भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हो सकते हैं कन्हैयालाल चौधरी

आगामी लोकसभा चुनाव के सिलसिले में भारतीय जनता पार्टी के एक दावेदार का नाम उभर कर आया है, सोशल मीडिया पर इस दावेदार के बारे में एक पोस्ट चल रही है। हमारे पाठाकें को उससे अवगत कराने के लिए उसे हूबहू दिया हा रहा है

लोकसभा चुनावों के नजदीक आते ही दिन प्रतिदिन अजमेर लोकसभा क्ष्रेत्र के केकड़ी, अराइं, किशनगढ़, दूदू, फागी, सरवाड़ सहित सैकड़ों स्थानों से जनता की आपसी चर्चा में कन्हैयालाल चौधरी का नाम खुलकर सामने आ रहा हैं। इस बार शीर्ष नेतृत्व एवं प्रदेश नेतृत्व ने अजमेर लोक सभा क्षेत्र से नए युवा चेहरे को टिकिट देने की प्लानिंग बनाई हैं। विश्वस्त सूत्रों में पता चला हैं कि जनता के सर्वे में कन्हैयालाल चौधरी का नाम सामने आ रहा हैं।
*प्रश्न आता होगा कि अजमेर लोकसभा में क्यों होंगे कन्हैयालाल चौधरी बेहतर:-*
जनता में खासे लोकप्रिय एवं विकास पुरुष की उपाधि से अलंकृत मालपुरा टोडारायसिंह विधायक ने हाल ही सम्पन्न हुए अजमेर लोकसभा के उप चुनावों में प्रत्याशी के समर्थन में दूदू-फागी के प्रभारी के रूप में घर घर जाकर वोट मांगना, नुक्कड़ बैठकें करने, मंदिरों की समितियों से मिलना, सभी समाजों के लोगों से मिलकर भाजपा को जिताने के लिए ताबड़ तोड़ मेहनत करी थी। पूरे चुनाव में घूमने से जनता इनको अच्छी तरह से जानने लगी हैं। अजमेर सीमा मालपुरा टोड़ा सीमा से जुड़ी हुई हैं। मालपुरा टोडारायसिंह क्षेत्र में हुए सभी विकासकार्यों की गूंज पड़ोसी क्षेत्र होने के नाते अजमेर लोकसभा क्षेत्रवासियों तक भी गयी हैं। निर्विवाद, सरल, सादगी, मेहनती, पार्टी के प्रति वफादार ओर सबसे खास बात हैं कि जनता से सीधे जुड़ाव, कार्यकर्ताओं से स्नेह-अपनत्व इनकी सहज उपलब्धता इनको जीत का हकदार बनाती हैं।

