काकडदा में करीब एक वर्ष से मनरेगा का काम बंद

फ़िरोज़ खान
बारां 12 फरवरी । किशनगंज पंचायत समिति के ग्राम पंचायत मुख्यालय काकडदा में करीब एक वर्ष से मनरेगा का काम बंद होने के कारण मनरेगा श्रमिक ठाले बैठे हुए है । रामचरण सहरिया, रामदयाल सहरिया, रामप्रसाद सहरिया ने बताया कि पिछले वर्ष दीपावली के समय 5 दिन का काम मिला था । तब से ही मनरेगा का काम बंद पड़ा हुआ है । मनरेगा में काम मांगने को लेकर आवेदन भी कर रखे है । उसके बाद भी काम नही दिया जा रहा है । जब भी ग्राम पंचायत में काम मांगने जाते है तो यह बोला जाता है कि काम स्वीकृत नही है । उंन्होने बताया कि करीब 95 राशनकार्ड उपभोक्ताओं सहरिया समुदाय के है । इन लोगो ने आवेदन भी कर रखे है । उसके बाद भी काम नही दिया जा रहा है । इस सम्बंध में पंचायत सचिव अर्जुन नागर ने बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा 10 काम की सेंशन जिला परिषद बारां को भेजी थी । जिसमें से दो काम सेंशन हुए है जो कामठा व अमलावदा में चल रहे है । यह लोग दोनों जगह पर काम करने नही जा रहे है । और काकड़दा में काम स्वीकृत नही है । सेंशन के लिए काम भेजा हुआ है । जैसे ही सेंशन आयगी इनको काम दे दिया जावेगा । इसी तरह बरखेड़ा में भी मनरेगा का काम बंद है । लोगो को लम्बे समय से रोजगार नही मिल रहा है । उंन्होने बताया कि आवेदन भी कर रखे है । उसके बाद भी काम नही दिया जा रहा है । लोगो के पास काम नही है । अभी खाली बैठे है । और जब बहार काम के लिए निकल जाएंगे तो काम चालू कर देंगे और बोल देंगे कि लोग मनरेगा में काम नही कर रहे है । इस सम्बंध में एचआरटीसी बारां के कॉडिनेटेर ने पंचायत सचिव ओमप्रकाश निर्मल से बात कर काम देने की मांग रखी । जिस पर उंन्होने कहा कि जिओ टेकिंग नही होने के कारण देरी हो रही है । एक दो दिन में मस्टररोल चालू कर दी जावेगी ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!