बाल कल्याण समिति द्वारा दो बाल श्रमिकों को उनके परिजनों के सुपुर्द किया गया

बीकानेर, 12 जून। अन्तराष्ट्रीय बाल श्रम विरोधी दिवस के अवसर पर मंगलवार को बाल कल्याण समिति द्वारा दो बाल श्रमिकों को जिला एवं सत्रा न्यायाधीश राजेन्द्र पारीक, सीजेएम पवन अग्रवाल, पूर्णकालिक सचिव विधिक सेवा राहुल चैधरी एवं किशोर गृह अधीक्षक किशनाराम की उपस्थिति में, उनके परिजनों के सुपुर्द किया गया। इस दौरान समिति अध्यक्ष वाई के शर्मा, सदस्य अरूणा भार्गव व हाजरा बानो ने बाल श्रमिकों के परिजनों से बंधक पत्रा भरवाए।
शर्मा ने बताया कि बाल कल्याण समिति के समक्ष 2 दिन पूर्व कोलायत पुलिस द्वारा दो बाल श्रमिकों को प्रस्तुत किया गया व समिति द्वारा उन्हें राजकीय किशोर व सम्प्रेषण गृह में प्रवेश दिया गया था। इस अवसर पर न्यायाधीश पारीक ने घरों, दुकानों व होटलों पर बाल मजदूरी करने वाले बालकों की सूचना तत्काल पुलिस को देने की बात कही। समिति अध्यक्ष शर्मा ने बाल श्रमिकों के पुनर्वास हेतु छात्रावासित विद्यालयों की स्थापना का सुझाव देते हुए कहा कि श्रम विभाग, पुलिस प्रशासन, राजकीय व निजी बाल संरक्षण संस्थाओं व विधिक सेवा के समन्वय से बाल मजदूरी की रोकथाम की जाए।
——
आरटीई अधिनियम के तहत आॅनलाईन परिवेदना निस्तारण संबंधी निर्देश जारी
बीकानेर, 12 जून। आरटीई अधिनियम 2009 के तहत गैर सरकारी विद्यालयों में 25 प्रतिशत निःशुल्क सीट्स पर अध्ययनरत विद्यार्थियों, अभिभावकों व सम्बंधित कार्यालयों के लिए आॅनलाईन परिवेदना निस्तारण की व्यवस्था के सम्बंध में निर्देश जारी किए गए हैं।
उपनिदेशक (आरटीई) प्रारंभिक शिक्षा ने बताया कि 25 प्रतिशत निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश, भौतिक सत्यापन की माॅनिटरिंग व फीस के पुनर्भरण का समस्त कार्य प्राइवेट स्कूल पोर्टल के माध्यम से आॅनलाईन किया जाता है। प्राइवेट स्कूल पोर्टल पर समस्त दिशा-निर्देशों को एनआईसी के माध्यम से अपलोड करवाने तथा परिवेदनाओं के निस्तारण के लिए आवश्यक आॅनलाईन माॅड्यूल एनआईसी के माध्यम से प्राइवेट स्कूल पोर्टल पर तैयार करवाकर उन्हें चालू करवाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही आॅनलाईन परिवेदना निस्तारण तंत्रा की सतत माॅनिटरिंग करते हुए दिशा-निर्देशों के अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा गया है।
——-
डूंगर काॅलेज में रोजगार प्रशिक्षण कार्यशाला बुधवार को
बीकानेर, 12 जून। डूंगर काॅलेज के युवा विकास केन्द्र में राजस्थान सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग एवं आरकेसीएल के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा।
आरकेसीएल अधिकारियों ने बताया कि कार्यशाला में बीकानेर के सभी महाविद्यालयों के प्रशिक्षण एवं रोजगार परामर्श अधिकारी भाग लेकर प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग अधिकारियों ने बताया कि आगामी 25 से 27 जुलाई के दौरान आयोजित होने वाले रोजगार मेले हेतु इस कार्यशाला में प्रतिभागियों को प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। उन्हांेने बताया कि इस प्रकार के मेले, युवकों को रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाने में लाभदायक साबित हो सकेंगे।
प्राचार्य डाॅ. बेला भनोत ने बताया कि कार्यशाला के मुख्य अतिथि बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एच. डी. चारण एवं विशिष्ट अतिथि सहायक निदेशक काॅलेज शिक्षा डाॅ. दिग्विजय सिंह हांेगे।
डाॅ. तत्पुरूष बुधवार को बीकानेर आएंगे
बीकानेर, 12 जून। राजस्थान साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डाॅ. इन्दुशेखर तत्पुरूष बुधवार को रात्रि 9 बजे बीकानेर पहुंचेंगे। वे यहां 14 व 15 जून को राजस्थान साहित्य अकादमी व जांभाणी साहित्य अकादमी बीकानेर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय साहित्यिक कार्यक्रम में शामिल होंगे। डाॅ. तत्पुरूष 15 जून को दोपहर 3 बजे अजमेर के लिए प्रस्थान करेंगे।
