कालादड़ा गांव के निवासी पंचायती राज चुनाव का करेंगे बहिष्कार

आज तक नहीं मिला कोई सरकारी योजनाओं का लाभ
अजमेर । जवाजा पंचायत समिति हेड क्वार्टर से मात्र 8 किलोमीटर दूर एक गांव सुरडिया ग्राम पंचायत के अंतर्गत आता है, वहां आज भी मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहा है। न तो वहां सड़क है नहीं पीने की पानी की व्यवस्था। कभी नरेगा के तहत महिलाओं को काम भी नहीं मिला, न किसी का पीएम आवास में नाम आया, नहीं किसी के घर शौचालय बना हुआ है। इस गांव में कोई भी सरकारी योजना नहीं आई है। ग्रामीणवासियों ने इस बार पंचायती राज चुनाव में चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। गांव में जाने के लिए करीब 2 किलोमीटर की सड़क पूरी तरह कच्ची हैं, जगह- जगह पत्थर निकल रहे हैं, पैदल चलना भी मुश्किल होता है। गांव के बीचो-बीच पानी बह रहा है, महिलाएं पानी लाने के लिए कीचड़ में जाना पड़ता है। स्कूल भी प्राइमरी तक है उसके बाद लड़कियों को आगे नहीं पढ़ाते हैं, केवल पांचवी तक ही शिक्षा मिलती हैं।

गांव में नहीं है शौचालय
सुरडिया ग्राम पंचायत के गांव कालादड़ा में करीब ढाई सौ परिवार रहते हैं, किसी के घर पर भी नहीं हैं शौचालय, सभी बाहर ही शौच करने को जाते हैं। महिलाएं सिर पर पानी लेने के लिए 1 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है, वह भी भरे हुए पानी में। 500 वर्ष हुए हैं इस गांव को बसे हुए तब से आज तक कोई विकास नहीं हुआ है। केवल बीसलपुर पाइप लाइन के तहत एक टंकी का निर्माण जरूर हुआ है वह भी 2 साल पूर्व उसका भी लाभ नहीं मिला। आज भी सरकारी योजनाओं को तरस रहा है गांव।

पूरे गांव में एक ही परिवार
कालादड़ा गांव में मेहरात समाज के लोग रहते हैं,अंतिम संस्कार के करने के लिए जगह नहीं है, सभी जगह पानी भरा हुआ है। जनप्रतिनिधि चुनाव के दौरान आते हैं बड़ी-बड़ी बातें करके चले जाते हैं। यहां का प्रमुख व्यवसाई केवल काले पत्थर निकालकर अपने परिवार का पालन पोषण करना है। गांव में एक प्राइमरी स्कूल है। जो 1986 के बाद कमरों का काम नहीं होने से वह भी जर्जर हो रहे हैं पटिया टूटी हुई है।

गांव में नहीं चली नरेगा
हमारे गांव कालाडेरा में आज दिन तक नरेगा कार्य नहीं चला है, इसके लिए हमने कई बार अधिकारियों को भी लिखित में दिया है, हमारी कोई नहीं सुनता, 250 लोगों का परिवार रहता है किसी के पास जॉब कार्ड नहीं है।
पूर्व वार्डपंच, जमना देवी

पूरा गांव नहीं देगा वोट
कालादड़ा गांव मिलकर यह निर्णय लिया है कि पंचायती राज सरपंच चुनाव में किसी को वोट नहीं देंगे, चुनाव का बहिष्कार करेंगे, जब तक हमारे गांव में सड़क नहीं बनाई जाती है तब तक हम चुनाव का बहिष्कार करेंगे।
सागर सिंह स्थानीय ग्रामीण कालादड़ा

गांव के मुख्य सड़क में भरा पानी
गांव का मुख्य सड़क जहां महिलाएं पानी लेकर आती है, वह कई बार पानी में गिर जाती है, बारिश हुए 6 महीना हो गया अभी पानी भरा हुआ है, जिसे बच्चों व महिलाओं को खासी परेशानी हो रही है , आज भी कुए का पानी पर निर्भर है पूरा गांव।
शंकर स्थानीय ग्रामीण कालादड़ा

Leave a Comment

error: Content is protected !!