गुरु को मानते हैं तो गुरु की भी मानें

केकड़ी:– चार उल्हासनगर मुंबई स्थित अमृतवेला ट्रस्ट के मुख्य भाई गुरप्रीत सिंह ( रिंकू जी ) का धार्मिक नगरी केकड़ी में शुभ आगमन डंड का रास्ता सिंधी कॉलोनी स्थित दिव्य- आलोक निवास पर हुआ जहां उनका सिंधी समाज के साथ-साथ केकड़ी के गणमान्य नागरिकों ने पुष्पहार अर्पित कर भव्य स्वागत किया।
सिंधी समाज प्रवक्ता राम चंद टहलानी के अनुसार भाई गुरप्रीत सिंह जी ने एक ओंकार सतनाम कर्ता पुरख निरभव निरवैर अकाल मूरति अजूनी सैंभं गुरु प्रसाद जप आदि सच जुगादि सच है वी सच नानक होसी वी सच एवं धन गुरु नानक – धन गुरु नानक का बार- बार स्मरण करा कर सब को भाव विभोर कर दिया आगे उन्होंने अपने प्रवचनों में कहा कि भई प्राप्त मानुख देहरिया, गोविंद मिलन की यह तेरी बरिया, अवर काज तेरे किते न काम, मिल साध संगत भज केवल नाम।
मनुष्य जन्म संतो का संग प्राप्त कर परमात्मा के गुणगान करने के लिए मिला है
आज इंसान दुःख आने डॉक्टर का कहना मानता है ऐसे ही वह गुरु का कहना माने तो दु:ख नहीं आऐंगे,इंसान गुरु को तो मानता है पर गुरु की नहीं मानता है गुरु के नाम से ही हमें सारे सुख प्राप्त होने हैं।
वाणियों में भी दर्ज है परमात्मा का स्मरण में प्रातः अमृत वेले में उठकर किया जाए तो उसके परिणाम भी सकारात्मक आते हैं और अमृत वेले समय प्रातः 3:00 से 4:00 तक का होता है परमात्मा तीन काल सत्य है, परमात्मा सत्य अनादि है,सभी संतो ने उस अनादि शक्ति का अनुभव भी किया है।
भाई गुरदीप सिंह जी अपनी एक दिवसीय यात्रा पर केकड़ी में आए हुए है कल प्रातः 4:00 बजे इसी स्थान पर इनके प्रवचन होंगे।
केकड़ी आगमन के समय रामधन पटेल,रामस्वरुप माहेश्वरी, जगदीश स्वरुप मेवाड़ा,अशोक रंगवानी,एडवोकेट मदनगोपाल,चेतन,नरेश,राजू ,पूरण करिहा, दिनेश,राहुल,प्रदीप,सुरेंदर,बाबूलाल, डिम्पल,साक्षी,पम्मीजी,सावित्री,आशा, संगीता,ईश्वरी,केसाथ साथ समस्त साध संगत उपस्थित थी।
पार्षद सुरेंद्र जोशी ने नगर वासियों की ओर से भाई गुरप्रीत सिंह जी का भावभीना स्वागत कर आभार प्रकट किया।

Leave a Comment