———
तीन प्रान्तों के 62 कृषि विज्ञान केन्द्रों के वैज्ञानिकों की कार्यशाला सम्पन्न
बीकानेर, 12 जून। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद्, नई दिल्ली के जोन-ाा राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली के 62 कृषि विज्ञान केन्द्रों के वरिष्ठ वैज्ञानिकों और कृषि विश्वविद्यालयों के प्रसार शिक्षा निदेशकों की तीन दिवसीय वार्षिक समीक्षा कार्यशाला मंगलवार को स्वामी केशवानन्द राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय में सम्पन्न हो गई।
समापन समारोह में कृषि तकनीकी अनुप्रयोग संस्थान, जोधपुर के निदेशक डाॅ. एस.के सिंह ने कार्यशाला में तीन दिवसीय समीक्षा के बाद निष्कर्ष के तौर पर भविष्य में लागू की जाने वाली सिफारिशें प्रस्तुत की। प्रत्येक कृषि विज्ञान केन्द्र के एक वैज्ञानिक को कृषि आधारित मूल्य संवर्द्धन कार्यों का समुचित प्रशिक्षण दिया जायेगा, जिससे किसानों की आय को बढ़ाने के लिए उन्हें प्रेरित किया जाएगा। सभी कृषि विज्ञान केन्द्र मृदा और पानी का वैज्ञानिक परीक्षण करवाकर किसानों को उसके अनुसार सिफारिशें बताएंगे। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् द्वारा कृषि विज्ञान केन्द्रों के मार्गदर्शन के लिए एक पुस्तिका का प्रकाशन किया जाएगा, जिससे विभिन्न गतिविधियों को लागू करने में उन्हें सुविधा होगी। सभी केन्द्रों को अपने फाॅर्म पर ‘‘क्राॅप कैफेटेरिया’’ लगाने चाहिए, जिससे उस क्षेत्रा में लगने वाली सभी फसलों का प्रदर्शन हो सके। एग्रो ट्यूरिज्म को बढ़ावा देकर कृषि विज्ञान केन्द्र को माॅडल के रुप में विकसित करना चाहिए। कृषि विज्ञान केन्द्र पर कृषि प्रदर्शन की सजीव इकाईयां स्थापित की जाएं जिससे प्रशिक्षण के साथ ही किसानों को प्रेरित करने में आसानी हो। कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों को सोच के साथ नवाचार करने चाहिए। किसी भी गतिविधि को शुरु करने से पूर्व वर्तमान परिस्थितियों का आंकलन वैज्ञानिक तौर पर किया जाना चाहिए। कृषि विज्ञान केन्द्र अपने जिले का सभी प्रकार का कृषि डाटा तैयार कर वेबसाइट पर प्रदर्शित करें तथा इसे भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् को भी प्रेषित करें। अपनी बेवसाइट को नियमित अपडेट रखें। प्रसार शिक्षा निदेशालय और कृषि विज्ञान केन्द्र के सभी प्रकाशन आॅनलाइन उपलब्ध होने चाहिए। सभी केन्द्रों को बजट का आंवटन अब पब्लिक फाइनेन्स मैनेजमेन्ट सिस्टम के द्वारा किया जायेगा। व्यय का विवरण आॅन लाइन भेजा जाना चाहिए। केन्द्रों को अब डिजिटल पेमेन्ट पर ही जोर देना चाहिए।
कार्यशाला के संयोजक प्रसार शिक्षा निदेशक प्रो. एस.के. शर्मा ने कहा कि ऐसा देखने में आया है कि किसान सिफारिश से ज्यादा बीज दर और उर्वरक का अधिक उपयोग करते हैं, इससे फसल लागत बढ़ती है और मुनाफा कम होता है। कृषि विज्ञान केन्द्रों को कृषि लागत कम करने के लिए किसानों को जागरुक करना होगा। उन्होंने कहा कि सभी केन्द्रों पर योजनाओं व कार्यक्रमों का क्षेत्रा में होने वाले प्रभाव का आंकलन करना चाहिए, जिससे किसानों को होने वाले लाभ के बारे में पता चल सके। कार्यशाला के विभिन्न तकनीकी सत्रों में 62 कृषि विज्ञान केन्द्रों के वरिष्ठ वैज्ञानिकों तथा 6 कृषि विश्वविद्यालयों के प्रसार शिक्षा निदेशकों ने अपने प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत कर विशिष्ट कार्यों की जानकारी दी।
——–
जिला स्तरीय औद्योगिक समिति की बैठक 14 जून को
बीकानेर, 12 जून। जिला स्तरीय औद्योगिक समिति की बैठक 14 जून को सांय 5 बजे जिला कलक्टर डाॅ. एन.के.गुप्ता की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की जाएगी। यह जानकारी जिला उद्योग अधिकारी सुरेन्द्र कुमार ने दी।

Leave a Comment