कविता के वर्तमान स्वरूप और सरोकार पर संगोष्ठी 17 फरवरी से

राजस्थान साहित्य अकादमी के आयोजन में देशभर के कवि करेंगे शिरकत
अजमेर/राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी और साहित्यकार सम्मेलन का आयोजन आगामी 17 व 18 फरवरी 2018 को बोर्ड के रीट सभागार में किया जा रहा है। आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ बद्रीप्रसाद पंचोली ने बताया कि ‘कविता के वर्तमान स्वरूप और सरोकार‘ पर केन्द्रित इस वैचारिक संगोष्ठी में अकादमी अध्यक्ष डॉ इन्दुशेखर पंचोली, जयपुर से प्रख्यात कवि हेमन्त शेष, आलोचक अशोक आत्रे, गीतकार रजनी मोरवाल, सवाई सिंह शेखावत, दिल्ली से आकाशवाणी के पूर्व उपमहानिदेशक डॉ लक्ष्मीशंकर वाजपेयी, डॉ ममता किरण, अनिल वर्मा ‘ीमत‘, सर्वेश ‘चन्दौसवीं‘, राष्ट्रीय स्तर पर चर्चित डॉ रवीन्द्र भारती, विपिन चन्द्र, डॉ विजय नागपाल, सतीश आचार्य व डॉ विजयसिंह नाहटा सहित अनेक कवि-गज़लकार शिरकत करेंगे। समिति सदस्य डॉ पूनम पाण्डे व डॉ स्वतंत्र शर्मा के अनुसार दो दिन होने वाले सात चर्चा सत्रों में पद्मश्री डॉ चन्द्रप्रकाश देवल, राम जैसवाल, डॉ रमेश अग्रवाल, डॉ शकुन्तला तँवर, डॉ बीना शर्मा, डॉ अनन्त भटनागर, कालिन्द नन्दिनी शर्मा, डॉ संदीप अवस्थी, रासबिहारी गौड़, सुरेन्द्र चतुर्वेदी, गोपाल गर्ग, बख्शीश सिंह, गोविन्द भारद्वाज, प्रदीप गुप्ता, चेतना उपाध्याय, अमित टंडन व गौरव दुबे सहित अजमेर के सभी प्रमुख कवि-साहित्यकार भी भाग लेंगे, डॉ रजनीश चारण संगीत की प्रस्तुति भी देंगे। डॉ शमा खान और डॉ विमलेश शर्मा ने शोधार्थियों से शोध पत्र भी आमंत्रित किये हैं। संदीप पाण्डे और सुनीता सियाल ने बताया कि आयोजन में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, इण्डियन सोसायटी ऑफ आथर्स, अ.भा.दिगम्बर जैन महिला महासमिति, टर्निंग पाइंट स्कूल, आकाशदीप गेस्ट हाउस व संस्कृति स्कूल सहयोग कर रहे हैं।

उमेश कुमार चौरसिया
संयोजक एवं
सदस्य राज. साहित्य अकादमी संपर्क-9829482601

Leave a Comment