जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के दूसरे ई-दीक्षांत समारोह में 1023 विद्यार्थियों को डिग्री मिली

जयपुर, 17 जुलाई, 2021: भारत के प्रमुख एमबीए कॉलेजों में प्रतिष्ठित जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने अपने दूसरे ई-दीक्षांत समारोह के संग शैक्षणिक सत्र 2020-2021 का सफल समापन किया। संस्थान के चारों कैम्पस के स्नातक छात्रों, विशिष्ट अतिथियों, शिक्षकों और पूर्व छात्रों की इसमें उत्साहवर्धक भागीदारी दिखी। माननीय मुख्य अतिथि श्री रशेश शाह, अध्यक्ष और सीईओ, एडलवाइस समूह ने दीक्षांत समारोह की शोभा बढ़ाई।
नोएडा, लखनऊ, जयपुर और इंदौर कैम्पस के कुल 1023 विद्यार्थियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मैनेजमेंट की डिग्री प्रदान की गई। सुस्त अर्थव्यवस्था के बावजूद जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने इस साल अपने लखनऊ, नोएडा, जयपुर और इंदौर चारों कैम्पस मिला कर 945+ विद्यार्थियों के लिए प्रमुख कम्पनियों में प्लेसमेंट सुनिश्चित किया और बाकी विद्यार्थियों के लिए प्लेसमेंट जारी है।
स्नातक बैच के विद्यार्थियों को ई-कॉमर्स, एफएमसीजी, रिटेल और मैन्युफैक्चरिंग, बैंकिंग एवं वित्तीय सेवाओं, बीमा, एनेलिटिक्स और कंसल्टिंग के क्षेत्र में विभिन्न प्रतिष्ठित आॅफर दिए गए। फ्लिपकार्ट, डेलॉइट, हेनकेल, एचडीएफसी आदि प्रमुख कॉरपोरेट्स ने ये आॅफर दिए।
दीक्षांत समारोह में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए अध्यक्ष, श्री शरद जयपुरिया और इंटीग्रल एडुकेशन सोसाइटी के अध्यक्ष ने 2019-2021 बैच के सभी स्नातकों को बधाई दी और कहा कि “दुनिया अभाव, बदलाव, समायोजन के दौर से गुजर रही है। साथ ही, जीने, काम करने, साझा करने और अस्तित्व कायम रखने के नए तरीके अपना रही है। श्री जयपुरिया ने कठिन दौर से नई उम्मीद जगने के बारे में बताया कि ‘किसान का बीज बोना यदि मिट्टी में दबाना है तो साथ ही पौधा लगाना भी‘ है। हमें यह समझना चाहिए कि कठिन परिस्थितियां हमें दबाने के लिए नहीं हैं बल्कि उभरने का मौका देती हैं। आशावान होना भविष्य में कुछ अच्छा होने की उम्मीद रखना है। सीखने का तरीका बदलना और जूम को अपनाना हमारे असीम आशावान होने की निशानी है और श्री जयपुरिया ने वर्चुअली इस बैच को शुभकामनाएं दीं।
उन्होंने कहा ‘‘इस अवसर पर हमारी मिली-जुली भावना है क्योंकि हम विद्यार्थियों को मैनेजमेंट की डिग्री देकर विदा कर रहे हैं लेकिन यह हमेशा गर्व का क्षण होता है क्योंकि हमें विश्वास है कि अपने कार्य क्षेत्र में ये अपना नाम करेंगे और जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट का नाम रोशन करेंगे।’’
स्वागत् संबोधन के बाद उपाध्यक्ष श्री श्रीवत्स जयपुरिया ने जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की वर्ष 2020-2021 के लिए प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत किया
श्री श्रीवत्स जयपुरिया, उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘हमारे संस्थान – लखनऊ, नोएडा, जयपुर और इंदौर कैम्पस की प्रगति रिपोर्ट (शैक्षणिक वर्ष 2020-21) प्रस्तुत करना मेरा सौभाग्य है। कोविड-19 महामारी के अभूतपूर्व संकट सहित तमाम अन्य चुनौतियों के समाने अडिग और अनुकूल होने के साथ जयपुरिया संस्थानों ने अपने लगभग 90 प्रतिशत विद्यार्थियों का प्लेसमेंट हासिल किया। कोरोना काल में हम ने अपने भागीदारों विशेषकर विद्यार्थियों के हितों की रक्षा का निरंतर प्रयास किया है। अब तक 230 कम्पनियों ने नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली है। इनमें ब्लू चिप और न्यू एज कम्पनियां भी शामिल हैं। संस्थान को भारतीय और अंतरराष्ट्रीय नियुक्ति एजेंसियों ने भी उच्च मान्यता दी है। हमारे चारों