संविधान के मंदिर में राम और अलाह आमने सामने !

महेन्द्र सिंह भेरूंदा
कल लोकतन्त्र के पवित्र मन्दिर ने शपथग्रहण समारोह में सम्पर्दायकता की निर्लज्जता के नाच को देखा, जहाँ मर्यादापुरुषोत्तम राम को शस्त्र बना कर अपने दल का मनोबल बढाने में और खिलाफ वालो की खिल्ली उड़ाने में किया गया इसी के चलते मुसलमान सांसद अवेशी के खड़े होने पर जय श्रीराम के उद्घोष से पीठ पर आक्रमण किया तो जवाब में संसद की छाती पर अवेशी का जय भीम, जय मीम,तकबीर, अलाह हो अकबर से प्रहार किया तो एक सपा के मुस्लिम सांसद पर वन्देमातरम बोलने का दबाव बनाया तो उसने नकारते हुए वन्देमातरम को ईस्लाम के खिलाफ बता दिया ।
यह समय संसद के लीए कितना शर्मनाक था खुलेआम जिस संविधान की शपथ ली जा रही थी उसी संविधान की धज्जियां उसी जगह उसी के मन्दिर में उड़ाई जा रही थी आज उस मन्दिर की दीवारें और छत पहली बार सदन के अंदर बिखरते सोहार्द के चिथड़ों को देखकर तिलमिला रही थी और सबका साथ सब का विकास के परमपिता मोदीजी बैठे बैठे मन्द मन्द मुस्करा रहे थे और मुसलमानों का मन जित रहे थे ।
क्या यह कथनी और करनी में फर्क नही है ?
होना तो आज यह चाहिए था कि मोदीजी इस संसद की कार्यवाही में प्रधानमन्त्री के रूप में अपने दल के सदस्यों को गन्दगी फैलाने से रोकते और समझाते की संसद और सड़क में बहुत फर्क होता है और अपने दल को सयंम में रहने की हिदायत देते ।
मगर ऐसा नही हुआ, सायद हमने भटकने का मानस पूर्णरूपेण बना लीया है यह कल का संसद के अंदर का वातावरण किसी अनहोनी की तरफ इशारा कर रहा है ।
महेन्द्र सिंह भेरुन्दा

Leave a Comment

error: Content is protected !!