आजादी की जीवंत तस्वीर में गहरे हैं हेमू कालाणी की शहादत के रंग

बीकानेर । हमें अपने जीवन में विभिन्न रंगों को समायोजित करते हुए अपने रंग समन्वय से भरते हुए जीवन को खुशी से रंग देना हमारी संस्कृति ने सिखाया है । और ऐसा ही शहीद हेमू कालानी ने देश के लिए प्राण उत्सर्ग करके सिद्ध किया । ये कहा बिग वी कॉमर्स क्लासेज में सिंधी समाज के अतिथि वक्ताओं ने और अवसर था भारतीय सिन्धु सभा व समाज की संस्थाओं द्वारा पवनपुरी स्थित बिग वी कॉमर्स क्लासेज में सिंधु सभा द्वारा हेमू कालाणी के बलिदान दिवस पर उपलब्ध करवाए गए हेमू कालानी के चित्र में रंग भरो प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार वितरण समारोह का । समारोह में सिंधु सभा के पदाधिकारी एवं मंचस्थ अतिथियों ने बलिदानी हेमू कालाणी के तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर समारोह की शुरुआत की। हेमू कालानी के जीवन एवं देश के लिए बलिदान दिए जाने के बारे में जानकारी श्याम आहूजा ने दी। उन्होंने कहा कि आज हम आजादी की जीवंत तस्वीर का हिस्सा हैं मगर यह नहींं भूलना चाहिए कि इस आजादी को पाने के लिए हेमू कालाणी की शहादत के रंग सर्वाधिक गहराई वाले हैं । हासानन्द मंगवानी ने बच्चों को सिंधीयत की महत्ता बताई और युवाओं को सिंधी भाषा साहित्य एवं कला-संस्कृति का संवर्द्धन-संरक्षण करने के लिए आगे आने का आह्वान किया । सिन्धुसभा की गतिविधियों एवं आगामी प्रस्तावित आयोजनों की जानकारी किशन सदारंगानी ने दी। विजय धिरानी के नेतृत्व में हुई प्रतियोगिता में करीब 80 प्रतिभागियों ने भाग लिया था । समारोह में इनमें से विजेता अमन कुमार, सलोनी शर्मा, खुशाल आहूजा, हर्षिता अरोड़ा, उमंग, और सुहानी को मोमेंटो, प्रमाण पत्र व प्रशस्ति-पत्र से नवाजा तो मौजूद अभिभावकों सहित समाज के लोगों ने करतल ध्वनि से इन विजेता बाल कलाकारों को सराहा । प्रवक्ता केशव खत्री व विवेक आहूजा ने बताया कि चयन मंडल द्वारा चयनित प्रथम तीन विजेताओं एवं शेष में से चयनित तीन श्रेष्ठ प्रतिभागियों को सांत्वना प्रोत्साहन पुरस्कार से अतिथियों ने नवाजा। धन्यवाद – अनिल डेम्बला ने ज्ञापित किया ।
– मोहन थानवी
सांस्कृतिक मंत्री
भारतीय सिंधु सभा महानगर बीकानेर
9460001255

Leave a Comment

error: Content is protected !!