जैतून के औषधीय एवं वैज्ञानिक गुणों की जानकारी दी

बीकानेर, 10 जनवरी। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत एसकेआरएयू के गृह विज्ञान महाविद्यालय में आयोजित ‘फसल कटाई के पश्चात् जैतून में मूल्य संवर्धन की संभावनाएं’ विषयक तीन दिवसीय कार्यशाला का गुरुवार को समापन हुआ। प्रतिभागियों ने अंतिम दिन लूनकरणसर स्थित जैतून फाॅर्म का अवलोकन किया तथा यहां की विभिन्न गतिविधियों को जाना। वहीं, महाविद्यालय में आयोजित प्रशिक्षण के दौरान जैतून से बने विभिन्न उत्पादों का प्रदर्शन किया गया। डाॅ. मधु गोयल, डाॅ. विमला डुकवाल, डाॅ. ममता सिंह, डाॅ नम्रता, डाॅॅ रूपम, प्रिया एवं ममता ने विभिन्न विषयों पर व्याख्यान दिए। इस दौरान प्रयोगशाला में इन उत्पादों के निर्माण की पद्धति भी सिखाई गई तथा जैतून में मूल्य संवर्धन की संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की गई। वक्ताओं ने जैतून के औषधीय एवं वैज्ञानिक गुणों की जानकारी दी। कार्यशाला का दूसरा चरण 14 से 16 जनवरी तक आयोजित होगा। इसमें किसानों के अलावा कृषि वैज्ञानिक तथा विद्यार्थी भागीदारी निभाएंगे।

Leave a Comment