IIHMR विश्वविद्यालय द्वारा ‘इंट्रोडक्शन टू ह्यूमन बायोलॉजी एंड मेडिकल टर्मिनोलॉजीज़’ पर 10 दिनों का मुफ्त ऑनलाइन सर्टिफिकेट कोर्स

नॉन-मेडिकल / नर्सिंग / पैरामेडिकल ग्रेजुएट छात्रों के लिए
2 अप्रैल 2021, जयपुर: IIHMR विश्वविद्यालय, जयपुर ने 1 अप्रैल 2021 से 10 अप्रैल 2021 तक इंट्रोडक्शन टू ह्यूमन बायोलॉजी एंड मेडिकल टर्मिनोलॉजीज़ ‘ पर दस दिनों के ऑनलाइन मुफ़्त पाठ्यक्रम की घोषणा की है। यह ऑनलाइन पाठ्यक्रम 3-क्रेडिट का है। यह प्रोग्राम माइक्रोसॉफ्ट टीम प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से शाम 6 – 8 बजे से संचालित किया जायेगा। इस कोर्स में यूएई, सऊदी अरब, ब्राजील, नेपाल, बहरीन, भारत सहित विभिन्न देशों के उम्मीदवार पंजीकृत हैं और कार्यक्रम में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं।
इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य मानव शरीर प्रणालियों की संरचना और शारीरिक कार्य के बारे में जानकारी प्रदान करना है ताकि स्वास्थ्य और विभिन्न शरीर क्रियाओं को समझने में मदद मिल सके।
IIHMR विश्वविद्यालय के प्रेजिडेंट, डॉ. पी आर सोडानी ने कहा, “यदि आप स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े हैं तो यह कार्यक्रम बहुत उपयोगी है। बहुत सारे पहलू है जो पेशेवरों को जानना आवश्यक है। कार्यक्रम को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि यह इस महत्वपूर्ण विषय को बहुत अच्छी तरह से और सरलता से समझाया जायेगा।”
इस परिचयात्मक पाठ्यक्रम को विशेष रूप से एमपीएच (मास्टर ऑफ़ पब्लिक हेल्थ), एमबीए (हेल्थ, हॉस्पिटल एंड रूरल मैनेजमेंट) कार्यक्रमों के इच्छुक लोगों के लिए मानव जीव विज्ञान पर बुनियादी ज्ञान प्रदान करने के लिए विकसित किया गया है। इस कार्यक्रम के माध्यम से, जीव विज्ञान / स्वास्थ्य / चिकित्सा जगत की पृष्ठभूमि से विद्यार्थी शिक्षित हो पाएंगे।
इस कोर्स के महत्व पर जोर देते हुए, IIHMR विश्वविद्यालय के चेयरमैन डॉ एस डी गुप्ता ने बताया की, “स्वास्थ्य देखभाल के क्षेत्र में सेल संरचनाओं की कल्पना करना और उचित निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए उनका अध्ययन करना बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए, मानव जीवविज्ञान और उसके ज्ञान के पहलुओं का अध्ययन बहुत महत्वपूर्ण है।“
यह पाठ्यक्रम सेल संरचना और कार्यों का वर्णन करता है; मानव शरीर और अंगों में विभिन्न प्रणालियों के शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान; स्वास्थ्य प्रणाली में दिन-प्रतिदिन के काम में आमतौर पर इस्तेमाल किये जाने वाले तथ्यों को सरलता से सीखने हेतु ऑनलाइन वीडियो, डायग्राम और उदहारण का उपयोग किया जाएगा।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!