खेतों में उत्पादन बढ़े, यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता

बीकानेर, 10 जनवरी। किसानों से फीडबैक लेकर खेती के दौरान आने वाली समस्याओं के समाधान की दिशा में प्रयास हो सकेंगे। केवीके के एक्शन प्लान में ऐसी गतिविधियां शामिल की जाएं, जो किसानों के लिए लाभदायक हों। ऐसा कहा स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय प्रसार शिक्षा निदेशक डाॅ. एस. के. शर्मा ने। वे विवि के अधीन कार्यरत कृषि विज्ञान केन्द्रों (केवीके) की वर्ष 2018-19 की कार्ययोजना के संबंध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। डाॅ. शर्मा ने कहा कि किसान, कृषि वैज्ञानिकों द्वारा इजाद की गई तकनीकों को ग्रहण कर सकें तथा खेतों में उत्पादन बढ़े, यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। प्रत्येक केवीके निर्धारित नाॅम्र्स के अनुसार एक्शन प्लान तैयार करें तथा इसमें सभी बिंदुओं को सम्मिलित किया जाए। किसान मेलों, गोष्ठियों, फील्ड डे सहित विभिन्न आॅन कैम्पस एवं आॅफ कैम्पस गतिविधियों के आयोजन पश्चात् किसानों का फीडबैक जरूर लिया जाए।
प्रसार शिक्षा निदेशालय के उपनिदेेशक डाॅ. सुभाषचंद्र ने कहा कि प्रत्येक कृषि विज्ञान केन्द्र प्रभारी किसानों से निरंतर संवाद रखें। बैठक के दौरान चालू वित्तीय वर्ष के दौरान अब तक की गतिविधियों की समीक्षा की गई।
बैठक में प्रो. जे. पी. लखेरा सहित विष्वविद्यालय के अधीन कार्यरत कृषि विज्ञान केन्द्रों के प्रभारी मौजूद थे।

Leave a Comment