कैम्पस नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क इंडिया की रैकिंग में चोटी के 75 स्थानों में प्रतिष्ठित हैं और तीसरा कैम्पस आईआईटी और आईआईएम सहित देश के 100 दिग्गज प्रबंधन संस्थानों में शुमार है। हमें 2020-21 की रैंकिंग का इंतजार है जो बहुत जल्द जारी होने वाली है। हम छात्रों को वैश्विक अनुभव देने में विश्वास रखते हैं और इसलिए हम ने न्यूजीलैंड में आरा बिजनेस स्कूल और फ्रांस के एक बिजनेस स्कूल से भी सहयोग करार किया है। इसमें शिक्षकों और विद्यार्थियों के आदान-प्रदान समेत बुनियादी शिक्षण और अनुसंधान सहयोग भी शामिल हैं।’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैं छात्रों, अभिभावकों, शिक्षकों, कर्मचारियों और नेतृत्व टीम के वर्ष 2020-21 के प्रयासों के लिए सभी का आभारी हूं और अंत में स्नातक हो रहे विद्यार्थियों को बधाई देता हूं और आप सभी के भावी सफर में सफलता की कामना करता हूं।‘‘
प्रगति रिपोर्ट की प्रस्तुति के बाद एडलवाइस ग्रुप के अध्यक्ष और सीईओ श्री रशेश शाह ने स्नातक हुए जयपुरिया इंस्टीट्यूट मैनेजमेंट के सभी विद्यार्थियों को बधाई दी और कहा कि स्नातकों के लिए सुनहरा अवसर है क्योंकि टीकाकरण जिस तेजी से हो रहा है या फिर सामान्य स्थिति बहाल हो रही है उससे लगता है कि सबसे बुरा दौर गुजर गया और सबसे अच्छा आने वाला है। श्री शाह ने विद्यार्थियों को सलाह दी कि जो भी करें हर काम में दूर की सोच रखें। उन्होंने कहा कि जीवन एक मैराथन है और इसे मैराथन की दौड़ना बहुत महत्वपूर्ण है। मेरे पसंदीदा सफलता के सूत्र ‘विचार और मूल्य‘ हैं। विचार जोश भरता है और मूल्य संतुलन बनाए रखता है और ये आपको बताते हैं कि क्या करें और क्या नहीं करें। उन्होंने खास तौर से यह उल्लेख किया – ‘विचार सर्जना करता है और मूल्य सुरक्षा’। अपना सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करें और सीखें, दुबारा सीखें और सीखते रहें।
पुरस्कार समारोह में विभिन्न कैम्पस के बेस्ट स्टुडेंट की घोषणा की गई जो लखनऊ से सिबेली मुखर्जी, पीजीडीएम, 2019-21, नोएडा से ज्योति जांगिड़, पीजीडीएम (एसएम), 2019-21, जयपुर से शिल्पी शर्मा पीजीडीएम, 2019-21 और इंदौर से रवि जायसवानी, पीजीडीएम, 2019-21 हैं।
जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने संस्थान के पूर्व छात्रों को भी सम्मानित किया। लखनऊ कैम्पस के मनोज पांडे, पीजीडीएम 1997-99, निदेशक डेटा साइंस, जॉनसन एंड जॉनसन; अभिषेक पारेखः सीईओ, अटल इनक्यूबेशन सेंटर; अशोक जोशी, उपाध्यक्ष, एक्सिस बैंक; निर्मल गुप्ता, पीजीडीएम 1996-98, ग्लोबल सीएफओ, इंस्टालेशन प्रोडक्ट्स डिविजन, अटलांटा, यूएसए; विनीत टंडन, पीजीडीएम 1997-99, सह-संस्थापक, कैपिटल 9 को उनके कॉर्पोरेट करियर में उल्लेखनीय सेवाओं के लिए सम्मान दिए गए
नोएडा कैंपस के श्री रामित मक्कड़, पीजीडीएम 2004-06, मैनेजिंग पार्टनर – गुडहोप फाइनेंशियल सर्विसेज एलएलपी, इंडिया; और श्री प्रशांत शुक्ला, पीजीडीएम 2008-10, हेड, माइक्रोसॉफ्ट बिजनेस एप्लीकेशन ऑपरेशंस, ऑस्ट्रेलिया सम्मानित किए गए।
इंदौर कैम्पस के श्री गिरीश चैपले, पीजीडीएम 2016-18, मर्चेंडाइज एलोकेशन प्लानर – लैंडमार्क ग्रुप और लखनऊ कैम्पस के किशन जैनानी (उद्यमी ओरियंटेड कैटेगरी), पीजीडीएम 2010-12, सीईओ – टी कनेक्ट; प्रवीण मिश्रा (सेवा ओरियंटेड कैटेगरी), पीजीडीएम 2008-10, नेशनल मैनेजर – ब्रांडिंग एंड कम्युनिकेशन, वंडर सीमेंट्स सम्मानित किए गए।
संस्थान के अध्यक्ष श्री शरद जयपुरिया ने उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए विद्यार्थियों को पुनः बधाई दी और उनकी नई यात्रा की मंगलकामना की। उनके धन्यवाद ज्ञापन के साथ समारोह सम्पन्न हुआ।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!