नागौर के एक और भाजपा विधायक के खिलाफ लामबंद हुए कार्यकर्ता

राजस्थान में चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद अब टिकटों पर मंथन चल रहा है. ऐसे में अब भाजपा कार्यकर्ता अपने विधायकों के खिलाफ एकजुट होकर हल्ला बोल रहे है. जहां नागौर से पहले यूनुस खान का विकल्प तलाश किए जाने की मांग उठी. वहीं इस लिस्ट में एक और भाजपा विधायक जुड़ गया है।

राजस्थान प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख तय होने के बाद दावेदारों ने टिकट के लिए कोशिश तेज कर दी हैं, तो कहीं वर्तमान विधायक की टिकट काटे जाने की मांग सामने आ रही है. नागौर जिले में भी हालात ऐसे ही दिखाई रहे हैं जहां पहले मेड़ता में भाजपा विधायक सुखराम के खिलाफ उनके ही कार्यकर्ताओं ने आवाज उठाई, उसके बाद प्रदेश सरकार मे केबिनेट मंत्री और डीडवाना से विधायक युनूस खान का विकल्प तलाश किए जाने की मांग उठी।

तो अब नागौर जिले की एक और विधानसभा सीट मकराना से विधायक श्रीराम भींचर को टिकट नहीं देने की बात कही जा रही है. विधायक श्रीराम भींचर के खिलाफ उनकी पार्टी के लोग परिवर्तन की मांग कर रहे है. इस दलील के साथ की क्षेत्र मे वसुंधरा राजे सरकार ने काम तो बहुत कराएं, लेकिन विधायक भींचर से लोग नाराज है और टिकट किसी और को देकर ही भाजपा फिर से मकराना का किला फतह कर सकती है।

मकराना विधानसभा श्रेत्र से दावेदारी जता रहे महिपाल सिंह राजपुरोहित क्षेत्र में जनसम्पर्क कर रहे है और उनका मानना है कि पार्टी प्रदेश में टिकट वितरण में उम्मीदवारों का चयन सही तरीके से करे तो फिर से प्रदेश मे वसुंधरा राजे के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनेगी, लेकिन मकराना सहित अन्य विधानसभा क्षेत्रों में जहां , विधायक के खिलाफ एंटी इनकमबेंसी का माहौल सामने आ रहा है.

वहीं उम्मीदवार बदलना ही पार्टी को जीत दिला सकेगा. अपनी दावेदारी के बारे में महिपाल सिंह राजपुरोहित का कहना है कि वे पिछले कई दशकों से पार्टी से जुड़े है और मकराना क्षेत्र मे उनका सभी 36 कौम मे प्रभाव है. इसी आधार पर वे टिकट की मांग कर रहे है और वर्तमान विधायक श्रीराम भींचर को भाजपा मे लाने वाले वे ही है, लेकिन इन दिनों भींचर के लिए विधानसभा क्षेत्र मे जो विरोध है. इसके चलते पार्टी को उनका विकल्प तलाशना ही होगा।

Leave a Comment