सस्ता व शीघ्र न्याय दिलाना प्रशासकों का प्राथमिक दायित्व-दायमा

राजस्व अधिकारियों व वरिष्ठ अधिवक्ताओं की कार्यशाला आयोजित
बीकानेर, 13 जुलाई। राजस्व मंडल सदस्य चिरंजीलाल दायमा ने कहा कि सस्ता व शीघ्र न्याय दिलाना प्रशासकों का प्राथमिक दायित्व है। उन्होंने कहा कि बार व बैंच एक दूसरे के पूरक हैं तथा दोनों के आपसी सहयोग व समन्वय से ही प्रकरणों का समयबद्ध निस्तारण किया जा सकता है।
दायमा शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिले के राजस्व अधिकारियों व वरिष्ठ अधिवक्ताओं की कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकारी लम्बित प्रकरणों के कारण तलाश कर उन्हें दूर करें। समय पर रिकाॅर्ड अपडेशन, आवंटन करते समय रास्तों का प्रावधान, समय पर विधिक बंटवारा करें तथा नियमित रूप से कोर्ट में बैठें। उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारियों की छवि उनके कोर्ट के कार्य से बनती है अतः अधिकारी स्वयं नियमित अध्ययन करें, फाइल को पूरा पढें़ और पूर्ण विवेचना करते हुए गुणवत्ता के साथ फैसले दें।
दायमा ने बताया कि प्रकरणों के समयबद्ध निस्तारण के लिए राजस्व मंडल द्वारा कई नवाचार किए जा रहे हैं। एसएमएस सुविधा आदि अपनाकर पूर्ण पारदर्शी तरीके से प्रकरण की स्थिति के बारे में जानकारी देने का प्रयास भी किया जा रहा है। जिला स्तर पर वरिष्ठ अधिवक्ताओं के अनुभव का लाभ लेने के लिए इस प्रकार की कार्यशालाएं आयोजित की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि राजस्व प्रकरणों के लम्बित रहने से काश्तकार की आर्थिक व सामाजिक स्थिति पर नकारात्मक असर होता है, इसलिए अधिकारी ऐसे प्रयास करें कि अधिकाधिक प्रकरण निस्तारित हों।
कार्यशाला में वरिष्ठ अधिवक्ताओं द्वारा अपडेशन आॅफ रिकाॅड्र्स, खाता विभाजन, रास्ता 251, डिक्लेरेशन, बैंच व बार, जजमेंट आॅफ राइटिंग सहित विभिन्न बिन्दुओं पर राजस्व अधिकारियों से चर्चा की गई तथा जिज्ञासाओं का समाधान किया।
जिला कलक्टर डाॅ एन के गुप्ता ने कहा कि राजस्व अधिकारी राजस्व कार्यों को प्राथमिकता पर रखें। जिला कलक्टर ने बताया कि सभी राजस्व अधिकारी नाॅम्र्स के अनुसार कोर्ट में बैठें। उन्होंने कहा कि अधिकारी पुराने प्रकरणों को प्राथमिकता पर लेकर निस्तारण करें तथा अधिवक्ताओं के साथ चर्चा करते हुए उनके अनुभवों का लाभ लें। राजस्व अपील अधिकारी डाॅ राकेश शर्मा ने कार्यशाला में आए अधिवक्ताओं का आभार व्यक्त किया और कहा कि वरिष्ठ अधिवक्ताओं के मार्गदर्शन से राजस्व अधिकारी अधिक सजग होकर कार्य करने के लिए प्रेरित हो सकेंगे।
राजस्व अधिकारियों की बैठक आयोजित
राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित हुई। जिला कलक्टर डाॅ. एन. के. गुप्ता ने नाॅम्र्स के अनुरूप राजस्व मामलों के निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसमें किसी प्रकार की ढिलाई नहीं बरती जाए। भू-रूपांतरण, अतिक्रमण, एलआर एक्ट, रोडा एक्ट के मामलों पर भी ध्यान दिया जाए। नवीन राजस्व ग्रामों के लंबित प्रस्तावों को तैयार करने तथा मासिक सारांश प्रत्येक महीने की 5 तारीख तक भिजवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 16 सीसीए के प्रकरणों का समयबद्ध निस्तारण किया जाए। सेवानिवृत हो रहे कार्मिकों के विरूद्ध किसी प्रकार की कार्यवाही लंबित न होने संबंधी सूचना निर्धारित फाॅर्मेट में दी जाए, जिससे समय पर पेंशन स्वीकृत की जा सके। बैठक में उप वन संरक्षक डाॅ. आशूसिंह, राजस्व अपील अधिकारी डाॅ. राकेश शर्मा सहित विभिन्न राजस्व अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Comment