लॉक डाउन में जैसलमेर में सन्नाटा पसरा ,लोगो की घरबंदी जारी

जिला कलेक्टर मेहता निकले सड़को पे ,काम बंद कराये
जैसलमेर सरहदी जैसलमेर जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के
उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा 31 मार्च तक की गयी लोक् डाउन के पहले
दिन सन्नाटा पसरा रहा ,लोगों ने अपने प्रतिष्ठान ,होटलें ,दुकाने ,पर्यटन
स्थल ,रेस्टोरेंट ,फैक्ट्रियां आदि इच्छा से बंद रखे , पुरे शहर में में
मात्र मेडिकल ,सब्जी ,किराना और दूध की डेयरी खुली पाई गयी ,खुली गयी
दुकानों पर भी सन्नाटा पसरा था ,जनता कर्फ्यू के बाद आज जैसलमेर वासियो
ने लोक डाउन के प्रति सम्मान प्रकट करते हुए घरबंदी में रहे। जिस तरह
जैसलमेर में जनता हौसले के साथ जिला प्रशासन का साथ दे रहा हे वह कबीले
तारीफ हैं,सडको पर कोरोना फाइटर पुलिस कर्मी ,नगर परिषद कार्मिको और
स्वास्थ्य कर्मियों के आलावा नजर नहीं आया,इधर जिला कलेक्टर नमित मेहता
ने भी शहर में लोक डाउन का जायजा लिया ,जिला कलक्टर ने जैसलमेर शहर के
भीतरी हिस्सों व मुख्य बाजारों का दौरा किया तथा जहां दुकानें ख्ुाली
देखी गई, उन व्यापारियों को समझाईश कर शटर डाउन कराए तथा संयम बरतने के
निर्देश दिए। उन्होंने व्यवसायियों से कहा कि लॉक डाउन में पूरा सहयोग
करें और अपने कारोबार कुछ दिन के लिए बंद रखते हुए घरों में ही रहें ताकि
समुदाय और जैसलमेर को कोरोना वायरस से मुक्त रखने में मदद मिल
सके।कलेक्टर द्वारा चेक पोस्टों का किया गया ,आवश्यक दिशा निर्देश जारी
किये ,साथ ही गड़ीसर चौराहे पर चल रहे सरकारी निर्माण कार्य को भी तत्काल
बंद करवाया ,उनके साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राकेश बैरवा ,अतिरिक्त जिला
कलेक्टर ओमप्रकाश विश्नोई रहे ,इधर करना फाइटर पुलिस कर्मी मुस्तैदी से
पर नजर रखे थे तो नगर परिषद् के कार्मिक गायड सिंह अपनी टीम के साथ कच्ची
बस्तियों को सेनिटाइजर करते मिले ,इधर स्वास्थ्य कर्मी भी कच्ची बस्तियों
में करते मिले। जैसलमेर में जिला पुलिस प्रशासन की जुगलबंदी को स्थानीय
जनता का भरपूर समर्थन मिलने से लोक डाउन की पूर्ण पलना हो रही हैं ,वहीँ
बाहरी जिलों से आने वालो की चेक पोस्टों पर स्क्रीनिंग हैं ,

Leave a Comment

error: Content is protected !!