21 फरवरी को अंतराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस मनाने के निर्देश

*राजस्थान सरकार ने राजस्थानी भाषा मे विभिन आयोजन के निर्देश जारी किए*
*राज्य सरकार के आदेश का अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति ने किया स्वागत*

जैसलमेर राज्य सरकार ने सभी महाविद्यालयों और विद्यालयों में 21 फरवरी को अंतराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस पर राजस्थानी भाषा मे विभिन आयोजन करने के निर्देश जारी किए।।राज्य सरकार के निर्देशों का अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति ने स्वागत किया तथा राजस्थानी भाषा की सुध लेने पर आभार जताया।।
राज्य सरकार के शिक्षा परिषद और आयुक्त कॉलेज शिक्षा द्वारा पत्र जारी कर सभी बिद्यालयो और महाविद्यालयों में मातृ भाषा दिवस 21 फरवरी को वृहद स्तर पर राजस्थानी भाषा को मायड़ भाषा के रूप में मनाने के निर्देश जारी किए।।आयुक्त कॉलेज शिक्षा प्रदीप कुमार बैरड़ ने जारी पत्र में लिखा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गत महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर राजस्थानी भाषा को संवैधानिक मान्यता के लिए पत्र लिखा था।राज्य सरकार द्वारा राजस्थानी भाषा को संवैधानिक मान्यता के लिए विधानसभा से सर्व सम्मति से प्रस्ताव पारित कर केंद्र सरकार को भिजवाया गया था। मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार को पुनरसमरण करते हुए राजस्थानी भाषा को मान्यता की मांग की ।।उन्होंने लिखा है कि समस्त महाविद्यालयों में 21 फरवरी को मातृ भाषा दिवस पर राजस्थानी भाषा मे चर्चा,विचार गोष्टी,राजस्थानी भाषा के संविधान,लोक गीत ,भाषा के समृध्द होने की चर्चा आदि कार्यक्रमो का आयोजन के निर्देश दिए है।उन्होंने लिखा कि भाषा अभिव्यक्ति का सबसे सशक्त माध्यम है।हमे अपनी मायड़ भाषा राजस्थानी के वैभव पर अधिक से अधिक कर्र्यक्रम आयोजित करने है।।21 फरवरी को महाशिवरात्रि का अवकाश होने के कारण ये आयोजन एक दिन पूर्व 20 फरवरी को आयोजित करने के निर्देश जारी किए।।रजत सरकार के इस कदम का अखिल भारतीय राजस्थानी भाषा मान्यता संघर्ष समिति के प्रदेश पाटवी डॉ राजेन्द्र बारहट,प्रदेश उप पाटवी चन्दन सिंह भाटी,अंतराष्ट्रीय संयोजक प्रेम भंडारी ने स्वागत करते हुए सरकार का आभार जताया।।प्रदेश में पहली बार आधिकारिक तौर पर मायड़ भाषा दिवस पर आयोजन होंगे।।राजस्थानी भाषा प्रेमियों ने सरकार के इस कदम का स्वागत किया।

Leave a Comment

error: Content is protected !!