*कन्हैयालाल चौधरी का परिचय:-* मालपुरा टोडारायसिंह क्षेत्र में किसान परिवार में जन्मे कन्हैयालाल चौधरी A+ ठेकेदार हैं। ईन्होंने अपने क्षेत्र के बच्चों को शिक्षा को महत्व देने के लिए करोड़ों अरबों रुपये की लागत से उत्तम क्वालिटी के स्कूल का निर्माण करवाया। जिसमें टॉप एज्युकेशन से क्षेत्र के बच्चों का भविष्य निर्माण हो रहा हैं। समाजसेवी, भामाशाह के रूप में पूरे क्षेत्र में पहचान थी। भाजपा ने 2013 में मालपुरा टोडारायसिंह से विधायक का टिकिट दिया। इन्होंने अपनी मेहनत से लगभ 41000 वोटों से शानदार जीत हासिल की। और केवल पांच साल में ही क्षेत्र में विकास के कीर्तिमान बना दिये। जबकि इस क्षेत्र से मंत्री बनने वाले नेताओं ने भी इस क्षेत्र को कुछ नहीं दिया। कन्हैयालाल चौधरी ने विकास की अनेकों घोषणाएं माननीया मुख्यमंत्री जी से करवाई, और खास बात ये हैं कि अपनी मेहनत लगन से उस कार्य को अंजाम देने तक पीछे पड़े रहते थे। आज मालपुरा टोडारायसिंह क्षेत्र में ऐतिहासिक सी सी सड़कों का बिछा हुआ जाल, टोड़ा में राजकीय महाविद्यालय, मालपुरा अस्पताल में लगभग 5 करोड़ की लागत से विकास कार्य, मालपुरा में बन्द हो चुकी दूध डेयरी को वापस प्रारम्भ करवाने के साथ साथ 10 करोड़ की लागत से नवीन दूध डेयरी का भवन निर्माण स्वीकृत करवाया। मालपुरा औधोगिक क्षेत्र में सड़क, बड़े बड़े नालों का निर्माण, विधुत का नया सब स्टेशन स्वीकृत करवाकर उसका निर्माण करवाना, पूरे मालपुरा टोड़ा शहरी क्षेत्र के साथ अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल के लिए पानी की टँकीयों का निर्माण, घर घर पानी कनेक्शन की लाइन बिछवाई, मालपुरा कृषि उपज मण्डी में किसानों के लिए भवन बड़े बड़े टिन शेड निर्माण, ऐसे सैकड़ों विकास कार्य जिनका वर्णन करें तो post बहुत लम्बी हो जाएगी सहित टोडारायसिंह शहरी क्षेत्र का कायाकल्प करना, पर्यटन को बढ़ावा देने के ऐतिहासिक कार्य जो पिछले 60 वर्षों में कभी नहीं हुए वो केवल 5 साल में करने वाले विधायक कन्हैयालाल चौधरी को विकास पुरुष सम्बोधन से अलंकृत किया गया। जैसे मोदी जी के खिलाफ ठगों ने मिलकर महा गठबन्धन किया वैसे ही मालपुरा में भी इनके खिलाफ स्वाभिमान मंच बना, जिन्होंने पूरे क्षेत्र में भ्रामक प्रचार किया, इनके टिकिट का जमकर विरोध किया, मगर जनता के सर्वे में पार्टी आलाकमान के सर्वे में इनका नाम था । टिकिट मिलने के बाद 2018 विधानसभा चुनावों में इन्होंने शीर्ष नेतृव के जताए विश्वास की कसौटी पर खरे उतरते हुए स्वाभिमान मंच के जबरदस्त विरोध के बावजूद 29000 वोटों की ऐतिहासिक रिकॉर्ड जीत प्राप्त की। अभी 2018 चुनावों में टोंक सवाईमाधोपुर लोकसभा क्षेत्र से ये अकेले भाजपा विधायक विजयी हुए हैं। ये रिकॉर्ड इनके नाम हो चुका हैं।

