देवशयनी एकादशी आज, चार महीने नहीं होंगे मांगलिक कार्य

देवशयनी एकादशी आज यानी 12 जुलाई को है। देवशयनी एकादशी को आषाढ़ी एकादशी या हरि शयनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।
पुराणों के अनुसार इन 4 महीनों में भगवान विष्णु योग निद्रा में रहते हैं। इसके बाद कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की एकादशी पर भगवान विष्णु की योग निद्रा पूर्ण होती है। इस एकादशी को देवउठनी एकादशी कहा जाता है। देवशयनी एकादशी से ही चातुर्मास भी शुरू हो जाता है। 12 जुलाई से अगले 4 महीनों तक मांगलिक कार्य नहीं होंगे। चातुर्मास के दौरान पूजा-पाठ, कथा, अनुष्ठान से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। चातुर्मास में भजन, कीर्तन, सत्संग, कथा, भागवत के लिए श्रेष्ठ समय माना जाता है। इस एकादशी से लेकर अगले चार महीनों तक श्री हरि विष्णु पाताल लोक में निवास करते हैं, जिसे भगवान की योग निद्रा कहा जाता है. यही वजह है कि भगवान की गैर-मौजूदगी में किसी भी तरह के मांगलिक कार्यों की मनाही होती है।
देवशयनी एकादशी कथा
===================
भागवत महापुराण के अनुसार आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को शंखासुर राक्षस मारा गया था। उस दिन से भगवान चार महीने तक क्षीर समुद्र में सोते हैं।
अन्य ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने राजा बलि से तीन पग दान के रूप में मांगे। भगवान ने पहले पग में पूरी पृथ्वी, आकाश और सभी दिशाओं को ढक लिया। अगले पग में पूरे स्वर्ग को ढक लिया। तब तीसरा राजा बलि ने अपने सिर पर रखवाया। इससे प्रसन्न होकर उन्होंने राजा बलि को पाताल लोक का अधिपति बना दिया और उससे वरदान मांगने को कहा।
बलि ने वर मांगते हुए कहा कि भगवान हमेशा मेरे महल में रहें। भगवान को बलि के बंधन में बंधा देखते हुए माता लक्ष्मी ने बलि को भाई बनाया और भगवान को वचन से मुक्त करने का अनुरोध किया।
माना जाता है तब से भगवान विष्णु का अनुसरण करते हुए तीनो देव 4-4 महीने में पाताल में निवास करते हैं। विष्णु देवशयनी एकादशी से देवउठनी एकादशी तक, शिवजी महाशिवरात्रि तक और ब्रह्मा जी शिवरात्रि से देवशयनी एकादशी तक करते हैं।

ऐसे करें देवशयनी एकादशी पर पूजा
=========================
एकादशी पर सुबह जल्दी उठें। घर की साफ-सफाई और नित्य कर्म से निवृत्त हो जाएं। इसके बाद घर में गंगाजल से छिड़काव करें।
घर के पूजा स्थल या किसी पवित्र स्थान पर भगवान श्री हरि विष्णु की सोने, चांदी, तांबे या कांसे की मूर्ति स्थापित करें। इसके बाद षोडशोपचार से उनकी पूजा करें और भगवान विष्णु को पीतांबर से सजाएं। फिर व्रत कथा सुननी चाहिए और आरती कर के प्रसाद बांटें।
-देवशयनी एकादशी पर एक गमले में सुबह के समय छोटा केले का पौधा लगाएं।
-घर की उत्तर पूर्व दिशा में केले के पौधे को रख कर रोली-मोली, पीले फल-फूल, केसर, धूप, दीप आदि से पूजा-अर्चना करें।
-एक शुद्ध आसन पर बैठकर गाय के घी का दीपक हल्दी का स्वास्तिक बनाकर उस पर रखकर जलाएं।
– देवशयनी एकादशी की व्रत कथा पढ़ें तथा परिवार के सदस्यों को भी सुनाएं। भगवान कृष्ण के 108 नामों का जाप करें।
– शाम के समय केले के पौधे के नीचे फिर से गाय के घी का दिया जलाएं. इसके बाद अपने मन की इच्छा भगवान विष्णु के सामने कहे।
– अब यह केले का पौधा किसी भी विष्णु मन्दिर या भगवान कृष्ण के मंदिर में रखकर आएं।

आज न करें ये काम
==================
देवशयन के चातुर्मासीय व्रतों में पलंग पर सोना, संभोग करना, झूठ बोलना, मांस, शहद, मूली, बैगन आदि का सेवन वर्जित माना जाता है।

राजेन्द्र गुप्ता,
ज्योतिषी और हस्तरेखाविद
मो. 9611312076, 7976009175
नोट- अगर आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल करके या व्हाट्स एप पर मैसेज भेजकर पहले शर्तें जान लेवें, इसी के बाद अपनी बर्थ डिटेल और हैंडप्रिंट्स भेजें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!