अमृता हाट मेलों के आयोजन से महिलाएं होंगी सशक्त और आत्मनिर्भर

anita bhadelphoto 002photo 003jpgphoto 006pgजयपुर। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती अनिता भदेल ने कहा है कि अमृता हाट मेलों का आयोजन पहली बार दिल्ली और जयपुर के अलावा जोधपुर संभाग स्तर पर किया गया है। इन हाट मेलों से न केवल स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाएं और अधिक सशक्त होंगी बल्कि वे आत्मनिर्भर और आर्थिक रूप से भी सम्पन्न होंगी।
श्रीमती भदेल ने शनिवार को जोधपुर में प्रथम संभाग स्तरीय अमृता हाट का विधिवत् उद्घाटन करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के स्वप्न को साकार करने की राह पर विभाग का यह विशेष नवाचार है। संभाग स्तर पर अमृता हाट की अवधारणा के पीछे उत्पादों की पहचान व सीधे ग्राहकों का बाजार तो है ही साथ ही परिवार की भी आय में बढ़ोतरी होगी, जिससे महिलाओं को पहचान मिलेगी और वे आत्मनिर्भर बनेंगी। उन्होंने कहा कि स्वयं सहायता समूहों को अब तक जयपुर, दिल्ली के हाट बाजारों में तो मौका मिला लेकिन अब अपने ही संभाग व शहरों में भी उत्पादों की पहचान भी बनेगी।
श्रीमती भदेल ने कहा कि आज ऑन लाइन का जमाना है। विभाग इस कोशिश में भी है कि स्वयं सहायता समूहों के बने उत्पाद ऑनलाइन बिक सके। इससे न केवल बिचौलियों से मुक्ति मिलेगी बल्कि समूहों को भी खुला आसमान मिलेगा। उन्होंने कहा कि मुद्रा बैंक की पुनर्वित योजना के तहत 20 हजार से 50 हजार, 5 लाख से 20 लाख तक के ऋण समूहों को साधारण फॉर्म व कम औपचारिकता के साथ दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि महिलाएं ज्यादा से ज्यादा स्वयं सहायता समूहों से जुड़ें और ऐसे हाट मेलों में भाग लें क्योंकि आने वाला समय हाथ के बने उत्पादों का ही ज्यादा क्रेज रहेगा।
गौरतलब है कि अमृता सोसायटी से पंजीबद्घ महिला स्वयं सहायता समूहों को इन हाटों में दुकान व आवास सुविधा निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है और ऐसे आयोजन को सफल बनाने के लिए व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार भी किया जाता है। जोधपुर के अलावा भरतपुर में 22 से 26 सितम्बर 2015, उदयपुर में 30 अक्टूबर से 3 नवंबर, बीकानेर में 18 से 22 दिसंबर, कोटा में 4 से 8 दिसंबर और अजमेर में अगले वर्ष 26 जनवरी से 3 फरवरी 2016 तक अमृता हाट मेले लगाए जाएंगे।
महिलाओं का हौसला भी बढ़ाया खरीददारी और बोहनी भी करवाई
महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती अनिता भदेल ने जोधपुर संभाग व राज्य के जिलों से आए महिला स्वयं सहायता समूहों की शनिवार को अमृता हाट में रूबरू होकर हौसला बढ़ाया। श्रीमती भदेल और स्थानीय विधायक श्रीमती सूर्यकान्ता व्यास ने कुछ स्टालों से खरीददारी करके ’बोहनी’ भी करवाई।
श्रीमती भदेल ने करीब 62 स्टालों पर इस पहले संभाग स्तरीय अमृता हाट के सभी स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं से संवाद भी किया और उत्पादों को देखकर सराहना भी की। बालेसर के स्वयं सहायता समूह की आर्टिफिशियल ज्वैलरी को देखकर उन्होंने कहा कि बहुत अच्छा लगा है। कल्याणी धारावाहिक से प्रभावित कल्याणी स्वयं सहायता समूह की 150 महिलाओं ने रिसाइक्लिंग करके बनाए पुराने कपड़ों की नायाब कारीगरी की सराहना की और कहा कि यह निश्चित तौर पर बहुत आगे जाएगा। उन्होंने ’अमृता हाट’ में प्रदर्शित लाख की चूड़ियां, मोजड़ी, पेपरमैशी, आर्टिफिशियल फ्लोवर्स, टेराकोटा, पैचवर्क, कांच जड़ाई, बंधेज लहरिया, मोठड़ा, कोटाडोरिया को नजदीक से देखा व सराहना की।

Leave a Comment