भारत में टेलीविजन का इतिहास

विश्व दूरदर्शन दिवस 2021:
=================

राजेन्द्र गुप्ता
प्रत्येक वर्ष 21 नवंबर को विश्व के विभिन्न देशों में विश्व दूरदर्शन दिवस अथवा अंतरराष्ट्रीय टेलीविजन दिवस मनाया जाता है। दूरदर्शन विभिन्न प्रमुख आर्थिक और सामाजिक मुद्दों पर ध्यान रखते हुए यह हमारे जीवन के लिए बहुत ही उपयोगी है। वर्तमान में यह मीडिया की सबसे प्रमुख ताकत के रूप में उभरा है । यूनेस्को ने टेलीविजन को संचार और सूचना के एक महत्वपूर्ण साधन के रूप में पहचाना है।

विश्व दूरदर्शन का इतिहास :
================
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 17 दिसंबर 1996 को 21 और 22 नवंबर को विश्व की प्रथम विश्व टेलीविजन फोरम का आयोजन किया गया था। इस दिन विश्व की पूरे मीडिया हस्ती ने संयुक्त राष्ट्र के संरक्षण में मुलाकात की । इस मुलाकात के दौरान टेलीविजन के विश्व पर पड़ने वाले प्रभाव के संदर्भ में काफी चर्चा की गई थी। साथ ही उन्होंने इस तथ्य पर भी चर्चा की कि विश्व को परिवर्तित करने में इसका क्या योगदान है। उन्होंने आपसी सहयोग से इसके महत्व के बारे में चर्चा की। यही कारण है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 नवंबर से विश्व टेलीविज़न दिवस मनाये की अनुमति दी गए हाउ उसी वक़्त से इस समारोह मनाया जाता आ रहा है

दूरदर्शन का इतिहास:
==============
दूरदर्शन का पहला प्रसारण 15 सितंबर 1959 को प्रयोगात्मक आधार पर आधे घंटे के लिए शैक्षिक और विकास कार्यक्रमों के रूप में किया गया। उस समय दूरदर्शन का प्रसारण सप्ताह में सिर्फ 3 दिन आधा- आधा घंटे होता था। टेलीविजन इंडिया नाम दिया गया था बाद में 1975 मैं इसका नाम हिंदी नामकरण दूरदर्शन से किया गया। यह दूरदर्शन नाम इतना लोकप्रिय हुआ कि टीवी का हिंदी पर्याय बन गया।

दूरदर्शन का महत्व :
============
टेलीविजन के आविष्कार ने सूचना के क्षेत्र में एक क्रांति का आगाज किया था। दूसरी क्रांति का आगमन उस समय हुआ जब वैश्विक स्तर पर टेलीविजन के महत्व के बारे में लोगों को पता। और लोगों ने इसे स्वीकार कर लिया जो कि मीडिया ने वर्तमान में हमारे जीवन में इतना अधिक हास्य की एक कर दिया है कि हमें इसकी महत्व के बारे में जानकारी काफी नहीं मिल पाती हैं। वर्तमान में हम इसके महत्व को नकार नहीं सकते हैं। इसके महत्व को समझाते हुए इसका व्यापक इस्तेमाल करना ।

दैनिक जीवन पर प्रभाव :
================
वर्तमान समय में सूचना प्रौद्योगिकी और और संचार के इस्तेमाल में हमारी निर्भरता को मनोरंजन ,शिक्षा स्वास्थ्य देखभाल , व्यक्तिगत संबंधों यात्रा आदि पर निर्भर करता है। हमारे जीवन में टेलीविजन का बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है जिसके कारण हम अपने जीवन में अच्छे कार्य कर सकते हैं और बुरे भी यह हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम टेलीविजन से क्या सीख लेते हैं । टेलीविजन का आज के युग में बहुत बड़ा योगदान है जिसके द्वारा हम देश विदेश की सूचना को घर बैठे ही देख पा रहे हैं। टेलीविजन एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा हम प्रतिदिन हो रही घटनाओं को देख सकते हैं।

राजेन्द्र गुप्ता,
ज्योतिषी और हस्तरेखाविद
मो. 9611312076

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!