यूनाइटेडकिंगडममें 104 भारतीय विद्वानों को सम्मानित किया

प्रधानमंत्री यथार्तः माननीय थेरेसामे एमपी ने यूनाइटेडकिंगडममें 104 भारतीय महिलाविज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंगऔर गणित (एसटीईएम) विद्वानोंकोसम्मानितकिया
० ‘ब्रिटिशकाउंसिल के 70वीं वर्षगांठ छात्रवृत्ति‘ के ये 104 विजेता 43 ब्रिटिश विश्वविद्यालयों में एसटीईएम शिक्षा में मास्टर डिग्री प्राप्त करने में लगे हुए हैं
० ब्रिटिशकाउंसिल ने यूनाइटेड किंगडम में एसटीईएम शिक्षा में लगे हुए अन्य 70 भारतीय महिलाओं के लिए 1 मिलियन ब्रिटिश पौंड स्टर्लिंग कीमत की छात्रवृत्ति के दूसरे दौर की घोषणा की

लंदन / लखनऊ, 3 नवंबर 2018ः ब्रिटिश काउंसिल, सांस्कृतिक संबंधो ंऔर शैक्षिक अवसरों के लिए यूनाइटेड किंगडम के अंतर्राष्ट्रीय संगठन ने यूनाइटेड किंगडममेंविज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (एसटीईएम) मेंमास्ट रकररही भारतीय महिलाओं के लिए अपनी 70वीं वर्षगांठ छात्रवृत्ति कार्यक्रम के दूसरेसंस्करण की घोषणा की है. 104 भारतीय महिला एसटीईएम विद्वानों के लिए यह घोषणा प्रधानमंत्री यथार्तः माननीय थेरेसामे एमपी यूनाइटेडकिंगडम की उपस्थितमें एक बधाई समारोह समारोह में की गई। ये विद्वान वर्तमान म ेंइंग्लैंड, स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड के 43 ब्रिटिश विश्व विद्यालया ेंमें एसटीईएम शिक्षा मे ंअपने मास्टर डिग्री का ेपूर्ण कर रह ेहैं।
प्रधानमंत्री यथार्तः माननीय थेरेसामे एमपी यूनाइटेड किंगडम ने, ब्रिटिश काउंसिल की 70वीं वर्षगांठ महिला एसटीईएम विद्वानों से मुलाकात की, यूनाइटेड किंगडम के शीर्ष विश्वविद्यालयों मे ंसबसे तीव ्रबुद्धि भारतीय छात्रों को आकर्षित करने के लिए यूनाइटेड किंगडम की प्रतिबद्धता क ाप्रदर्शन किया।पुरस्कार िवजेताओं ने यूनाइटेड किंगडम के सांसदों से भी मुलाकात की और संभावित कार्यस्थलों और इंटर्नशिप का पता लगाने के लिए प्रमुख व्यवसाया ेंऔर विश्वविद्यालयों से जुड़े।
छात्रवृत्ति योजनासंस्करण के दूसरेसंस्करण की घोषणा पहले राउंड की शानदार सफलता के बाद हुई है, जिसनेभ् ाारत मे ंब्रिटिश काउंसिल की 70वीं वर्षगांठ मनाई। 104 विद्वानोंमें से 50ः से अधिकटियर 2 और 3 भारतीय शहरों से आत ेहैं, जो देश भर मे ंगुणवत्तापूर्ण शिक्षा, कौशल और योग्यता तक पहुंच मे ंसुधार तथा भारत और वैश्विक स्तर पर भारतीय महिलाओं के सफल होने के अवसर प्रदान करने के लिए ब्रिटिश काउंसिल की प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हैं।
छूसरे वर्ष में, ब्रिटिश काउंसिल और यूनाइटे डकिंगडम मे ंस्थित दुनिया के कुछ बेहतरीन विश्वविद्यालय 70 भारतीय महिलाओं को शैक्षणिक वर्ष 2019-20 के लिए यूनाइटेड किंगडम में एसटीईएम मे ंमास्टर कार्यक्रम का अध्ययन करने के लिए 1 मिलियन ब्रिटिश स्टर्लिंग पौंड कीमत की पूर्ण शिक्षण छात्रवृत्ति को वित्तपोषित करेंगे।महिला विद्वानों के लिए ब्रिटिश् ाकाउंसिल का यह निवेश भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के महिलाओं के नेतृत्व वाले िवकास के उपाय और संकल्प तथा स्वयं िब्रटिश काउंसिल के महिलाओं और लड़कियों पर विशेष ध्यान तथा संयुक्तराष्ट्र सतत विकास लक्ष्य 5 का समर्थन करता है।
यूनाइटेडकिंगडमगुणवत्ताअनुसंधानमें एक वैश्विकनेताहै-दुनिया के शीर्षदसविश्वविद्यालयोंमें से चार यूनाइटेडकिंगडममेंहैं, देशभरमेंशिक्षणऔरअनुसंधान के असाधारणउच्चमानक के साथ। यूनाइटेडकिंगडमवर्तमानमेंदुनियाभरमेंविज्ञानऔरअनुसंधान के लिए नंबरदोस्थानपरहैऔरइनछात्रवृत्ति के माध्यम से, यूनाइटेडकिंगडममें एसटीईएमशिक्षाकोजारी रखने के लिए युवाभारतीय महिलाओं का स्वागत करता है. जून 2018 को समाप्त वर्ष में, भारतीय नागरिकों को दिए गए टायर 4 वीजा की संख्या में 32ः की उल्लेखनीय वृद्धि हुई थी।
श्री एलनगेमेल, ओबीई, निदेशकभारत, ब्रिटिशकाउंसिलनेकहा, ‘‘10 डाउनिंगस्ट्रीटमेंअपने घरपर प्रधानमंत्री से मुलाकात करना हमारे विद्वानों के लिए एक अविस्मरणीय दिनहै।विद्वानों की मुलाकात ब्रिटेन और भारत के बीच शैक्षणिक संबंधों के विशेष महत्वका एक अनुस्मारक है और िब्रटेनने पिछले साल भारत भर से 18,000 छात्रों का स्वागत किया था। 2018 की ब्रिटिश काउंसिल 70वीं वर्षगांठ की 104 विद्वान महिला एंब्रिटेन और भारत के बीच भविष्य के संबंधों के लिए राजदूतहैं- एक ऐसा संबंध जा ेरचनात्मकता, नवरचना और जीवन-परिवर्तन के अवसरों पर केंद्रितहै।मुझे खुशी है किहम 2019 में 70 और महिलाओं के लिए ब्रिटिश काउंसिल के 70वीं वर्षगांठ पर छात्रवृत्तियां देने के लिए 1 मिलियन पौंड के निवेश की घोषणा कर रहे हैं।‘‘
ब्ंगोर विश्वविद्यालयएयूकेसे नैदानिक और स्वास्थ्य मनोविज्ञान में परास्नातक कर रही लखनऊ की ब्रिटिश काउंसिलछात्र वृत्ति विजेता साराह जबीन ने कहा, ‘‘पिछला साल मेरे जीवन के सबसे पूर्ण वर्षों में से एक रहा है।ब्रिटिश् काउंसिल एसटीईएम छात्रवृत्ति के बारे में पता लगाना तथा इस छात्रवृत्ति के परिणाम स्वरूप दुनिया भर के कुछ सबसे प्रभावशाली लोगों से मिलना और यूनाइटेडकिंगडममें एक विश्वस्तरीय मास्टर की डिग्रीकरना, यह सबबहुतअच्छारहाहै।मेराउद्देश्य इस अवसर का अधिक से अधिक लाभ उठाना है और यह जानने के लिए बहुत उत्साहित हूंकि इस अवसर को अधिक भारतीय शोध कर्ताओं तक बढ़ा दिया गया है।‘‘
आवेदनप्रक्रिया-ब्रिटिशकाउंसिल 70वीं वर्षगांठछात्रवृत्तियां
आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के लिए 30 जनवरी 2019 तक यूनाइटेड किंगडम विश्वविद्यालय से एक प्रस्ताव प्राप्त होना आवश्यक है।सभी विवरण ब्रिटिश काउंसिल वेब साइटपर उपलब्ध रहेंगे.
अधिकजानकारी के लिए, कृपयासंपर्ककरेंः
अदिति हिंदवान aditi.hndwan@in.britishcouncil.org | 83770 01450

