लोकसभा चुनाव के लिए नित नए दावेदार सामने आ रहे हैं

आगामी लोकसभा चुनाव की चर्चा शुरू होने के साथ पहले से सुपरिचित दावेदार तो सामने आए ही थे, मगर दोनों ही पार्टियों में छायी चुप्पी के बीच कुछ और दावेदार भी उभर कर आ रहे हैं। ये वाकई दावेदार हैं या अपनी दावेदारी सोशल मीडिया के जरिए उछाल रहे हैं, इस बारे में कुछ कहना संभव नहीं, मगर इतना तय है कि ये दावेदार आमतौर पर चर्चित नहीं हैं। हो सकता है कि कुछ वाकई जमीन पर पकड़ रखते हों या फिर ऊपर तक पहुंच रखते हों, मगर संभावना इस बात की भी है कि वे लोकसभा चुनाव के बहाने चर्चा में आना चाहते हैं, भले ही टिकट न मिले।
जितने भी दावेदार हैं, वे कोई न कोई जातीय आधार लेकर चल रहे हैं। चूंकि यह सीट जाट बहुल है, इस कारण दोनों ही दलों में जाट दावेदार अधिक उम्मीद में हैं। जैसे कांग्रेस में अजमेर डेयरी चेयरमेन रामचंद्र चौधरी। वे विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में लौटे, तो यही एजेंडा था कि लोकसभा चुनाव में दावेदारी करेंगे। उन्होंने विशेष रूप से मसूदा में कांग्रेस के राकेश पारीक को जितवाने में अहम भूमिका निभाई। वे कांग्रेस के लगभग हर कार्यक्रम में शिरकत भी कर रहे हैं। इसी प्रकार पूर्व जिला प्रमुख रामस्वरूप चौधरी भी लाइन में हैं। एक दावेदार पूर्व विधायक नाथूराम सिनोदिया हो सकते थे, मगर पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होंने बगावत कर अपनी दावेदारी खत्म कर ली। अब लगता नहीं कि ऐन चुनाव से पहले उन्हें कांग्रेस में शामिल करने के साथ टिकट भी दे दिया जाएगा।
भाजपा में जाट दावेदारों के तौर पर पूर्व जिला प्रमुख सरिता गैना, पूर्व विधायक भागीरथ चौधरी का नाम चल रहा है। पिछली बार लोकसभा उपचुनाव में हारे रामस्वरूप लांबा विधानसभा चुनाव में नसीराबाद से जीत कर अपनी मंजिल हासिल कर ही चुके हैं। इस बीच कम चर्चित, मगर प्रभावशाली दीपक भाकर ने जिस प्रकार अपना प्रचार शुरू किया है, उससे ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने टिकट का जुगाड़ बैठा लिया है।
इस बीच एक और दावेदार का नाम सोशल मीडिया पर चल रहा है। वो हैं मालपुरा टोडारायसिंह के विधायक कन्हैयालाल चौधरी। बताया जा रहा है कि उन्होंने ग्राउंड सर्वे में अपना नाम जुड़वा लिया है। उन्होंने लोकसभा उपचुनाव में दूदू-फागी के प्रभारी के रूप में भाजपा का जम कर प्रचार किया था। दावा ये किया जा रहा है कि चूंकि अजमेर सीमा मालपुरा टोड़ा सीमा से जुड़ी हुई है, इस कारण मालपुरा टोडारायसिंह क्षेत्र में कराए विकास कार्यों की गूंज पड़ोसी क्षेत्र होने के नाते अजमेर लोकसभा क्षेत्रवासियों तक भी गयी है।
करीब सवा लाख राजपूत वोटों के दम पर कांग्रेस में अजमेर उत्तर से विधानसभा चुनाव लड़ चुके महेन्द्र सिंह रलावता, केकड़ी के पूर्व प्रधान भूपेन्द्र सिंह शक्तावत, देहात जिला कांग्रेस अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठौड़ आदि दावेदारी कर रहे हैं। एक नाम और नाम सामने आया है। वो केकड़ी ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष शैलेन्द्र सिंह शक्तावत का। उनका नाम पिछले दिनों एक बड़े दैनिक ने तीन प्रबल दावेदारों में शुमार किया था। बताया जाता है कि शक्तावत अजमेर के पूर्व सांसद व राज्य के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के करीबी हैं। कहते हैं कि शर्मा के विधानसभा चुनाव न लडऩे की सूरत में शैलेन्द्र सिंह शक्तावत का नाम प्रबल दावेदार के रूप में सामने आया था।
उधर भाजपा में युवा नेता भंवर सिंह पलाड़ा ने भी टिकट हासिल करने के लिए पूरी ताकत झोंक रखी है।
बात अगर वैश्यों की करें तो भाजपा में हाल ही शहर भाजपा अध्यक्ष के पद पर पूर्व एडीए चेयरमैन पद पर शिवशंकर हेड़ा की ताजपोशी के साथ वैश्यों की दावेदारी कमजोर हुई है। इसी प्रकार अजमेर नगर निगम के मेयर धर्मेन्द्र गहलोत की दावेदारी भी लोकसभा चुनाव प्रभारी बनने के साथ समाप्त सी हो गई है। ज्ञातव्य है कि खुद हेड़ा के अतिरिक्त पूर्व जिला प्रमुख पुखराज पहाडिय़ा व धर्मेश जैन भी दावेदारी कर रहे हैं। कांग्रेस में यूं तो एक मात्र प्रमुख नाम पूर्व विधायक डॉ. श्रीगोपाल बाहेती का है, मगर सुनने में आया है कि पूर्व सांसद व पूर्व विधायक विष्णु मोदी भी जाजम बिछा रहे हैं। आपको याद होगा कि जब पहली बार सचिन पायलट अजमेर आए थे, उससे ठीक पहले डॉ. बाहेती ही एकमात्र ऐसा नाम था, जिस पर शहर व देहात कांग्रेस एकमत थे।
गूजरों में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की माताश्री रमा पायलट का नाम चल रहा है तो भाजपा की ओर से पूर्व मंत्री नाथूसिंह गुर्जर भी टिकट की उम्मीद लगाए बैठे हैं।
राजनीति में लगभग हाशिये पर चले गए प्रो. रासासिंह रावत, जो कि पांच बार अजमेर के सांसद रहे हैं, ने भी उम्मीद नहीं छोड़ी है।
भाजपा संगठन में आईटी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले आशीष चतुर्वेदी भी अजमेर संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवारी की जंग में कूद पड़े हैं।
तेजवानी गिरधर
7742067000

Leave a Comment