गहलोत के साथ कल्ला एवं झंवर नैतिकता का शक्तिपीठ पर श्रद्धा व्यक्त करने पहुंचे

गंगाशहर। बीकानेर पूर्व व पष्चिम के कांग्रेस प्रत्याषियों के साथ अषोक गहलोत गंगाषहर स्थित नैतिकता का शक्तिपीठ पर पहुंचे तथा आचार्य तुलसी की समाधि पर सजदा किया। इस अवसर पर अषोक गहलोत ने कहा कि आचार्यश्री तुलसी के समाधि का दर्षन करना एक अद्भुत अनुभव है। मैं यहां पहले भी कई बार आ चुका हूँ। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनेगी यह पुरा विष्वास हैं। यह बात राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री एवं स्टार प्रचारक अषोक गहलोत ने नैतिकता का शक्तिपीठ पर आचार्य तुलसी समाधि के दर्षन करने के बाद कही। उन्होंने कहा कि शक्तिपीठ परिसर में इतना आध्यात्मिक वातावरण पाकर मनोबल बढ़ा है।
आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष जैन लूणकरण छाजेड़ ने बताया कि अषोक गहलोत बीकानेर पूर्व व पष्चिम के कांग्रेस प्रत्याषी एवं कई कार्यकर्ताओं के साथ आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान पहुंचकर आचार्य श्री तुलसी के प्रति श्रद्धा व्यक्त की। अषोक गहलोत नाल हवाई अड्डे से सीधे नैतिकता का शक्तिपीठ पहुंचे और प्रदेष की खुषहाली की कामना की। अषोक गहलोत को आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष जैन लूणकरण छाजेड़ ने पताका पहनाकर स्वगात किया तथा महामंत्री जतनलाल दूगड़ ने बी.डी.कल्ला को जैन पताका पहनाई। बीकानेर पूर्व के प्रत्याषी कन्हैयालाल झंवर को स्वयं अषोक गहलोत ने जैन पताका पहनाई।
महामंत्री जतनलाल दूगड़ ने अषोक गहलोत को स्मृति चिन्ह भंेटकर उनका सम्मान किया अषोक गहलोत के साथ शहर कांग्रेस अध्यक्ष यषपाल गहलोत, जियाउल रहमान, विनोद बाफना, सुरेन्द्र जैन, जतन संचेती, अनिल सेठिया, पियुष लुणिया, विजेन्द्र छाजेड़, पवन सोनी, डालचन्द भूरा, अरूण नाहटा, अमित नाहटा, नन्दलाल शर्मा, पूनमचन्द तातेड़, षिखरचन्द दूगड़, राजकुमार दूगड़, मूलचन्द दूगड़, निर्मल भूरा, कन्हैयालाल रामपुरिया सहित सैकड़ो कांग्रेस के कार्यकर्ता एवं आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के कार्यकर्ता व सदस्यगण उपस्थित थे। अषोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार बनने के बाद वो स्वयं नैतिकता शक्तिपीठ आएंगे तथा सभी को साथ लाएगंे। आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष जैन लूणकरण छाजेड़ ने कहा कि नैतिकता के शक्तिपीठ के प्रति आस्था रखने वालों की आस्था फलित होती है।
जैन लूणकरण छाजेड़ अध्यक्ष

Leave a Comment

error: Content is protected !!