*जीवन परिचय :-*
कन्हैयालाल चौधरी बेदाग, जनता में मिलनसार, सरल ,सादगी व्यक्तित्त्व के धनी हैं। प्रतिदिन घर पर नित्य पूजा पाठ से फ्री होकर अपने निवास में बने हुए विधायक कार्यालय में रोज सुबह 9 से 11 बजे तक जन सुनवाई करते हैं। उसके बाद प्रतिदिन गांवों में जाकर जनता के सुख दुःख-दर्द , खुशियों में शामिल होते हैं। जिसने भी शादी का कार्ड दिया चाहे वो bjp का हो या congress का, ये उस शादी में यथासम्भव अवश्य जाते हैं। क्षेत्र में हुई हर आपदा की जानकारी मिलते ही तुरन्त पहुँचकर दुःख दर्द में भागीदारी निभाते हैं।
क्षेत्र के पहले विधायक हैं जो आज भी अपने आप को किसान पुत्र मानकर अन्नदाताओं के लिए, गरीब किसान भाइयों के लिए शीतलहर, फसल खराबा, ओलावृष्टि पर अधिकारियों से किसान हितों के लिए लड़ते हुए दिखाई देते हैं।
*2013 में विधायक बनने से लेकर आज तक का सफर:-*
कन्हैयालाल चौधरी 2013 में पहली बार विधायक बनकर आये। 40000 मतों की जीत को उन्होंने जनता के चरणों मे समर्पित किया। और 6 महीने बाद हुए लोकसभा चुनावों में इन्होंने इस जीत को ओर बढ़ाते हुए सांसद को अकेले मालपुरा टोडारायसिंह क्षेत्र से लगभग 52000 मतों से जिताया, जो लोकसभा क्षेत्र की सबसे बड़ी जीत थी। उसके बाद मालपुरा टोडारायसिंह दोनों पंचायत समिति, दोनों नगरपालिका में भाजपा के प्रधान, चेयरमैन बनाये। जिला प्रमुख के चुनाव में मालपुरा टोड़ा के सभी जिला परिषद सदस्य भाजपा के जीते। दुग्ध डेयरी टोंक जिले के चेयरमैन भी भाजपा के जिला परिषद सदस्य कमल जी चौधरी बने। उनके आकस्मिक निधन के पश्चात हुए उप चुनाव में जब राजस्थान में भाजपा के खिलाफ माहौल चल रहा था तब इनके प्रयासों से रिकार्ड जीत उप चुनावों में जिला परिषद एवं डिग्गी के पँचायत समिति उप चुनाव में भी भाजपा की जीत हुई।
विधायक गांवों में जाते हैं। लोगों से मिलते हैं। उनके साथ जमीन पर बैठकर चर्चा करते हैं। कार्यकर्ताओं के छोटे से निवेदन पर उनके घर दाल रोटी प्रेम से बैठकर खाते हैं। अरबों खरबों रुपये के व्यापार करने वाले, इस क्षेत्र से सर्वाधिक टैक्स चुकाने वाले, अपार सम्पदा के मालिक होने के बाद भी इनका सरल सादगी जीवन, इनके सदविचार, इनकी धर्म-सँस्कृति के प्रति निष्ठा, प्रतिदिन नियम से सुबह जल्दी उठकर भगवान शिव की पूजा करना, सहजता से हर किसी के लिए उपलब्ध हो जाना हर किसी इंसान के लिए सम्भव नहीं हैं।
बड़े बूढ़ों को झुककर प्रणाम करने वाले कन्हैयालाल चौधरी को माता बहनों, बड़े बजुर्गों का आशीर्वाद एवं युवाओं का समर्थन मिलता हैं।
चुनावों में इनकी मुख्य ताकत और जीत का मुख्य आधार क्षेत्र में रहने वाले 6 वर्ष से 14 वर्ष तक के बच्चे हैं। जो दिन भर गांव से लेकर शहर में *हाथी घोड़ा पालकी – जय कन्हैयालाल की* नारे लगाते रहते हैं। बच्चें एक झलक देखते ही इनके पास दौड़े चले आते हैं। ये भी बच्चों से खुश होकर मिलते हैं । उनके साथ बतियाते हैं। बच्चे ईनके साथ गले लगकर फ़ोटो, सेल्फी लेते हैं। ये सरल सादगी इंसान में स्वतः ही होती हैं। और बच्चों को सच्चे लोग ही पसन्द आते हैं। इसलिए बच्चे इनके प्रशंसक हैं। चुनाव नजदीक आते ही बहुत से नेता चुनावों के समय आकर क्षेत्र में नोटों की बरसात करने लगते हैं। मगर कन्हैयालाल जी को अपना भाई, बेटा मानने वाली जनता उन सबको आईना दिखाते हुए चुनावों में विजयश्री की माला अपने लोकप्रिय विधायक को पहना देते हैं।
अजमेर ओर मालपुरा टोड़ा क्षेत्र में लोगों की आपसी रिश्तदारी होने से भी विधायक कन्हैयालाल चौधरी का पक्ष मजबूत होता हैं। सभी समाजों से जुड़ाव इनका मुख्य जीत का आधार होगा।
निश्चित रूप से अजमेर वासियों को कन्हैयालाल चौधरी से बेहतरीन सरल, सहज, जनता के मध्य रहने वाले जिताऊ प्रत्याशी नहीं मिल सकते। ये सांसद के साथ साथ विधायक का कर्तव्य भी पूरा करते हुए विधायक की कमी का अहसास नहीं आने देंगे।

Leave a Comment