ब्रिटिशकाउंसिल वैबसाइटः https://www.britishcouncil.in

ब्रिटिश काउंसिल के बारे मेंः
ब्रिटिश काउंसिल सांस्कृतिक संबंधो ंऔर शैक्षणिक अवसरों के लिए यूनाइटेड किंगडम का अंतर्राष्ट्रीय संगठन है।हम यूनाइटेडकिंगडम और अन्य देशों के लोगों के बीच दोस्ताना ज्ञान और समझ का रिश्ता बनाते हैं। हमइ से यूनाइटेड किंगडम और जिन देशों के साथ काम करते हैं, उनम ेंसकारात्मक योगदान करके बनाते हैं-इनमे ंसम्मिलित होता है अवसरों का निर्माण करके जीवन को बदलना, संबंध स्थापित करना और परस्पर विश्वास को बढ़ाना।हम कला और संस्कृति, अंग्रेजी भाषा, शिक्षा और नागरिक समाज के क्षेत्र में दुनिया भर में 100 से अधिक देशों के साथ कामक रते हैं।प्रत्येक वर्ष हम 20 मिलियन से अधिक लोगा ेंतक आमने सामने तथा 500 मिलियन से अधिक लोगो ंतक ऑनलाइन पहुंचते हैं। 1934 में स्थापित, हम रॉयल चार्टर और यूनाइटेड किंगडम के सार्वजनिक निकाय द्वारा शासित यूनाइटेड किंगडम चैरिटी हैं।

Leave a Comment