प्रताप यादव फिर मैदान में उतरने को तैयार

pratap yadavकांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रताप यादव एक बार फिर नगर निगम का चुनाव लडऩे को तैयार हैं। जाहिर है कि वे टिकट का दावा तो करेंगे ही और उनको टिकट मिलने की पूरी उम्मीद भी है, साथ ही मतदाताओं से भी अभी से अपील कर रहे हैं। सोशल मीडिया में जारी अपने संदेश में उन्होंने अपने वार्ड 6 के वासियों से कहा है कि पिछले 30 वर्ष से आपका सहयोग लगातार मिलता आया है। एक बार फिर में आपकी सेवा में कांगे्रस के लिए वोट मांगने हाजिर हो रहा हूं।
ज्ञातव्य है कि यादव वर्तमान में शहर जिला कांग्रेस के उपाध्यक्ष हैं और पिछले पांच विधानसभा चुनावों में अजमेर दक्षिण से टिकट मांगते रहे हैं। भले ही उन्हें टिकट नहीं मिला, मगर उन्होंने कभी कांग्रेस का साथ नहीं छोड़ा। वे स्वर्गीय श्री माणकचंद सोगानी के जमाने से कांग्रेस में जिम्मेदार पदों पर रहे हैं। 30 जुलाई, 1952 को जन्मे और उपाध्याय (संस्कृत) तक शिक्षा प्राप्त यादव 1970 से कांग्रेस में सक्रिय हैं। 1978 में जनता पार्टी शासन के दौरान स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी को जेल भेजने के विरोध में अपने 170 से ज्यादा साथियों के साथ 20 दिसम्बर 1978 से 29 दिसम्बर 1978 तक अजमेर जेल में रह चुके हैं। वे 2001 ये 2003 तक अजमेर नगर परिषद के निर्वाचित पार्षद रहे और कांग्रेस के पिछले शासन काल में मनोनीत पार्षद रहे। उनकी पत्नी श्रीमती तारा देवी यादव 1990 से 1995 व 2000 से 2005 तक अजमेर नगर परिषद के सामान्य निर्वाचन क्षेत्र से पार्षद रह चुकी हैं।
असल में वे अपने इलाके में जमीन से जुड़े हुए नेता रहे हैं। कांग्रेस में वरिष्ठ व जिम्मेदार पदों पर रहते हुए भी सदैव लो प्रोफाइल रहे हैं, इस कारण उनकी जमीन पर गहरी पकड़ है।
-तेजवानी गिरधर
7742067000

Leave a Comment

error: Content is protected !!