुक्ति की जाएगी। ईटीपीबीएस की गणना आरओ टेबल पर ही की जाएगी।
उन्होंने बताया कि लाईट माईक एवं टेंट व्यवस्था प्रकोष्ठ द्वारा मतगणना कक्ष के अन्दर तथा बाहर विभिन्न स्थानों पर विद्युत, पानी एवं अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध करवायी जाएगी। साथ ही लाउड स्पीकर के माध्यम से राउंडवार रिजल्ट की समय -समय पर घोषणा भी की जाएगी। मतगणना दिवस को प्रातः 6 बजे से मतगणना समाप्ति तक चिकित्सा विभाग का दल आवश्यक उपकरणों एवं औषधियों के साथ तैनात रहेगा।
उन्होंने बताया कि प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से गणना की अद्यतन सूचना आमजन तक पहुंचाने के लिए मीडिया कक्ष की स्थापना की जाएगी। इसके प्रभारी सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के उप निदेशक होंगे। यहां समस्त आधारभूत व्यवस्थाएं मीडियाकर्मियों के लिए उपलब्ध करवायी जाएगी। निर्वाचन आयोग के अधिकार पत्र प्राप्त मीडियाकर्मियों को ही अन्दर प्रवेश दिया जाएगा। मतगणना स्थल पर मीडियाकर्मी अपना फोटोयुक्त परिचय पत्र लगाए रखेंगे।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि अजमेर संसदीय निर्वाचन क्षेत्र के मतों की गणना विधानसभा क्षेत्रवार अलग-अलग प्राधिकृत सहायक रिटर्निंग ऑफिसरों द्वारा रिटर्निंग ऑफिसर की देखरेख में निर्धारित मतगणना कक्ष में प्रारम्भ की जाएगी। अभ्यर्थियों की ओर से प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र की प्रत्येक टेबल पर मतगणना की देखरेख के लिए एक गणन अभिकर्ता नियुक्त किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि इस बार मतगणना 89 टेबलों पर सम्पन्न होगी। डाक मत पत्रों की गणना के लिए 8 टेबल राजकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय के सिविल ब्लॉक सी-13 में निर्धारित की गई है। इसी तरह दूदू विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर सिविल ब्लॉक सी-14 में होगी। किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर सिविल ब्लॉक कमरा नम्बर सी 5 में होगी। पुष्कर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम 32 (फस्र्ट फ्लोर) में होगी। अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर ईएल-7 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी। अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर आईई-17 प्रथम तल में होगी। नसीराबाद विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर ईएल-09 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी। मसूदा विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम-37 प्रथम तल में होगी। केकड़ी विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम-21 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी।

मतगणना दलों का रेण्डमाईजेशन सम्पन्न
अजमेर, 15 मई। निर्वाचन विभाग के निर्देशों की पालना में लोकसभा आम चुनाव-2019 के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा बुधवार, 15 मई को कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी कक्ष में मतगणना दलों का रेण्डमाइजेशन किया गया।
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आनन्दी लाल वैष्णव, अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर श्री अरविंद कुमार सेंगवा एवं एनआईसी के डीआईओ श्री अंकुर गोयल की उपस्थिति में सॉॅफ्टवेयर के जरिए मतगणना दलों का रेण्डमाईजेशन किया गया। इस बार मतगणना के लिए कुल 89 टेबले लगेगी।

ध्यान के माध्यम से बनाए मन को अपने हाथों का औजार
अजमेर, 15 मई। लायंस क्लब अजमेर तथा हार्टफुलनेस संस्थान के द्वारा वैशाली नगर स्थित लायंस भवन में हार्टफुलनेस ध्यान सत्र का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य वक्ता जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के एसोशिएट प्रोफेसर डॉ. विकास सक्सेना ने कहा कि ध्यान के माध्यम से मन को सुनियमित करके उसे अपने हाथों का औजार बनाया जा सकता है।

लायंस क्लब के अध्यक्ष श्री संजय शर्मा ने बताया कि लायंस भवन में हार्टफुलनेस ध्यान सत्र का आयोजन किया गया। इसके मुख्य वक्ता जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के एसोशिएट प्रोफेसर डॉ. विकास सक्सेना थे। डॉ. सक्सेना ने कहा कि मानव जीवन का केन्द्र मन है। इसको दबाकर नियत्रिंत करने का प्रयास अक्सर किया जाता है। मन को नियत्रिंत करने से वह व्यक्ति का गुलाम तो बन सकता है। लेकिन इसी मन को ध्यान के साथ सुनियमित करने से वह व्यक्ति के हाथ का औजार बन सकता है।

उन्होंने आगे कहा कि मन को ध्यान के माध्यम से सुनियिमित करके हम स्वयं को सृजनात्मक अभिव्यक्ति के लिए तैयार करते है। यह तैयारी जिस स्तर तक होती है। व्यक्ति उतना ही बड़ा सृजन कर सकता है। इस सृष्टि का सृजनकर्ता परमात्मा को माना गया है। परमात्मा का निवास स्थान हमारा हृदय है। हमारा मन जब सुनियमित होकर हृदय से जुड़ जाता है। तो उसका सीधा सम्पर्क परमात्मा से हो जाता है। परम सृजनकर्ता से सम्पर्क स्थापित हो जाने से व्यक्ति भी नए सृजन की ओर अग्रसर होने लगता है।

उन्होंने कहा कि विश्व के समस्त आविष्कारकों ने मन को साधकर ही नए सृजन अंजाम दिए है। उन्होंने तैयारी और रिलेक्सेशन के मध्य समन्वय स्थापित किया। इसके परिणामस्वरूप उन्हें इलहाम हुआ और मानव सभ्यता को नया आविष्कार प्रदान किया। इसी प्रकार बच्चों को सृजनात्मकता सीखाने के लिए उन्हें प्रेरित किए जाने की आवश्यकता है। बच्चों को नियत्रिंत करने के स्थान पर उन्हें एक बागवान की तरह पोषित करके सच्ची सृजनात्मकता विकसित की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि हार्टफुलनेस पद्धति से ध्यान करके व्यक्ति भावनाओं के साथ जीवन जीने के लिए तैयार हो जाता है। समस्त भावनाओं में प्रेम को सर्वोपरी माना गया है। प्रेम को परमात्मा का स्वरूप बताकर सभी को अपनाने का आह्वान किया गया है। प्रेम का स्त्रोत हृदय से आरम्भ होता है।

इस अवर पर लायंस क्लब के सचिव श्री हसंराज अग्रवाल, कोषाध्यक्ष श्री जी.डी.विरेन्दानी सहित समस्त सदस्य उपस्थित थे।

Leave a Comment