नौनिहालों का भविष्य संवारती गृह विज्ञान महाविद्यालय की ‘लेबोरेट्री नर्सरी स्कूल’

बीकानेर के स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान महाविद्यालय में स्थापित ‘लेबोरेट्री नर्सरी स्कूल’ पिछले 25 बर्षों से नन्हे-मुन्ने बच्चों का भविष्य संवारने में लगी है। महाविद्यालय के साथ स्कूल का कंसेप्ट कहने और सुनने में भलेही कुछ अलग लगे, लेकिन इस स्कूल में ढाई से साढे तीन साल तक के बच्चों के लिए उत्कृष्ण शैक्षणिक माहौल के साथ अशैक्षणिक गतिविधियों का सतत संचालन किया जाता है। नियमित पेरेंटस-टीचर मीटिंग्स के अलावा होली, दीवाली, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी और गांधी जयंती के अवसर पर विभिन्न गतिविधियों के आयोजन बच्चों के लिए पारिवारिक माहौल बनाता है।
महाविद्यालय के ह्यूमन डवलपमेंट एंड फैमेली स्टडीज द्वारा संचालित ‘लेबोरेट्री नर्सरी स्कूल’ की अवधारणा वास्तव में विद्यार्थियों के सिलेबस का एक हिस्सा है। महाविद्यालय में विभिन्न संकायों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को पूर्व में इसके लिए अन्य नर्सरी स्कूलों में जाना पड़ता था। इसके मद्देनजर वर्ष 1993 में महाविद्यालय ने अपना नर्सरी स्कूल ही चालू कर लिया। सीमित संसधानों से प्रारम्भ हुई यह नर्सरी स्कूल आज कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा और महाविद्यालय की अधिष्ठाता डाॅ. दीपाली धवन के मार्गदर्शन में अत्याधुनिक संसाधनों की दृष्टि से सुदृढ़ हो चुकी है। इस नर्सरी स्कूल में बच्चों के लिए फर्नीचर, खिलौने, स्मार्ट क्लास बोर्ड, एप्रिन, डाइंग रूम, चिल्ड्रन थिएटर आदि की सुविधा है। इन बच्चों के लिए अलग से रसोईघर है, जहां पौष्टिक खाना पकता है। वहीं विभिन्न खेल स्पर्धाओं एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी लगातार किया जाता है। कुल मिलाकर विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम की मांग को लेकर स्थापित की गई नर्सरी स्कूल आज शहरी क्षेत्र में अपना विशिष्ट मुकाम बना चुकी है, इसमें कोई दोराय नहीं है।

Leave a Comment