कोरोना बढ़ा रहा है अजेमर में दायरा

चन्द्रवरदाई नगर, HMT व धोलाभाटा में भी दस्तक
–अमित टंडन
*अजमेर।* अब तक कोरोना का खौफ केवल दरगाह क्षेत्र था। मोची मोहल्ला और लखनकोटड़ी मोहल्लों से ही लगभग सारे पॉजिटिव केस सामने आ रहे थे। हालांकि शरुआत खारीकुई/डिग्गी क्षेत्र से हुई थी, और उसके बाद ब्लास्ट हुआ था अलवर गेट में फकीरों के लिए रेलवे परिसर में बनाए गए शेल्टर हाउस से। मगर वहां उसके बाद हालात पर बड़ी तेजी से काबू पा लिया गया था। मगर मोची मोहल्ले से निकलने वाले केसेज के बाद वो पूरी लाइन ही कंटेमेंट ज़ोन में आ गई। दरगाह क्षेत्र से जुड़े तमाम मोहल्ले तो है रिस्क पर हैं ही, मगर धीरे धीरे अंदरूनी तौर पर उस क्षेत्र से जुड़े दूसरे इलाके भी कोरोना की ज़द में आने लगे।
ऊसरी गेट और पहाड़ गंज के बाद अजय नगर तक कोरोना पग फेरा कर आया। इसके अलावा आदर्श नगर, मखुपरा, वैशाली नगर से भी पॉजिटिव केस सामने आए, मगर कुदरत की इनायत रही कि इन इलाकों में कुछ एक केस आने के बाद हालात काबू रहे। उधर अन्य राज्यों से पलायन करके आने वाले मजदूरों व अन्य लोगों ने कोरोना को गांवों तक तो पहुंचा ही दिया है, और वहां हालात बेकाबू ही हैं। सिर्फ अजमेर जिले में ही प्रतिदिन ग्रामीण इलाकों से पोसिटिव केस मिल रहे हैं।
मगर अब शहरी क्षेत्र में भी कोरोना का दायरा बढ़ रहा है। 03 जून, बुधवार को शहर से आए पॉजिटिव केसेज में से चन्द्रवरदाई नगर का भी एक मरीज शामिल था, तो आज 04 जून, गुरुवार को आए मामलों में HMT क्षेत्र और धोला भाटा क्षेत्रों के मरीज भी लिस्ट में शामिल हो गए। या यूं कहे कि कोरोना से प्रभावित इलाकों में चन्द्रवरदाई नगर, HMT और धोला भाटा का नाम भी जुड़ गया है। जैसे जैसे आज़ादी मिलेगी और आज़ादी का दुरुपयोग होता जाएगा, वैसे वैसे कोरोना के आलिंगन गहरे होते ही जायेंगे। अब लॉक डाउन खत्म होने के बाद जनजीवन के सामान्य होता जाएगा और लोग लापरवाह व बेख्याल होते जाएंगे। लोगों की यही लापरवाही और बेख्याली कोरोना को हमारे शहर सहित पूरे भारत में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के अवसर दे देगी।

Leave a Comment

error: Content is protected !!