जस्टिस इसरानी अजमेर उत्तर से कांग्रेस टिकट के दावेदार थे

हाल ही जस्टिस इंद्रसेन इसरानी का देहावसान हो गया। कम लोगों का ही पता होगा कि यद्यपि उनका अजमेर से कोई गहरा नाता नहीं रहा, फिर भी 2013 के विधानसभा चुनाव में अजमेर उत्तर सीट के लिए कांग्रेस टिकट के दावेदार रहे थे। असल में वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेहद करीबी थे, इस कारण … Read more

भूतपूर्व विधायक स्वर्गीय श्री नवलराय सेवकराम बच्चाणी की पुण्य तिथि पर विशेष

अजमेर के पूर्व भाजपा विधायक श्री नवलराय का जन्म 25 जुलाई 1927 को सिन्ध के माडी तालुका सकरंड नवाबशाह में हुआ। आपके पिता अध्यापक थे। आपने 1947 में मुंबई विश्वविद्यालय से मैट्रिक और बाद में अखिल भारतीय आयुर्वेद विद्यापीठ, दिल्ली से वैद्याचार्य का छह वर्षीय कोर्स किया। वे राजस्थान इंडियन मेडिकल बोर्ड, जयपुर से ए … Read more

कई ठीये-ठिकानों पर जुटते हैं बातों के हुक्केबाज

पिछले ब्लॉग में क्लॉक टावर पुलिस थाने के बाहर कभी आबाद रहे ठीये, जिसे कि आपस बातचीत में सुविधा के लिए नाले शाह की मजार के नाम से संबोधित किया जाता था, का शब्द चित्र खड़ा करने की कोशिश की गई थी। इस किस्म के अनेक ठीये-ठिकाने अजमेर की शान रहे हैं। कुछ का नामो … Read more

एक थी नाले शाह की मजार…

शहर के चंद बुद्धिजीवियों को ही पता है कि अजमेर में एक स्थान नाले शाह की मजार के नाम से जाना जाता था। अब उसका कोई नामो-निशान नहीं है। दरअसल न तो नाले शाह नाम के कोई शख्स हुए और न ही वह किसी की मजार थी। वह एक ठीया था। क्लॉक टॉवर पुलिस थाने … Read more

कीर्ति पाठक को मिल गया अजमेर उत्तर का प्रत्याशी

अजमेर। आम आदमी पार्टी की संभाग प्रभारी श्रीमती कीर्ति पाठक को आखिर अजमेर उत्तर के लिए ढ़ंग का प्रत्याशी मिल ही गया। हालांकि यह अभी दूर की कौड़ी है, मगर जिस प्रकार से साधन संपन्न गुलाब मोतियानी शहर अध्यक्ष पद के लिए राजी हुए हैं, उससे यही प्रतीत होता है कि आगे चल कर वे … Read more

जयपाल ने निभाई लखावत से दोस्ती

इन दिनों सम्राट पृथ्वीराज चौहान जयंती के सिलसिले में स्वामी न्यूज के सीएमडी कंवल प्रकाश किशनानी के संयोजन में अनेक ऑन लाइन प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं। चूंकि लॉक डाउन है, इस कारण तारागढ़ के आधे रास्ते में बने सम्राट पृथ्वीराज चौहान स्मारक पर भी श्रद्धा सुमन अर्पित करने चंद लोगों के ही जाने … Read more

बेमिसाल डॉक्टर थे एन. सी. मलिक

आजकल छोटी से छोटी बीमारी का इलाज भी बिना टेस्ट के नहीं होता। एक जमाना था जब हमारे यहां के वैद्य नाड़ी देख कर बीमारी का पता लगा लेते थे। ऐसे में अगर कोई डॉक्टर बीमार की दास्तां सुन कर इलाज कर दे तो उसे क्या कहेंगे? बेशक, ऐसे डॉक्टर को लंबे अनुभव से शरीर … Read more

अजयपाल जोगी, काया राख निरोगी

मैं तारागढ़ हूं। भारत का पहला पहाड़ी दुर्ग। समुद्र तल से 1855 फीट ऊंचाई। अस्सी एकड़ जमीन पर विस्तार। वजूद 1033 ईस्वी से। राजा अजयराज चौहान द्वितीय की देन। सन् 1033 से 1818 तक अनगिनत युद्धों और शासकों के उत्थान-पतन का गवाह। 1832 से 1920 के बीच अंग्रेजों के कब्जे में रहा। अब दरगाह मीरां … Read more

हम तो साइकिल का भी चालान कटवाते थे

मैं तारागढ़ हूं। भारत का पहला पहाड़ी दुर्ग। समुद्र तल से 1855 फीट ऊंचाई। अस्सी एकड़ जमीन पर विस्तार। वजूद 1033 ईस्वी से। राजा अजयराज चौहान द्वितीय की देन। सन् 1033 से 1818 तक अनगिनत युद्धों और शासकों के उत्थान-पतन का गवाह। 1832 से 1920 के बीच अंग्रेजों के कब्जे में रहा। अब दरगाह मीरां … Read more

अजमेर के आंचल में जुटते हैं अनेक मेले

मैं तारागढ़ हूं। भारत का पहला पहाड़ी दुर्ग। समुद्र तल से 1855 फीट ऊंचाई। अस्सी एकड़ जमीन पर विस्तार। वजूद 1033 ईस्वी से। राजा अजयराज चौहान द्वितीय की देन। पहले अजयमेरू दुर्ग नाम था। सन् 1505 में चितौड़ के राणा जयमल के बेटे पृथ्वीराज ने कब्जा किया और पत्नी तारा के नाम पर मेरा नामकरण … Read more

कढ़ी-कचौड़ी को तरस गया मेरा अजमेर

मैं तारागढ़ हूं। भारत का पहला पहाड़ी दुर्ग। समुद्र तल से 1855 फीट ऊंचाई। अस्सी एकड़ जमीन पर विस्तार। वजूद 1033 ईस्वी से। राजा अजयराज चौहान द्वितीय की देन। पहले अजयमेरू दुर्ग नाम था। सन् 1505 में चितौड़ के राणा जयमल के बेटे पृथ्वीराज ने कब्जा किया और पत्नी तारा के नाम पर मेरा नामकरण … Read more

error: Content is protected !!