हृदय और प्रसाद योजना के तहत हो रहे विकास कार्यो में जमकर हो रहा है भ्रष्टाचार

*घटिया निमार्ण कार्यो को देखकर कलेक्टर आरती डोगरा हुई नाराज , अधिकारियों और ठेकेदार को लगाई फटकार , कहा जनता के पैसो को नही होने दूंगी बर्बाद •••*

राकेश भट्ट
धार्मिक नगरी पुष्कर में केंद्र और राज्य सरकार की और से हृदय योजना और प्रसाद योजना के तहत बीते 2, 3 सालो से सैकड़ो करोड़ रुपयों के विकास कार्य करवाये जा रहे है । परंतु इन विकास कार्यो में जमकर धांधली और घटिया निर्माण सामग्री इस्तेमाल की जा रही है । इसका नजारा आज खुद कलेक्टर आरती डोगरा ने अपनी आंखों से भी देख लिया । स्थिति यह है कि इन कामो के ठेकेदार ना तो आम जनता की आवाज सुनना चाहते है और ना ही यहां के तीर्थ पुरोहितों की । कोई बेचारा यदि गलती से भी यहां के लिए अच्छा सुझाव देना चाहे तो भी उसकी भी आवाज अनसुनी कर दी जाती है । यहां केवल उन्हीं कामो को विकास के नाम पर तवज्जो दी जा रही है जिनमे जमकर भ्रष्टाचार किया जा सके।

पुष्कर में चल रहे इसी गोरखधंधे की जानकारी मिलने के बाद आज जिला कलेक्टर आरती डोगरा पुष्कर पहुंची और यहां के जयपुर घाट , सरोवर की पुलिया , वराह घाट पर चल रहे निर्माण कार्यो सहित पुराने रंग जी मंदिर , पुरणखण्ड , मुख्य बाजार , सहित बारिश के पानी के साथ सरोवर में जाने वाले गंदे पानी के स्थानों का भी निरीक्षण किया । इस दौरान पुष्कर पालिकाध्यक्ष कमल पाठक , पूर्व चेयरमैन सूरज नारायण पाराशर , पुरोहित संघ के संयोजक पंडित श्रवण पाराशर , मंडल महामंत्री अरुण वैष्णव सहित अन्य लोग मौजूद थे । निरीक्षण के दौरान जिला कलेक्टर के सामने ग्वालियर घाट के फर्श पर लगे पत्थर हाथों से उठाने पर ही उखड़ गए । यह देखते ही वह नाराज हो गई और घटिया निर्माण कार्य करने के लिए संबंधित ठेकेदार और इसकी देखरेख करने वाले सरकारी अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई । कलेक्टर ने कहा कि सरकार और आम जनता के करोड़ो रूपये वह इस तरह बर्बाद नही होने देंगी ।

दरअसल पुष्कर में चल रहे विकास कार्यो की जमीनी हकीकत कुछ और ही है । यहां ना तो जिम्मेदार अधिकारी मौके पर जाकर इन कामो की मॉनिटरिंग कर रहे है और ना ही स्थानीय जनप्रतिनिधि । आलम यह है कि घाटों पर हो रहे कार्यो में भी तीर्थ पुरोहितों के वाजिब सुझाव तक नही माने जा रहे । कुछ कमियां स्थानीय नागरिकों की भी है । उनकी उदासीनता या जान बूझकर चुप्पी साधे रहने से भी इन ठेकेदारों के हौसले बुलंद हो रहे है । कलेक्टर के दौरे के बाद इनके रवैये में बदलाव आता है या नही यह तो समय ही बताएगा परंतु इतना तय है कि जिस सोच के साथ केंद्र और राज्य सरकारों ने इतनी बड़ी बड़ी योजनाएं बनाई थी उस सोच और गुणवत्ता का आधा काम भी आज जमीन पर नजर नही आ रहा है ।

*सरोवर को स्वच्छ बनाने के लिए करेंगे हर संभव प्रयास – आरती डोगरा*
निरीक्षण के बाद जिला कलेक्टर ने तहसील कार्यालय में सभी विभागों के अधिकारियों की एक बैठक ली । बैठक में निगम आयुक्त हिमांशु गुप्ता , एडीए सचिव हेमंत माथुर , तहसीलदार विमलेंद्र राणावत , ई ओ विकास कुमावत , पालिकाध्यक्ष कमल पाठक सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे । बैठक के बाद कलेक्टर डोगरा ने मीडिया को बताया कि सरोवर को स्वच्छ बनाने के लिए वे हर संभव प्रयास करेगी और चल रहे विकास कार्यो में किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी ।

*राकेश भट्ट*
*प्रधान संपादक*
*पॉवर ऑफ नेशन*
*मो 9828171060*

Leave a Comment