भगवान ना करे कि साल 2013 ऐसे बीते

कहते हैं कि अंत भला तो सब भला। लेकिन 2012 के अंत ने पूरे देश को गमगीन कर दिया। जब आप पूरे साल को याद करेंगे तो गम का सैलाब आंखों में उमड़ आएगा। एक तरफ कुदरत ने कहर बरपाया तो दूसरी तरफ हमने मानवता को शर्मसार कर दिया।

दिल्ली गैंगरेप

16 दिसंबर को चलती बस में हुई गैंगरेप ने पूरे देश को झकझोर दिया। पूरा देश इस हादसे पर रोया। राष्ट्रपति, पीएम से लेकर सीएम तक सभी इस बच्ची को देश की बहादुर बेटी बताते हुए शोक जताए। पूरा देश सड़कों पर उतर आया है। आधी आबादी अब बदलाव की मांग कर रही है। बदलाव समाज की सोच और कानून में।

घोटालों का रहा साल

कोलगेट के नाम से मशहूर कोल ब्लॉक आवंटन के मामले में सरकार सांसत में रही। पीएम से सीएम तक पर सवाल उठा। सत्तापक्ष हो चाहे विपक्ष सब पर इसकी कालिख लगी। सरकार को जवाब देना मुश्किल पड़ा। संसद का मानसून सत्र इस घोटाले की भेंट चढ़ा। सिंचाई घोटाले ने जहां उपमुख्यमंत्री को कुर्सी गंवानी पड़ी वहीं यूपी में एनआरएचएम घोटाले में मंत्री से संतरी तक फंसे।

बाढ़ और दंगों से हिल गए हम

इंद्रदेव के क्रोध से पूरा हिस्दूस्तान इस साल त्रस्त रहा। साल 2012 में इतनी अधिक बारिश हुई कि बिगड़े हालातों को संभालने के लिए सेना की मदद लेनी पड़ी। मानसूनी बारिश के कारण एक तरफ राजस्थान में 50 से अधिक लोगों की जान गई तो वहीं असम में मानसून के कहर के कारण 150 से अधिक लोगों की मौत हुई। बाढ़ के कहर के साथ ही असम दंगों की आंच से भी झुलसा। इधर यूपी में महज एक साल के दौरान सात बार दंगे हुए।

पीएम को बिदेशी मीडिया ने बताया अंडरअचीवर

अमेरिकी पत्रिका टाइम ने अपने जुलाई अंक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कवर पेज पर अंडरअचीवर बताया था। इस साल घोटाले दर घोटाले खुलते रहे, महंगाई बढ़ती रही और जनता काफी गुस्से में रही।

सैंडी से हिल गया अमेरिका

एक तरफ अमेरिका अपने राष्ट्रपति के चुनाव में व्यस्त था तो दूसरी तरफ सैंडी तूफान तबाही मचा रहा था। आलम ये हुआ कि प्रेसीडेंट ओबामा को अपना चुनावी दौरा रोकना पड़ा। एक ही दिन में 14 हजार विमानों की उड़ानों को कैंसिल करना पड़ा। इस तूफान से करीब छह करोड़ लोग प्रभावित हुए। अमेरिका में इस तूफान ने 150 से अधिक लोगों की जान ली।

अमेरिका के स्कूल में शूटआउट

अमेरिका के स्कूल में शूटआउट की वारदात ने सबको हैरानी में डाल दिया । एक सनकी हमलावर ने बच्चों के स्कूल में मौत का ऐसा खेल खेला, जिसमें 28 बेगुनाहों की मौत हो गई। मरने वालों में ज्यादातर छोटे बच्चे थे।

गुवाहटी में लड़की से छेड़छाड़

इसी साल नौ जुलाई को गुवाहटी में सरेआम सड़क पर छे़ड़छाड़ हुई। यहां तक कि लड़की के कपड़े तक फाड़ डाले गये। मुख्य आरोपी कलिता समेत 11 लोगों पर केस दर्ज । एक टीवी पत्रकार ने घटना को ऑन एयर किया था। इस घटना ने मीडिया के चरित्र पर भी सवाल उठाया। इस घटना से मीडिया का सिर शर्म से झुका दिया।

कर्नाटक विधानसभा में पोर्न देखते मंत्री

फरवरी 2012 में कर्नाटक सरकार के दो मंत्री विधानसभा कार्यवाही के दौरान सदन में ही सेक्स वीडियो देखते पकड़े गए। इस घटना से पूरे देश का सिर शर्म से झुक गया।

Leave a Comment

error: Content is protected !!